Loading...    
   


भ्रष्ट नौकरशाह (IAS-IPS) सस्पेंड हुए तो अपील के बाद बहाल नहीं हो पाएंगे, संशोधन / NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। अखिल भारतीय सेवाओं (अनुशासन एवं अपील) नियम, 1969 में बड़ा संशोधन होने जा रहा है। प्रस्तावित संशोधन के अनुसार यदि कोई ब्यूरोक्रेट (IAS-IPS-IFS) भ्रष्टाचार के मामले में निचली अदालत से दोषी ठहराया गया तो उसे तत्काल सस्पेंड कर दिया जाएगा और उसकी सेवाएं तब तक बहाल नहीं की जाएंगी जब तक कि वह उच्च स्तरीय अदालत से निर्दोष साबित ना हो जाए। अब तक उच्च स्तरीय अदालत में फैसले के खिलाफ अपील कर देने के बाद नौकरशाह को बहाल कर दिया जाता था।

कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (DOPT) ने इस संबंध में अखिल भारतीय सेवाओं (अनुशासन एवं अपील) नियम, 1969 में संशोधन करने का फैसला किया है। यह भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय वन सेवा (IFS) अधिकारियों पर लागू होगा।

सजायाफ्ता ब्यूरोक्रेट्स उच्चस्तरीय कोर्ट से निर्दोष साबित होने तक सस्पेंड रहेंगे

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'कार्मिक मंत्रालय ने सेवा नियमों में बड़ा बदलाव करने का फैसला किया है ताकि अखिल भारतीय सेवा के भ्रष्ट अधिकारियों को सरकार में वापस आने की अनुमति न मिले। प्रस्ताव के मुताबिक, ऐसे अधिकारियों के मामलों की समीक्षा समिति द्वारा समीक्षा नहीं की जाएगी अगर उन्हें अदालत से दोषी ठहराया गया है। इसका मतलब है कि ऐसे अधिकारी तब तक अनिश्चितकाल के लिए निलंबित रहेंगे जब तक कि बड़ी अदालत का आदेश उनके पक्ष में नहीं आ जाता।'

DOPT ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों से प्रतिक्रियाएं मांगी है

इस संबंध में डीओपीटी ने केंद्रीय गृह मंत्रालय और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय को पत्र लिखा है जो क्रमश: IPS और IFS अधिकारियों के काडर नियंत्रण प्राधिकारी हैं। साथ ही सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को भी पत्र लिखकर इस प्रस्ताव पर उनकी टिप्पणियां मांगी गई हैं। इसके लिए उन्हें 15 मई तक का वक्त दिया गया है। अगर तब तक किसी राज्य का जवाब नहीं मिला तो मान लिया जाएगा कि उसे प्रस्तावित संशोधन पर कोई एतराज नहीं है।

वर्तमान में क्या नियम है

वर्तमान नियमों के तहत, शुरुआत में निलंबन आदेश 60 दिन (दो महीने) का होगा और उसे एक बार में 120 दिनों (चार महीने) के लिए बढ़ाया जा सकता है। संबंधित समीक्षा समिति की सिफारिश पर सक्षम प्राधिकारी निलंबन आदेश की समीक्षा भी कर सकता है।

29 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

कार की स्टीयरिंग बीच सेंटर में क्यों नहीं होती, साइड क्यों होती है
yesterday और tomorrow को हिंदी में 'कल' क्यों बोलते हैं, दो अलग-अलग शब्द क्यों नहीं
क्या LAPTOP को बिस्तर पर रखकर चलाने से वह जल्दी खराब हो जाता है, यहां पढ़िए 
बस एक महीना और, सब सामान्य हो जाएगा: इंदौर कलेक्टर 
ग्वालियर में शादी के लिए नए नियम जारी, दूल्हा और दुल्हन अलग-अलग गाड़ियों में जाएंगे
इंदौर: 31 नए पॉजिटिव, टोटल 1207, हाई कोर्ट जज सहित 40 क्वॉरेंटाइन 
ब्रेकिंग! भिड़े की बेटी सोनू का अफेयर टप्पू से नहीं गोली से चल रहा है!
मध्य प्रदेश: 75 नए पॉजिटिव, टोटल 2165, 27वां जिला संक्रमित 
लॉकडाउन में अहमदाबाद से पैदल-पैदल इंदौर पहुंचे 20 लोग 
बहन की मदद के लिए आई युवती का देवर ने दुष्कर्म कर गर्भपात कराया 
प्रधानमंत्री ने लॉक डाउन की चाबी मुख्यमंत्रियों को सौंपी 
कांग्रेस विधायक ने लॉकडाउन में किसानों की सभा करके मुख्यमंत्री को गंदी गालियां दी 
30 अप्रैल को रिटायर हो रहे कर्मचारियों को संविदा नियुक्ति के आदेश
मध्यप्रदेश में कोरोना के मरीजों को आनंद आएगा: सीएम शिवराज सिंह 
डिंडोरी में ताबड़तोड़ फायरिंग की तरह गिरे ओले, दीवारों पर ऐसे निशान जैसे कश्मीर में गोलियों के होते हैं (चौंकाने वाला वीडियो दखें) 
मध्य प्रदेश के कर्मचारियों से कोरोना के नाम पर कोई कटौती ना की जाए: संयुक्त मोर्चा
SC-ST के धनाढ्य लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलना चाहिए: सुप्रीम कोर्ट
INDORE से आकर BHOPAL में छुपी युवती, उसके पिता और दो भाइयों के खिलाफ कोरोना का मामला दर्ज
शिवराज सिंह चौहान फोटो प्रेम के कारण जमकर ट्रोल हो रहे हैं
डिंडोरी में ताबड़तोड़ फायरिंग की तरह गिरे ओले, दीवारों पर ऐसे निशान जैसे कश्मीर में गोलियों के होते हैं (चौंकाने वाला वीडियो दखें)
मोदीजी ने कोरोना से बचने मास्क के बजाय गमछा को प्रमोट क्यों किया, खुद को देसी बताने या बड़ा लॉजिक है
IAS बनना कोई रॉकेट साइंस नहीं है: निशांत जैन 13th रैंक ने कहा
ग्वालियर में शादी के लिए नए नियम जारी, दूल्हा और दुल्हन अलग-अलग गाड़ियों में जाएंगे


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here