अतिथि विद्वानों के नियमितीकरण का प्रस्ताव किस कैबिनेट की मीटिंग में आएगा: महासंघ - MP NEWS


भोपाल
। प्रदेश के महाविद्यालयों को पिछले दो दशक से ज्यादा समय से अपने रक्त और परिश्रम से सींचने वाले महाविद्यालयीन अतिथि विद्वानों ने अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चौहान से गुहार लगाई है।

जैसा कि सर्वविदित है कि सत्ता की जड़ों को हिला देने वाला अतिथि विद्वानों का आंदोलन 140 दिन शाहजहानी पार्क भोपाल में चला था जिसमें विपक्ष के नेता के रूप में स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित वर्तमान कैबिनेट मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव, विश्वास सारंग सहित भारतीय जनता पार्टी के कई वरिष्ठ नेता आंदोलन में पधारे थे एवं अतिथि विद्वानों से यह वादा किए थे कि प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनते ही अतिथि विद्वानों का नियमितीकरण हम पहली ही कैबिनेट में करेंगे।

सरकार बनी, स्वयं शिवराज पुनः मुख्यमंत्री बने लेकिन अपने वादे से उलट वे आज तक नियमितीकरण की ओर एक सकारात्मक कदम नही बढ़ा सकें हैं। अतिथि विद्वान महासंघ के अध्यक्ष व मोर्चा के संयोजक डॉ देवराज सिंह ने कहा कि सरकार को तत्काल अतिथि विद्वानों के हित में निर्णय लेना चाहिए। पीएससी भर्ती इसका कोई हल नहीं है। माननीय मुख्यमंत्री जी नियमितीकरण का वादा किए थे। यदि मुख्यमंत्री जी वाकई में अतिथि विद्वानों के कल्याणार्थ गंभीर है तो कैबिनेट में प्रस्ताव लाकर अतिथि विद्वानों का नियमितीकरण करें।

शिवराज सिंह, वीडी शर्मा सहित पूरी कैबिनेट अतिथि विद्वानों के संघर्ष के साक्षी रहे हैं

महाविद्यालयीन अतिथि विद्वानों के पिछले 25 वर्षों के लंबे संघर्ष के साक्षी खुद मुख्यमंत्री तथा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष रहें हैं। संघ के मीडिया प्रभारी डॉ आशीष पांडेय ने फ़िर याद दिलाया है की खुद शिवराज सिंह चौहान जी अतिथि विद्वानों के आंदोलन में आकर घोषणा किये थे कि पीएससी कोई विकल्प नहीं है। अतिथि विद्वानों के प्रतिनिधि मंडल को बुलाओ और नियमितीकरण का रास्ता निकालो।

चूंकि अतिथि विद्वानों का चयन पूर्णतः पारदर्शी तरीके से राज्यस्तर की मेरिट के आधार पर होता है। अतः नियमितीकरण के रास्ते मे कोई बाधा भी नही है।यदि किसी चीज़ की आवश्यकता है तो वो है राजनैतिक इच्छाशक्ति की। इसलिए आग्रह है कि सरकार इस गंभीर मामले को तत्काल संज्ञान ले और नियमितीकरण हेतु सार्थक कदम उठाए। नियमितीकरण के मुद्दे पर उच्च शिक्षा विभाग के कई वरिष्ठ सेवानिवृत्त अधिकारी व विषय विशेषज्ञ अपने सुझाव भी दे चुके हैं और संघ भी मांग करता है कि इन बिंदुओं के तहत हमारी मागों को पूरा करें।

1:-यूजीसी(नेट/सेट/पीएचडी)योग्यता धारी अतिथि विद्वानों का नियमितीकरण
2:-पीजी एमफिल डिग्री धारी अतिथि विद्वानों को 3 या 4 साल का समय देते हुए योग्यता पूरी करने तक संविदा नियुक्ति दी जाए।
डॉ पांडेय ने शिवराज सरकार से गुहार लगाते हुए कहा की अन्य राज्यों में अतिथि विद्वानों को नियमित किया गया है जबकि मध्य प्रदेश में अभी तक नहीं किया गया,सरकार को तत्काल मानवीयता के आधार पर नियमत कर वादा पूरा करना चाहिए।
अन्य भाजपा शासित राज्यों में अतिथि विद्वानों का हुआ नियमितीकरण,तो मध्यप्रदेश में क्यों नही?

