Loading...    
   


बड़ी खबर: Unacademy के 2 करोड़ छात्र-छात्राओं की पर्सनल जानकारी लीक / NATIONAL NEWS

Unacademy data safe or not

नई दिल्ली। भारत के सबसे बड़े ऑनलाइन लर्निंग प्लैटफॉर्म Unacademy के 2.2 करोड़ छात्र-छात्राओं का डाटा लीक हो गया है। इसमें उनके क्रेडेंशियल सहित ईमेल एड्रेस भी शामिल है। सभी छात्र-छात्राओं की पर्सनल जानकारी मात्र ₹150000 में बेच दी गई। खरीदने वाले इसका क्या उपयोग और दुरुपयोग करेंगे यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा परंतु अनअकैडमी से जुड़े हुए छात्र छात्राओं को तत्काल सावधान हो जाने की जरूरत है। बेहतर होगा वह अपने ईमेल और सोशल मीडिया अकाउंट्स के पासवर्ड चेंज कर लें।

छात्र-छात्राओं की डीटेल्स को डार्क वेब बेचा गया

साइबर सिक्यॉरिटी एजेंसी Cyble Inc. ने इस डेटा लीक की जानकारी दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन डीटेल्स को डार्क वेब पर सेल के लिए भी उपलब्ध करा दिया गया है। कुछ दिन पहले ही Cyble की रिसर्च टीम को डार्क वेब पर अनअकैडमी का डेटाबेस मिला। रिसर्चर्स को डेटाबेस का जो बैच मिला उसमें 2.2 करोड़ अनअकैडमी यूजर्स का डेटा मौजूद था जिसो 2000 डॉलर (करीब 1.52 लाख रुपये) में बेचा जा रहा था। लीक डेटा में यूजरनेम के अलावा ईमेल अड्रेस, हैश पासवर्ड, जॉइनिंग या पिछली लॉगइन डेट के अलावा और भी कई डीटेल शामिल थे।

बड़ी कंपनियों के एंप्लॉयीज का डेटा लीक

सिक्यॉरिटी रिसर्च फर्म Cyble और BleepingComputer ने लीक डेटा की जांच की। जांच में पता चला कि इसमें विप्रो, इनफोसिस, कॉग्निजेंट, गूगल और फेसबुक में काम करने वाले कई एंप्लॉयीज का भी डेटा शामिल है। ऐसे में इन कंपनियों के कॉर्पोरेट नेटवर्क पर बड़ा खतरा मंडराने लगा है।

2.2 नहीं 1.1 करोड़ छात्र-छात्राओं का डेटा हुआ लीक: अनअकैडमी के को-फाउंडर हेमेश सिंह

इस रिपोर्ट के बाहर आने के बाद अनअकैडमी के को-फाउंडर हेमेश सिंह ने डेटा लीक की बात को सच बताया। हालांकि, उन्होंने कहा कि इस हैकिंग में 2.2 करोड़ नहीं बल्कि 1.1 करोड़ यूजर्स के डेटा की चोरी हुई है। उन्होंने कहा, '1.1 करोड़ लर्नर्स (सीखने वाले यूजर) की आम जानकारी लीक हुई है। इसमें फाइनैंशल डेटा, लोकेशन या पासवर्ड को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। हम किसी सिक्यॉरिटी से जुड़ी किसी भी खामी को पड़ने के लिए अच्छी तरह से जांच कर रहे हैं।'

26 जनवरी के बाद वाले यूजर सुरक्षित है

सिंह ने डेटा लीक की बात तो मानी, लेकिन उन्होंने इस बारे में कुछ नहीं बताया कि कैसे हैकर्स को कंपनी के सिक्यॉरिटी सिस्टम का ऐक्सेस मिला। बता दें कि लीक डेटाबेस में आखिरी रिकॉर्ड 26 जनवरी का है। फिलहाल अनअकैडमी की तरफ से और डीटेल जानकारी दिए जाने का इंतजार किया जा रहा है।

बढ़ सकती है डेटा लीक के शिकार यूजर की संख्या

चिंता की बात यह है कि Cyble ने जब हैकर्स के इस डेटालीक के बारे में जानने के लिए संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि यह डेटाबेस कंपनी के सिस्टम से चुराए गए डेटा का आधा हिस्सा है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में डेटा लीक का शिकार हुए यूजर्स की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है।

07 मई को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रहीं खबरें

इंडक्शन कुकर गर्म क्यों नहीं होता जबकि हीटर गर्म हो जाता है
यदि जबरदस्ती नशे की हालत में अपराध हो जाए तो क्या सजा से माफी मिलेगी 
पूरे भारत में आंधी-तूफान और बारिश की चेतावनी, 72 घंटे मौसम खराब रहेगा 
सोशल मीडिया पर बहन की फोटो देख भाई ने जीजा की हत्या कर दी 
मध्य प्रदेश के पंचायत विभाग ने 27 जिलों में संविदा कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी 
मध्य प्रदेश:कोरोना 35वें जिले में पहुंचा, आज 2750 में से 91 पॉजिटिव
पूरे भारत में 10वीं की परीक्षाएं रद्द: HRD भारत सरकार का ऐलान
जबलपुर में नाम के पहले अक्षर के अनुसार ऑफिस जायेंगे कर्मचारी 
शराब के बाद अब भारत में सार्वजनिक परिवहन शुरू करने की तैयारी 
ठेकेदारों और सरकार के बीच सुलह: शराब दुकानें खुल गईं, अब कोरोना की परवाह नहीं
कोरोना दहशत: पिता ने क्वॉरेंटाइन से लौटे बेटे की हत्या कर दी, ताकि गांव में किसी और को कोरोना ना हो जाए 
कमलनाथ को जवाब देना चाहिए कि वह दिग्विजय सिंह को क्यों झेलते रहे: प्रद्युम्न सिंह तोमर 
शिवराज सिंह ने कमलनाथ और जीतू पटवारी के सभी जन भागीदारी अध्यक्षों को हटाया 
जबलपुर कलेक्टर की हेयर कटिंग सोशल मीडिया पर वायरल 
मध्य प्रदेश में आबकारी के बाद आरटीओ ओपन, मैदान में तैनाती के आदेश
भोपाल के बाद एलजी गैस कांड: अब तक 8 लोगों की मौत 5000 से ज्यादा प्रभावित
ग्वालियर आउट ऑफ कंट्रोल: शराब की दुकानों के साथ पूरा बाजार भी खुल गया 
बर्फ कठोर होता है फिर पानी में डूबता क्यों नहीं, यहां पढ़िए 
अपराधी यदि आपके बच्चे को किडनैप कर आपसे घोटाला या चोरी करवाए, तो दोषी कौन माना जाएगा 
जबलपुर कलेक्टर की हेयर कटिंग सोशल मीडिया पर वायरल 
2018 में बंद किए गए शिवराज सिंह के फोटो वाले संबल योजना कार्ड फिर से एक्टिव 
पदोन्नति से वंचित शिक्षकों को है पदनाम की दरकार, मंत्रिमंडल के विस्तार पर निगाहें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here