Loading...    
   


भोपाल रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को 4 तरह डिस्पोजेबल लिनेन किट मिलेंगी / BHOPAL NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी अब जबलपुर की तरह रेलवे स्टेशन पर डिस्पोजेबल चादर, कंबल और तकिया कवर मिलने लगेंगे। रेल यात्रियों को कोरोना से बचाने के लिए डिस्पोजेबल लिनेन किट (चादर, कंबल, तौलिया का सेट) देने की तैयारी कर रहा है। एक किट की कीमत 50 रुपये से लेकर 250 रुपये तक होगी।  

कुछ समय पूर्व ही में यह व्यवस्था जबलपुर रेलवे स्टेशन पर चालू कर दी गयी है। सबसे पहले दानापुर रेल मंडल ने यह सुविधा दी है। दरअसल, कोरोना संक्रमण के बाद से रेलवे ने ट्रेन के अंदर पुनः धुलकर उपयोग की जाने वाली चादर, कंबल, तौलिया कवर देना बंद कर दिया है। इनसे संक्रमण का खतरा था। रेलवे ने इसी खतरे को देखते हुए एसी कोचों से परदे भी हटा दिए थे।

रेलवे ये किट भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्मों पर बने स्टॉलों में उपलब्ध कराएगा। आने वाले समय में ट्रेन के अंदर भी ये किट मिलेंगे। रेलवे बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि यह व्यवस्था सभी रेल मंडलों में की जानी है। ऐसा करने से इच्छुक यात्री सफर के दौरान किट खरीद सकेंगे। यात्रा पूरी होने पर चादर, कंबल, तौलिया को प्लेटफॉर्मों पर उपलब्ध डस्टबिन में डालना होगा।


लिनेन किट के प्रकार और कीमत हैं इनमें से किसी भी किट को यात्री अपनी क्षमता के अनुरूप खरीद सकेंगे।


पहला किटः 
इसमें एक बेडशीट, एक मास्क, एक सैनिटाइजर होगा। कीमत 50 रुपये होगी।

दूसरी किट 
इसमें एक बेडशीट, एक मास्क, एक सैनिटाइजर व एक तकिया होगी। कीमत 100 रुपये है।

तीसरी किटः 
इसमें एक बेडशीट, एक मास्क, एक सैनिटाइजर, एक कंबल होगा। कीमत 200 रुपये है।

चौथी किटः 
इसमें एक बेड शीट, एक मास्क, एक सैनिटाइजर, एक कंबल व एक तकिया होगी। कीमत 250 रुपये है।

कोशिश कर रहे हैं कि डिस्पोजेबल चादर, कंबल व तौलिया कवर वाले किट भोपाल स्टेशन पर भी जल्दी उपलब्ध हो जाएं। इसके लिए व्यवस्थाएं की जा रही है। डस्टबिन आदि का भी इंतजाम करना पड़ेगा। क्योंकि उपयोग किए गए चादर, कंबल व तौलिया कवर का निपटान भी जरूरी है।
- आईए सिद्दीकी, प्रवक्ता भोपाल रेल मंडल

10 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

इंदौर में BF संग लिव इन में रह रही लड़की ने सुसाइड किया, प्रेमी के खिलाफ केस दर्ज
ज्यादातर जानवर पेट के बल सोते हैं तो फिर इंसान पीठ के बल क्यों सोता है
मध्य प्रदेश में 13000 सरकारी स्कूलों को हमेशा के लिए बंद करने की तैयारी
ग्वालियर में पुलिस का गोपनीय पत्र सोशल मीडिया पर वायरल
देवपूजा वाली घंटी गोल क्यों होती है, चौकोर क्यों नहीं होती
BSNL का फाइबर 499 रुपए में सब कुछ अनलिमिटेड
कांग्रेस पार्टी में मेरी योग्यता नहीं जाति पूछी गई: पूर्व IAS शशि कर्णावत
कुत्ते अपनी दुम हिलाते-दबाते क्यों हैं, मक्खी भगाते हैं या कोई संकेत देते हैं
यदि किसी के पास खोटे बांट या तराजु मिल जाए तो उसका क्या होगा
भारत में स्टेप बाय स्टेप स्कूल खोलने की तैयारी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here