संघ के प्रवक्ता डॉ मंसूर अली ने कहा है कि अन्य भाजपा शासित राज्यों जैसे हिमांचल प्रदेश तथा हरयाणा में अतिथिविद्वानों के नियमितीकरण की नीति बनाकर उन्हें नियमित सेवा में लिया जा चुका है फिर मध्यप्रदेश सरकार को इससे क्या परहेज है।जबकि अतिथि विद्वानों के लंबे संघर्ष के साक्षी स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह रहे हैं।जबकि शाहजहानी पार्क के चर्चित आंदोलन में आकर स्वयं शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि सत्ता में वापसी पर पहला निर्णय अतिथिविद्वान नियमितीकरण का लिया जाएगा।ज़रूरत इस बात की है कि सहानुभूति पूर्वक और अपने वादे के मुताबिक अनुभव योग्यता देखते हुए नियमितीकरण का रास्ता प्रशस्त किया जाना चाहिए जिससे अतिथि विद्वानों के साथ न्याय हो सके।उल्लेखनीय है कि पूर्व में भी प्रदेश सरकार ने तदर्थ व आपाती भर्ती के नाम पर अस्थायी शिक्षकों को नियमित किया है।

विभाग में 450 पदों के आने के बाद भी च्वाइस फीलिंग ना करवाना समझ से परे

आज भी लगभग 500 अतिथि विद्वान बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं जो विवादित पीएससी भर्ती के कारण फालेन आउट हुए थे।संघ के सदस्य डॉ भगवान दास धार्मिक ने सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि 450 पदों में वह तत्काल प्रक्रिया शुरू करें जिससे एक वर्ष से बेरोजगार अतिथि विद्वानों को रोजगार मिल सके वा अपना जीवन यापन कर सकें।

29 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

BHOPAL NEWS- गृह मंत्री का कथित पीए सस्पेंड, ऑडियो वायरल के बाद हुई कार्रवाई
Hindi News Today- ग्राम पंचायत से बनेंगे ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, पैन कार्ड और आधार कार्ड
MP NEWS- नगरीय निकाय चुनाव कब होंगे, मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया
MP EMPLOYEE NEWS6 लाख कर्मचारी सामूहिक अवकाश पर जाएंगे, नहीं बनी बात
OBC आरक्षण- पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को पीटा, हिरासत में लिया - MP NEWS
INDORE NEWS- उषा ठाकुर फेम सस्पेंडेड डिप्टी रेंजर का बहाली के बिना ट्रांसफर
MP NEWS- मध्यप्रदेश में घर बैठे ड्राइविंग लाइसेंस मिलेगा, डिप्टी कमिश्नर RTO ने नई तारीख बताई
MP PHED TRANSFER LIST- प्रभारी कार्यपालन यंत्री के तबादले
मध्य प्रदेश मानसून- 9 जिलों के लिए रेड अलर्ट, 31 जुलाई तक खतरा रहेगा
MP NEWSकमलनाथ को झटका, दिग्विजय सिंह ने विभा को दिखाकर अर्चना को बिठा दिया 
GOOD NEWS- बैंक बंद हो जाए फिर भी पैसा नहीं डूबेगा
 

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiकागज के ग्लास में पानी गर्म करें तो पहले कागज जलेगा या पानी
GK in HindiCAR के साथ जेवरात भी चोरी हुए तो बीमा क्लेम में दोनों का पैसा मिलेगा या नहीं 
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
GK in Hindiइंसान को शेर कहना शान और गधा कहना अपमान क्यों माना जाता है 
GK in Hindi- खतरे का रंग लाल क्यों होता है काला क्यों नहीं
GK in Hindiपुष्पक विमान किस ईंधन से चलता था, पेट्रोल और बैटरी तो उस समय होते नहीं थे
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here