Loading...    
   


प्रेमचंद गुड्डू घर वापस आएंगे, तुलसी सिलावट के खिलाफ हाथ आजमाएंगे / MP NEWS

भोपाल। दुनिया भर में शायद मध्यप्रदेश अकेला ऐसा राज्य होगा जहां महामारी यानि साक्षात मृत्यु के बीच बचाव के साथ-साथ चुनाव की तैयारियां भी चल रही है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तुलसी सिलावट को मंत्री तो बनवा दिया लेकिन आप चुनाव जितवा ना आसान नहीं होगा। बताया जा रहा है कि दंगल के पुराने पहलवान प्रेमचंद गुड्डू को घर वापस लाने की तैयारियां जोर शोर से चल रही है। अधिसूचना जारी होने से पहले दोनों पहलवान मैदान में धूल उड़ाते नजर आएंगे। 

भोपाल के वरिष्ठ पत्रकार श्री रवींद्र कैलासिया की एक रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस से नाराज होकर भारतीय जनता पार्टी में गए प्रेमचंद गुड्डू अब तक भाजपा में एडजस्ट नहीं हो पाए हैं। उन्हें घर की याद सता रही है। मौका कुछ ऐसा है कि कांग्रेस पार्टी को भी प्रेमचंद गुड्डू की काफी जरूरत महसूस हो रही है क्योंकि तुलसीराम सिलावट के सामने मुकाबला करने के लिए कांग्रेस पार्टी के पास फिलहाल कोई दमदार नाम नहीं है।

प्रेमचंद गुड्डू कांग्रेस छोड़कर भाजपा में क्यों गए थे

मालवा के नेता प्रेमचंद गुड्डू इंदौर के सांवेर तथा आगर-मालवा से दो बार विधायक रहे हैं। वे उज्जैन संसदीय सीट से एक बार सांसद भी रहे। गुड्डू की छवि दबंग नेता के रूप में रही है। उन्होंने 2013 में अपने पुत्र अजीत बौरासी को आलोट से टिकट दिलाने के लिए काफी प्रयास किए थे, लेकिन AICC ने अधिकृत प्रत्याशी दूसरे नेता को बना दिया था। मगर बी-फार्म में अजीत बौरासी का नाम होने से अंतिम समय में गुड्डू के बेटे को ही कांग्रेस का प्रत्याशी बनाया गया। इसके बाद 2018 में भी गुड्डू ने टिकट के लिए काफी प्रयास किए और जब आखिर समय तक नाम घोषित नहीं हुआ तो वे भाजपा में चले गए थे। इन दोनों घटनाक्रमों से उनके विरोधियों ने हाईकमान के सामने उनकी छवि बिगाड़ दी थी।

कमलनाथ पसंद नहीं करते लेकिन मजबूर हैं

भाजपा में जाने के बाद जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन गई तो प्रेमचंद गुड्डू ने वापसी के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के माध्यम से प्रयास किए। उस समय सिंधिया समर्थक तुलसीराम सिलावट और कमल नाथ समर्थक सज्जन सिंह वर्मा ने विरोध किया था। आज परिस्थितियां बदल गई हैं। सिलावट खुद भाजपा में हैं और वे उपचुनाव में सांवेर से भाजपा प्रत्याशी बनाए जा रहे हैं। लिहाजा कांग्रेस को उनके खिलाफ टक्कर का प्रत्याशी नहीं मिल रहा है।

28 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

कार की स्टीयरिंग बीच सेंटर में क्यों नहीं होती, साइड क्यों होती है
yesterday और tomorrow को हिंदी में 'कल' क्यों बोलते हैं, दो अलग-अलग शब्द क्यों नहीं
क्या LAPTOP को बिस्तर पर रखकर चलाने से वह जल्दी खराब हो जाता है, यहां पढ़िए 
बस एक महीना और, सब सामान्य हो जाएगा: इंदौर कलेक्टर 
ग्वालियर में शादी के लिए नए नियम जारी, दूल्हा और दुल्हन अलग-अलग गाड़ियों में जाएंगे
इंदौर: 31 नए पॉजिटिव, टोटल 1207, हाई कोर्ट जज सहित 40 क्वॉरेंटाइन 
ब्रेकिंग! भिड़े की बेटी सोनू का अफेयर टप्पू से नहीं गोली से चल रहा है!
मध्य प्रदेश: 75 नए पॉजिटिव, टोटल 2165, 27वां जिला संक्रमित 
लॉकडाउन में अहमदाबाद से पैदल-पैदल इंदौर पहुंचे 20 लोग 
बहन की मदद के लिए आई युवती का देवर ने दुष्कर्म कर गर्भपात कराया 
प्रधानमंत्री ने लॉक डाउन की चाबी मुख्यमंत्रियों को सौंपी 
कांग्रेस विधायक ने लॉकडाउन में किसानों की सभा करके मुख्यमंत्री को गंदी गालियां दी 
30 अप्रैल को रिटायर हो रहे कर्मचारियों को संविदा नियुक्ति के आदेश
मध्यप्रदेश में कोरोना के मरीजों को आनंद आएगा: सीएम शिवराज सिंह 
डिंडोरी में ताबड़तोड़ फायरिंग की तरह गिरे ओले, दीवारों पर ऐसे निशान जैसे कश्मीर में गोलियों के होते हैं (चौंकाने वाला वीडियो दखें) 
मध्य प्रदेश के कर्मचारियों से कोरोना के नाम पर कोई कटौती ना की जाए: संयुक्त मोर्चा
SC-ST के धनाढ्य लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलना चाहिए: सुप्रीम कोर्ट
INDORE से आकर BHOPAL में छुपी युवती, उसके पिता और दो भाइयों के खिलाफ कोरोना का मामला दर्ज
शिवराज सिंह चौहान फोटो प्रेम के कारण जमकर ट्रोल हो रहे हैं
डिंडोरी में ताबड़तोड़ फायरिंग की तरह गिरे ओले, दीवारों पर ऐसे निशान जैसे कश्मीर में गोलियों के होते हैं (चौंकाने वाला वीडियो दखें)
मोदीजी ने कोरोना से बचने मास्क के बजाय गमछा को प्रमोट क्यों किया, खुद को देसी बताने या बड़ा लॉजिक है
IAS बनना कोई रॉकेट साइंस नहीं है: निशांत जैन 13th रैंक ने कहा
ग्वालियर में शादी के लिए नए नियम जारी, दूल्हा और दुल्हन अलग-अलग गाड़ियों में जाएंगे


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here