Loading...    
   


हमारा घर हमारा विद्यालय के कारण संक्रमित हुए शिक्षक की मौत / EMPLOYEE NEWS

भोपाल। जैसे कि पहले ही दिन से आशंका जताई जा रही थी, राज्य शिक्षा केंद्र की 'हमारा घर हमारा विद्यालय' योजना जानलेवा साबित हुई। मध्यप्रदेश के अशोकनगर में प्राथमिक शिक्षक श्री संजीव रघुवंशी उम्र 45 साल की कोरोनावायरस से संक्रमित हो जाने के कारण मृत्यु हो गई।

श्री संजीव रघुवंशी (उम्र 45 वर्ष) के साथियों ने बताया कि श्री रघुवंशी शाढ़ौरा तहसील के ग्राम पहाड़ा जिला अशोकनगर में प्राथमिक शिक्षक के रूप में पदस्थ थे। हमारा घर हमारा विद्यालय योजना के तहत उनकी ड्यूटी लगाई गई थी। श्री रघुवंशी घर-घर जाकर पुस्तकों का वितरण कर रहे थे एवं 5-5 विद्यार्थियों को एक जगह पर एकत्रित करके पढ़ाई करवा रहे थे। इसी प्रक्रिया के दौरान वह संक्रमित हो गए और आज उनकी कोरोनावायरस के कारण मृत्यु हो गई है।

शिक्षकों में आक्रोश, 5000000 रुपए मुआवजे की मांग 

श्री रघुवंशी की मृत्यु के बाद मध्य प्रदेश के शिक्षकों में भारी आक्रोश दिखाई दे रहा है। सोशल मीडिया पर श्री संजीव रघुवंशी के परिजनों को, कोरोना योद्धाओं के लिए निर्धारित किया गया 5000000 रुपए मुआवजा एवं परिजनों को बिना शर्त (बिना B.Ed) अनुकंपा नियुक्ति देने की मांग की जा रही है। 

जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग

इसके अलावा राज्य शिक्षा केंद्र के उन अधिकारियों के खिलाफ राष्ट्रीय आपदा अधिनियम एवं आईपीसी की धारा 270 के तहत प्रकरण दर्ज करने की मांग की जा रही है जिन्होंने शासकीय विद्यालय में अध्यापन कार्य के लिए नियुक्त श्री संजीव रघुवंशी को संक्रमित लोगों के बीच जाकर पुस्तकें वितरित करने और बच्चों को पढ़ाने के लिए बाध्य किया। राष्ट्रीय आपदा अधिनियम में ऐसा प्रावधान है कि यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को गलत जानकारी देकर या फिर बलपूर्वक संक्रमित क्षेत्र में या फिर संक्रमित व्यक्तियों के बीच जाने के लिए बाध्य करता है, तो ऐसा व्यक्ति महामारी के लिए जिम्मेदार मानते हुए अपराध माना जाएगा।

27 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ग्वालियर में लड़की ने ब्लैकमेलर को मां का ATM और गहने तक दे दिए फिर भी नहीं माना 
मध्य प्रदेश के 38 जिलों में 5 दिन लगातार बारिश की संभावना 
ट्रैक्टर का साइलेंसर ऊपर की ओर क्यों होता है, कार की तरह पीछे, ट्रक की तरह साइड में क्यों नहीं 
जानिए, रत्ती में ऐसा क्या है जो हीरे-जवाहरात के लिए डिजिटल तराजु के बजाए उस पर भरोसा करते हैं 
दुनिया का पहला पिगी बैंक कहां बना, क्या सूअर बचत का प्रतीक होता है 
AIRTEL 52.6 लाख और VODAFONE-IDEA को 45.1 लाख यूजर्स का घाटा, JIO मुनाफे में
मिस्र देश की रानियां कभी बूढ़ी क्यों नहीं होती थी, क्या उनके पास कोई फार्मूला था


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here