Loading...    
   


किसी भी IAS ने ड्यूटी से बचने के लिए खुद को होम क्वॉरेंटाइन नहीं किया है: मध्यप्रदेश शासन | MP NEWS

भोपाल। राजधानी भोपाल में स्वास्थ्य विभाग के 3 बड़े अधिकारियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद खबर है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा करीब 14 अधिकारियों ने खुद को क्वॉरेंटाइन कर लिया है। इस बीच एक अफवाह यह भी उड़ी कि अधिकारियों ने कोरोनावायरस की इमरजेंसी ड्यूटी से बचने के लिए खुद को क्वॉरेंटाइन किया है। मध्यप्रदेश शासन की ओर से सचिव जनसंपर्क श्री पी नरहरि ने इस संदर्भ में स्पष्टीकरण दिया है। उन्होंने दावा किया है कि किसी भी आईएएस ने ड्यूटी से बचने के लिए खुद को होम क्वॉरेंटाइन नहीं किया है।

सेकंड लाइन का अधिकारी तैनात होगा, काम नहीं रुकेगा

सचिव जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने सोशल मीडिया पर प्रदेश के विभाग प्रमुख अधिकारियों की जगह अन्य अधिकारियों की तैनाती की सूची के तारतम्य में कहा है कि सोशल मीडिया में भ्रामक जानकारी फैलायी जा रही है। श्री नरहरि ने स्पष्ट किया है कि राज्य शासन द्वारा भारत सरकार के निर्देशों के अन्तर्गत आईसीएमआर गाइड लाइन के मुताबिक यह तैयारी की जा रही है कि अगर वर्तमान में पदस्थ विभाग प्रमुख अचानक बीमार हो जायें अथवा 24 घंटे में अत्याधिक कार्य की वजह से अस्वस्थ हो जाए या किसी अन्य कारण से उनकी उपलब्धता संभव नहीं हो, तो ऐसी स्थिति में उनके स्थान पर आवश्यकतानुसार सेकंडलाइन में अन्य अधिकारी की तैनाती की जा सके। 

सभी अधिकारी पूरी गंभीरता से अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे हैं

श्री नरहरि ने कहा है कि प्रदेश में किसी भी विभाग प्रमुख अधिकारी ने दायित्वों से बचने के लिये अपने आप को क्वारेन्टाइन नहीं किया है। सभी अधिकारी पूरी गंभीरता से अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे हैं। सचिव श्री नरहरि ने मीडिया से आग्रह किया है कि कोरोना वायरस की महामारी की रोकथाम में सकारात्मक भूमिका निभाएं, भ्रामक जानकारी के प्रसार से बचें, महामारी से निपटने के लिये सरकर को अपना बहुमूल्य सहयोग प्रदान करें। 

कोरोना संक्रमण रोकने सभी विभागों में वैकल्पिक इंतजाम

श्री नरहरि ने कहा है कि इस महामारी की रोकथाम के लिये राज्य सरकार द्वारा युद्ध स्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं। इसके बावजूद महामारी पर पूर्ण नियंत्रण कायम करने में लगने वाले समय को निश्चित नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि इस स्थिति को ध्यान में रखकर राज्य सरकार द्वारा तैनात अधिकारियों की विपरीत परिस्थिति में अनुप्लब्धता होने पर वैकल्पिक व्यवस्था के लिये कार्य किया जा रहा है। ऐसी व्यवस्था ऐसी सभी विभागों में की जा रही है जिसमें करोना वाइरस महामारी के तारतम्य में काम हो रहा है।

03 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी गईं खबरें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here