जेठानी की मृत्यु पर देवरानी को अनुकंपा नियुक्ति, बवाल शुरू - MP NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश के महिला बाल विकास विभाग के अंतर्गत एकीकृत बाल विकास परियोजना पिछोर में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की मौत होने पर उसकी देवरानी को अनुकंपा नियुक्ति दे दी गई है। परियोजना अधिकारी ने ना तो दस्तावेजों का सत्यापन किया और ना ही उत्तराधिकारी से कोई संपर्क किया। अब इस नियुक्ति पर बवाल शुरू हो गया है। पद के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार का मामला है। एसडीएम ने जांच कराने का आश्वासन दिया है।

जानकारी मिली है कि वार्ड नंबर 4 में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के पद पर ममता मांझी पत्नी रवि मांझी कार्यरत थी, लेकिन 3 मई को उनकी मृत्यु हो गई। परिवार में पति सहित दो नाबालिग बच्चे हैं और परिवार आईडी 43392037 भी अलग बनी है लेकिन महिला एवं बाल विकास विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने मृत महिला कर्मचारी ममता मांझी की देवरानी पूजा पत्नी कुलदीप मांझी को उत्तराधिकारी दर्शाते हुए अनुकंपा नियुक्ति दे दी। जबकि पूजा का परिवार अलग है और उसकी परिवार आईडी 44046882 है। 

मामले की जांच कर नियुक्ति निरस्त करेंगे

मृतक कार्यकर्ता ममता मांझी के परिजन ने दस्तावेज उपलब्ध कराए थे, उसी के आधार पर देवरानी पूजा मांझी को अनुकंपा नियुक्ति दी है। यदि दस्तावेजों में त्रुटी है तो जांच कर नियुक्ति निरस्त करेंगे। अरविंद तिवारी, परियोजना अधिकारी, एकीकृत बाल विकास परियोजना पिछोर 

परियोजना अधिकारी ने दस्तावेज नहीं दिए 

जेठानी की जगह देवरानी को अनुकंपा नियुक्ति के विवाद में जब विधिवत लिखित आवेदन पत्र के साथ लोगों ने परियोजना अधिकारी अरविंद तिवारी से देवरानी पूजा मांझी के परिजनों द्वारा दाखिल किए गए दस्तावेज की प्रमाणित प्रतिलिपि मांगी तो उन्होंने देने से इनकार कर दिया। तिवारी ने दस्तावेज दिखाने से भी इंकार कर दिया।

परियोजना अधिकारी ने नियुक्ति से पहले क्या जांच की 

सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि परियोजना अधिकारी ने अनुकंपा नियुक्ति देने से पहले क्या जांच की है। अनुकंपा नियुक्ति में उत्तराधिकार के अलावा सबसे महत्वपूर्ण होता है परिवार की अनापत्ति। क्या परियोजना अधिकारी ने परिवार आईडी का सत्यापन कर लिया था। क्या परियोजना अधिकारी ने प्रस्तुत दस्तावेजों का सत्यापन किया था। जांच का प्रथम बिंदु तो यह होना चाहिए कि कहीं परियोजना अधिकारी ने रिश्वत लेकर पद का दुरुपयोग तो नहीं किया। 

जिला कार्यक्रम अधिकारी को पता ही नहीं, डिपार्टमेंट में क्या चल रहा है

मुझे प्रकरण की जानकारी नहीं है। नियुक्तकर्ता सक्षम अधिकारी परियोजना अधिकारी पिछोर है। इस मामले में गड़बड़ी के संबंध में आपसे पता चला है, इसको दिखवाता हूं।
देवेंद्र सुंदरियाल, जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग शिवपुरी

एसडीएम ने कहा, जांच करवाई जाएगी

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पद पर गलत नियुक्ति का मामला मेरे संज्ञान में नहीं है, मामला सामने आने पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी। राजन नाड़िया, एसडीएम पिछोर

04 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार


महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here