Loading...    
   


BHOPAL में 14 साल तक के 2699 बच्चे पॉजिटिव, 577 अस्पतालों में भर्ती

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोनावायरस की दूसरी लहर के दौरान 14 साल से कम उम्र के 2699 बच्चे संक्रमित हुए इनमें से 577 गंभीर रूप से बीमार हुए और अस्पतालों में भर्ती किए गए। शिवराज सिंह चौहान सरकार तीसरी लहर से निपटने की तैयारियां कर रही है। इधर विशेषज्ञों का कहना है कि तीसरी लहर में भोपाल में हर रोज कम से कम 1000 बच्चे संक्रमित होंगे। 

भोपाल में बच्चों के लिए ना तो अस्पताल है ना ही डॉक्टर

कोरोना की दूसरी लहर में ज्यादातर युवा संक्रमित हुए, लेकिन तीसरी लहर बच्चों पर हावी होगी। ऐसा अनुमान है कि तीसरी लहर में भोपाल में हर दिन जितने नए केस मिलेंगे, उनमें 50% पॉजिटिव 0 से 14 साल के बच्चे होंगे। इनमें भी 200 बच्चे अस्पताल में भर्ती होंगे। यदि ये अनुमान सही रहा तो तीसरी लहर शुरू होने के छह दिन बाद ही नो-बेड के हालात बन सकते हैं, क्योंकि अभी शहर के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में बच्चों के लिए सिर्फ 1300 बेड ही हैं। इनमें 500 बेड एनआईसीयू और पीआईसीयू के हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुमान से ज्यादा इंतजाम करने होंगे

तीसरी लहर में एक हजार बेड और चाहिए। इनमें भी 300 आईसीयू और 700 ऑक्सीजन सपोर्ट वाले हों। ये सारे अनुमान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की चेतावनी को ध्यान में रखकर लगाए गए हैं। इसमें बताया गया था कि तीसरी लहर भी दूसरी की तरह ही होगी, लेकिन इसमें 50% मरीज बच्चे हो सकते हैं। एनएचएम की कोविड पॉजिटिव पेशेंट लाइन लिस्ट रिपोर्ट की मानें तो दूसरी लहर में भोपाल में 2699 बच्चे संक्रमित हुए। अच्छी बात ये है कि इनमें से 58% घर पर रहकर ही स्वस्थ हुए हैं। 32% ही अस्पताल गए थे। अभी 660 बच्चे होम आइसोलेशन में हैं। 72% स्वस्थ हो चुके हैं। 

इंतजाम नहीं हुए तो तीसरी लहर सरकार गिराएगी

कोरोनावायरस संक्रमण की पहली लहर में 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों की मृत्यु हुई। लोगों ने भगवान की मर्जी माना। दूसरी लहर में 28 से 45 वर्ष आयु वर्ग के व्यक्तियों की मृत्यु हुई, शोक और असंतोष की स्थिति बनी लेकिन तीसरी लहर में यदि 14 साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु हुई तो निश्चित मानिए सरकार गिर जाएगी, क्योंकि भारत में लोग बच्चों के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं।

12 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here