Loading...    
   


BHOPAL नाबालिग छात्रा का शव फांसी पर लटका मिला - MP NEWS

भोपाल।
राजधानी भोपाल के एमपी नगर थाना क्षेत्र में 17 साल की एक नाबालिग छात्रा ने फांसी लगाकर सुसाइड  कर ली। उसकी शादी की बात चल रही थी और जल्द ही उसे एक लड़का देखने आने वाला था। हालांकि कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है, लेकिन परिजनों के बयान के बाद पुलिस इसको ही खुदकुशी का एक कारण मान रही है। का शव 

नाबालिग खुद कॉलेज में पढ़ती थी और बच्चों को भी पढ़ाती थी। फांसी लगाने के पहले उसने मां और भाईयों को पूरी तरह नॉर्मल रहते हुए घर के बाहर भेज दिया था। वह पढ़ने में होशियार भी थी। एमपी नगर के अर्जुन नगर में रहने वाली 17 साल की नाहबीज खान पिता सगीर खान कॉलेज में पढ़ रही थी। वह घर पर ही बच्चों को भी पढ़ाती थी। शनिवार को भाईयों और मां के घर के बाहर जाने के बाद उसने दुपट्टे से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। उसे फांसी पर देख मां ने चिल्लाना शुरू कर दिया। आसपास के लोग भी वहां पहुंच गए। उन्होंने चाकू से दुपट्टे को काटा और लड़की को बचाने की कोशिश की। उसे लेकर अस्पताल भी पहुंचे, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।
 
अस्पताल की सूचना पर पुलिस ने शव को कस्टडी में लेते हुए उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मामले की जांच कर रहे एएसआई आनंद सिंह ने बताया कि मृतका के घर से किसी तरह का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। आज परिजनों के बयान लिए हैं। उन्होंने बताया कि नाहबीज की मौसी से उसके लिए एक लड़का देखा था। कुछ दिन में ही उस देखने के लिए एक लड़का आने वाला था। हालांकि उसने कभी इसको लेकर अपना विरोध नहीं जताया था।

एएसआई सिंह के अनुसार नाहबीज तीन भाइयों में सबसे छोटी थी। सबसे बड़ा वाला भाई 22 साल का है। उसके पिता की करीब 6 साल पहले मौत हो चुकी थी। तीनों भाई प्राइवेट जॉब करते हैं। वह भी पढ़ाई के साथ ट्यूशन लेती थी। शनिवार सुबह उसने तीनों भाइयों के लिए टिफिन मनाया। नाश्ता करने और टिफिन लेने के बाद भाई अपने काम पर चले गए।

दोपहर बाद मां की कुछ तबीयत खराब हो रही थी, तो उन्होंने बेटी से अस्पताल चलने को कहा। नाहबीज ने कहा कि पास ही क्लीनिक है। आप वहां चली जाएं। मैं अभी घर पर ही हूं। करीब 30 मिनट बाद मां घर पहुंची, तो दरवाजा अंदर से बंद था। उन्होंने एक बच्चे की मदद से किसी तरह अंदर से दरवाजे की से कुंडी खुलवाई। अंदर पहुंचने पर बेटी को फंदे देखने के बाद वे चीखने लगी।

26 अक्टूबर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

सिंघाड़े को अंग्रेजी एवं संस्कृत में क्या कहते हैं, वैज्ञानिक नाम क्या है, क्या आयुर्वेद से भी कोई रिश्ता है
शकरकंद फल नहीं है तो फिर फलाहार में क्यों खाया जाता है
आलू में ऐसा क्या है जो व्रत, त्यौहार और सामान्य दिनों में समान रूप से खाया जाता है, शाकाहारी और मांसाहारी सबको पसंद आता है
दिग्विजय सिंह के घर में बहू पहले आई, सास बाद में: मंत्री गिर्राज दंडोतिया
लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी होल्डर के लिए सुप्रीम कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला
काशीफल: जिसके नर पुष्प और मादा पुष्प अलग-अलग होते हैं
BF से जाति छुपाकर लवमैरिज कर ली थी, मकान मालिक ने ब्लैकमेल करके 2 साल तक रेप किया
इमरती देवी का "पार्टी जाए भाड़ में" वीडियो वायरल, कांग्रेस के लिए शुभ शनिवार
मंत्री प्रद्युम्न सिंह का कांग्रेस नेता की चरण वंदना करते वीडियो वायरल
लौकी, सब्जी है या फल, अंग्रेजी में पूरा नाम क्या है, म्यूजिक में लौकी का उपयोग क्या है
उपचुनाव नहीं जीते तो मुझे झोला टांगना पड़ेगा: शिवराज सिंह चौहान
नवोदय विद्यालय में एडमिशन के लिए नोटिफिकेशन जारी
1000 कदम पैदल चलने से मोटापा कम नहीं होता, 1964 से दुनिया भ्रम में है
कलेक्टर ने माता को मदिरा चढ़ाई, भैरव को सिगरेट
लड़कियों की शादी की उम्र सुप्रीम कोर्ट में तय करने की मांग
MPPSC OBC आरक्षण: हाईकोर्ट ने डॉ. आनंद सोनी की याचिका खारिज कर दी
CM ने इंदौर कलेक्टर से कहा: साक्षी के इलाज में कोई कसर मत छोड़ना
DABRA में कांग्रेस प्रत्याशी और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प, क्रॉस केस दर्ज
BF पर भरोसा कर बैठी NRI की बेटी रेप का शिकार
मध्यप्रदेश में कमलनाथ कांग्रेस की क्या स्थिति है, सत्ता में आने के लिए कितनी सीटें चाहिए
उपचुनाव में कमलनाथ कांग्रेस पर कलंक
बच्चों को चोट लग जाए तो शक्कर या चॉकलेट क्यों खिलाते हैं, सिर्फ चुप कराने के लिए या मेडिकल साइंस की कोई ट्रिक है
विश्वासघाती के खिलाफ कौन सा मामला दर्ज होता है कितनी सजा मिलती है, ध्यान से पढ़िए
मध्य प्रदेश उपचुनाव के लिए वोटिंग शुरू, वोट डलवाने घर-घर आ रहे हैं चुनाव आयोग के कर्मचारी
दशहरा के दिन यह तीन चीजें दिख गईं, समझो किस्मत चमक गई


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here