Loading...    
   


BHOPAL हमीदिया में रेमडेसिवीर चोरी नहीं हुए, घोटाला है - CORONA UPDATE NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सरकारी हमीदिया अस्पताल में सेंट्रल ड्रग स्टोर से गायब हुए 863 रेमडेसिवीर इंजेक्शन के मामले का खुलासा हो गया है। यह इंजेक्शन चोरी नहीं हुए बल्कि घोटाला हुआ है। रिकॉर्ड के मिलान के दौरान घोटाले का खुलासा हो गया। चौंकाने वाली बात यह है कि जब 1-1 इंजेक्शन लोगों की जिंदगी के लिए जरूरी है तब 46% इंजेक्शन घोटाले का शिकार हो रहे हैं।

भोपाल से इश्यू हुए इंजेक्शन दिल्ली में मरीज को लगा दिए गए 

भोपाल पुलिस की क्राइम ब्रांच इस मामले की जांच कर रही है। सबसे पहला खुलासा यह हुआ है कि एक फार्मासिस्ट ने 6 इंजेक्शन आवंटित करवाए और उन्हें लेकर खुद दिल्ली रवाना हो गया। दिल्ली में उसका साला भर्ती है। सभी इंजेक्शन उसको लगाए गए। दिल्ली के अस्पताल के रिकॉर्ड से मिलान हो चुका है। फार्मासिस्ट ने भी स्वीकार कर लिया है।

भोपाल में कैसे चल रहा है रेमडेसिविर आवंटन घोटाला

पुलिस के मुताबिक, एक गड़बड़ी यह भी सामने आई है कि सेंट्रल ड्रग स्टोर से 10 अप्रैल से 16 अप्रैल तक D ब्लाक कोविड सेंटर की डिमांड पर 548 इंजेक्शन भेजे गए, जबकि कोविड सेंटर के इंचार्ज ने बताया कि उन्हें स्टोर से 458 इंजेक्शन ही मिले। पुलिस ने जब रिकाॅर्ड जब्त किया और नर्सिंग स्टाफ से पूछताछ की तो पता चला कि रिकाॅर्ड में स्टोर से उन्हें 850 इंजेक्शन भेजे गए हैं। यानी 392 इंजेक्शन (46%) का घोटाला हो गया। पुलिस अब उन कर्मचारियों से भी पूछताछ कर रही है जो स्टोर से इंजेक्शन लेकर जाते थे। पुलिस का दावा है कि जल्द ही इस घोटाले का खुलासा किया जाएगा। 

19 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here