Loading...    
   


MP CORONA पूर्वानुमान- 17000 मरीजों के लिए बेड नहीं होगा, ऑक्सीजन नहीं मिलेगी

भोपाल
। मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोनावायरस संक्रमण के संदर्भ में जो पूर्वानुमान लगाया गया है वह काफी डराने वाला है। स्वास्थ्य विभाग के प्रेजेंटेशन की एक स्लाइड लीक हो गई है। इसमें बताया गया है कि 30 अप्रैल तक हर रोज हालात और ज्यादा खराब होते जाएंगे। एक्टिव केस की संख्या 1.85 लाख तक पहुंच सकती है। 17000 मरीजों के लिए अस्पतालों में बेड नहीं होंगे। 2500 मरीजों के लिए आईसीयू नहीं होगा। जीवन रक्षक ऑक्सीजन खत्म हो जाएगी। इंजेक्शन एवं दूसरी दवाई भी कम पड़ जाएंगी।

800 टन ऑक्सीजन चाहिए, एग्रीमेंट 670 टन के हुए हैं

इतने एक्टिव केस के हिसाब से ऑक्सीजन की व्यवस्था जुटाना भी लगभग असंभव है। शिवराज सिंह चौहान सरकार ने अभी तक 670 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति के करार अलग-अलग राज्यों के साथ किए हैं, लेकिन तब जरूरत 800 टन से अधिक की होगी। यानी 130 टन ऑक्सीजन कम पड़ जाएगी। अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लूटमार होगी, जैसे कि शिवपुरी के जिला चिकित्सालय में हुई है, जिसके कारण मरीजों की मौत हो जाएगी।

इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर में 1900 आईसीयू, एचडीयू बेड चाहिए

इस प्रेजेंटेशन में तीन तरह के बेड की जरूरत बताई गई है। पहला- बिना ऑक्सीजन सपोर्ट वाले आइसोलेशन बेड, दूसरा- ऑक्सीजन वाले आइसोलेशन बेड और तीसरा- आईसीयू व एचडीयू बेड। भोपाल-इंदौर की हालत और बिगड़ सकती है। इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में ऑक्सीजन युक्त बेड व आईसीयू-एचडीयू बेड की करीब 1900 की आवश्यकता प्राइवेट सेक्टर में होगी। 

क्या करें, महामारी से कैसे बचें 

अब सिर्फ एक ही रास्ता बचा है। पहले की तरह खुद को घर में लॉक डाउन कर लें। 
अति आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें। 
घर में आने वाले सहयोगी एवं कर्मचारियों की छुट्टी कर दें। यदि सक्षम है तो उन्हें वैतनिक अवकाश दें। 
ज्यादा से ज्यादा चीजें ऑनलाइन आर्डर करें। 
पहले की तरह सभी चीजों का सैनिटाइजेशन शुरू कर दें। 
सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें एवं फेस मास्क अनिवार्य रूप से लगाए। 
याद रखें थोड़ी सी सावधानी जिंदगी बचा सकती है क्योंकि श्मशान घाट के आंकड़े स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों से ज्यादा डरा रहे हैं।

14 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here