GWALIOR NEWS- बिजली वाले, बकाएदार को उसी के घर में कैद करके चले गए

ग्वालियर
। मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर बिजली के तार ठीक करने के लिए खंबे पर चढ़ जाते हैं परंतु उन्हीं के शहर में बिजली वाले एक बकाएदार के घर को उस समय सील करके चले गए जबकि वह व्यक्ति अपने घर के अंदर मौजूद था। लोगों ने ऊर्जा मंत्री को फोन पर बताया परंतु अपने अधिकारियों की कारगुजारी देखने के लिए मंत्री जी नहीं आए ना ही किसी को भेजा। नियम अनुसार किसी भी संपत्ति की सीलिंग से पहले यह सुनिश्चित करना होता है कि घर के अंदर कोई इंसान अथवा जानवर तो नहीं है।

बिजली वालों की टीम CBI की तरह आई और मकान सील करके चली गई

मामला किसी गांव का नहीं बल्कि ग्वालियर शहर का है। कंपू जोन स्थित चना कोठार में जितेन्द्र सिंह तोमर रहते हैं। बिजली का मीटर महाराज सिंह के नाम पर है। उसी नाम से बिजली का बिल आता है। 1 लाख 75 हजार 505 रुपए का बिजली का बिल बकाया था। बिजली कंपनी के कई बार नोटिस देने के बाद भी बिल का भुगतान नहीं हो रहा था। गुरुवार को डिफाल्टर महाराज सिंह के मकान पर कुर्की करने के लिए बिजली विभाग की टीम AE कंपू जोन महेश कोली के नेतृत्व में पहुंची थी। यहां टीम ने पहले मकान पर कुर्की का नोटिस चिपकाया और उसे बाहर से सील कर दिया। इसके बाद टीम वहां से चली आई। आसपास के लोगों का कहना है कि उन्होंने मकान सिंह कर रहे लोगों को बताया था कि घर के अंदर मकान मालिक सो रहा है लेकिन अधिकारियों ने किसी की बात पर ध्यान नहीं दिया।

सोशल मीडिया पर वीडियो डाला तब अधिकारी वापस आए

जब बिजली विभाग की टीम मकान को सील कर चली गई तो उसके करीब 15 मिनट बाद मकान में रहने वाला जितेंद्र तोमर चिल्लाने लगा। शोर सुनकर मोहल्ले के लोग इकट्ठा हो गए। माजरा समझ में आने के बाद उन लोगों ने बिजली कंपनी के अधिकारियों को फोन लगाया लेकिन कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। स्थानीय निवासी एवं समाजसेवी संतोष राठौर ने घर के अंदर बंद जितेंद्र के वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिए। 

सीढ़ी लगाकर दूसरी मंजिल से नीचे उतारा

उन्होंने ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और क्षेत्रीय विधायक प्रवीण पाठक को भी फोन किया। फिर काफी मशक्कत के बाद बिजली कंपनी का स्टाफ गाड़ी लेकर वापस वहां पहुंचा। अधिकारियों का कहना था कि मकान सील किया जा चुका है इसलिए दरवाजा नहीं खोल सकते। पीछे से सीढ़ियां लगाकर दूसरी मंजिल पर फंसे जितेंद्र को घर से बाहर निकाला।

हमने तो आवाज लगाई थी, किसी ने जवाब नहीं दिया: AE महेश कोली

स्थानीय लोगों की बात माने तो जितेन्द्र कुर्क किए मकान में करीब दो घंटे तक फंसा रहा। पर हैरत इस बात की है कि कुर्की करने के दौरान ऐसी किसी भी घटना से बिजली कंपनी के अधिकारी इनकार कर रहे हैं। AE महेश कोली ने कहा कि कुर्की के दौरान वह खुद मौजूद थे। घर को सील करने से पहले 10 मिनट तक वहां आवाज लगाकर पूछा गया कि घर में कोई तो नहीं है। इसके बाद घर को सील करने की कार्रवाई की गई है। कौन फंसा था और कैसे वह उन्हें नहीं पता। 

23 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP CORONA NEWS- सभी सरकारी ऑफिस सप्ताह में 2 दिन लॉकडाउन रहेंगे
EMPLOYEE NEWS- पेंशनभोगियों को 28% महंगाई राहत के आदेश जारी
गुरु पूर्णिमा कब मनाई जाएगी, 23 को या 24 जुलाई को - GURU PURNIMA 2021 ACTUAL DATE
MP NEWS- 52000 गांव, 312 जनपद और 52 जिलों में पंचायत का काम ठप, कर्मचारी हड़ताल पर
MP NEWS- आधे कर्मचारियों को छुट्टी पर भेजने की तैयारी, फरलो योजना और फार्मूला 20-50 एक साथ लांच करने का आइडिया
MP NEWS- बिजली कंपनी में बिल वसूली एजेंट की भर्ती सूचना
MP NEWS- चयनित शिक्षकों को नियुक्ति के लिए नई तारीख
UJJAIN में साधुओं के 800 साल पुराने कंकाल मिले, इल्तुतमिश ने नरसंहार करवाया था
मध्य प्रदेश सिविल सेवाएं फरलो योजना 2002 क्या है, नियम एवं शर्तें - What is MP furlough scheme 2002

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiइंसान को शेर कहना शान और गधा कहना अपमान क्यों माना जाता है 
गुरु पूर्णिमा: राशि के अनुसार मंत्र एवं गुरु को किस रंग के वस्त्र भेंट करें, यहां पढ़िए
GK in HindiRefresh करने पर क्या कंप्यूटर फिर से तरोताजा हो जाता है
GK in Hindi- खतरे का रंग लाल क्यों होता है काला क्यों नहीं
GK in Hindiपुष्पक विमान किस ईंधन से चलता था, पेट्रोल और बैटरी तो उस समय होते नहीं थे
GK in Hindiआवारा गाय सड़क के बीच क्यों बैठतीं हैं, क्या सुसाइड करना चाहतीं हैं 
GK in Hindi- मादा कोयल की आवाज मधुर नहीं होती, वह तो अपराधी होती है
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here