KHANDWA BJP- हर्षवर्धन को शिवराज और अर्चना चिटनिस को पार्टी पर भरोसा

भोपाल
। मध्य प्रदेश की खंडवा लोकसभा सीट पर उपचुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणाओं का सिलसिला दो स्वर्गीय सांसद नंदकुमार सिंह चौहान की श्रद्धांजलि के साथ ही शुरू कर दिया था। कांग्रेस पार्टी की ओर से अरुण यादव मैदान में है। भारतीय जनता पार्टी की ओर से नंदू भैया के चिरंजीव हर्षवर्धन सिंह चौहान और वरिष्ठ महिला नेता अर्चना चिटनिस के नाम सामने आए हैं। 

हर्षवर्धन सिंह चौहान कोई गलती नहीं करना चाहते

भारतीय जनता पार्टी के सूत्रों का कहना है कि हर्षवर्धन सिंह और अर्चना चिटनिस दोनों अपने अपने स्तर पर आश्वस्त हैं। हर्षवर्धन सिंह चौहान को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भरोसा है। नंदू भैया और शिवराज सिंह चौहान की दोस्ती जग जाहिर है। हर्षवर्धन सिंह चौहान एक्टिव नहीं है बल्कि इस बात का ध्यान रख रहे हैं कि उनसे कोई गलती ना हो जाए। उल्लेखनीय है कि हर्षवर्धन सिंह चौहान थोड़े गर्म मिजाज के युवा हैं। संगठन की दृष्टि से भारतीय जनता युवा मोर्चा में प्रदेश कार्यसमिति सदस्य हैं।

अर्चना चिटनिस को संगठन पर भरोसा, सुमित्रा ताई का विकल्प

इधर भाजपा की वरिष्ठ महिला नेता अर्चना चिटनिस को संगठन पर भरोसा है। इंदौर में सुमित्रा ताई के वॉलंटरी रिटायरमेंट के बाद अर्चना चिटनिस पार्टी में उनका विकल्प बनने की कोशिश कर रही हैं। पिछले कुछ दिनों में काफी तेजी से सक्रिय हुई हैं। केवल बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र नहीं बल्कि पूरे खंडवा लोकसभा क्षेत्र के संपर्क में है। मध्यप्रदेश में मराठी वोटों की कमी नहीं है जो पारंपरिक रूप से भाजपा के साथ रहा है। मतदाताओं को बांधे रखने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया या यशोधरा राजे सिंधिया उचित नाम नहीं है। इसलिए अर्चना चिटनिस को संगठन पर पूरा विश्वास है। 

भाजपा में दावेदारी की परंपरा नहीं है: अर्चना चिटनीस

उपचुनाव से पहले सक्रियता के सवाल पर पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस ने कहा, नंदू भैया के न रहने से क्षेत्र को बड़ी क्षति हुई है। हम लोग पार्टी कार्यकर्ता, जनसेवक बनकर उनकी कमी को पूरा कर रहे हैं। बुरहानपुर के अलावा, खंडवा-खरगोन के कार्यकर्ता व लोग समस्या लेकर आते हैं, तो मुख्यमंत्री व संबंधित मंत्री-अफसरों से उनका निराकरण कराती हूं। रही बात उपचुनाव की, तो अरुण यादव कांग्रेस से दावेदारी जता रहे हैं। भाजपा में दावेदारी की प्रथा ही नहीं है। यहां पार्टी का हर सदस्य कार्यकर्ता बनकर काम करता है न कि दावेदार।

19 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार


महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here