Loading...    
   


कम्युनिस्ट और कांग्रेस के बाद आज भाजपा लेकिन कल कौन / MY OPINION

डॉ प्रवेश सिंह भदौरिया। 1929 के कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का एक लक्ष्य निर्धारित हुआ जो "पूर्ण स्वराज" के रुप में इतिहास में दर्ज हुआ।इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कांग्रेस संकल्पित थी जो अंततः 1947 में प्राप्त भी हुआ था।

नये आजाद भारत को संगठित रखने की जिम्मेदारी पटेल ने अपने हाथों में ली व अन्य राष्ट्रों से दोस्ताना संबंध बनाने का उत्तरदायित्व नेहरू के हाथों में था।ये दोनों अपने कार्य में सफल भी हुए।भारत को एकीकृत करने के बाद अंग्रेजों के कारण भ्रष्ट और कंगाल हो चुके देश को फिर से खुशहाल करने की जिम्मेदारी पुनः कांग्रेस पर आ गयी थी। लेकिन आजादी के बाद एकाधिकार पाने की मानसिकता तथा पटेल-गांधी के बिना कांग्रेस में सत्ता लोलुपता धीरे-धीरे बढ़ने लगी। 

पड़ोसी मुल्क भी बंटवारे में मिली जमीन से खुश नहीं थे। वहीं द्वितीय विश्व युद्ध के बाद कम्युनिस्ट भी अपनी ताकत बढ़ाना चाहते थे जिससे चाहे-अनचाहे भारत पर युद्ध का संकट आता जा रहा था।हम अभी भी हथियार और अन्य संसाधनों के लिए ताकतवर राष्ट्रों की तरफ मुंह ताक रहे थे।सत्ता के प्रति अविश्वास लोगों में घर कर रहा था जिससे पुरानी लेकिन "बंजर" ताकतें एकजुट हो रही थीं। अलग-अलग राजनीतिक दल अपने लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहे थे।लेफ्ट की पूरी लड़ाई गरीबों के प्रति आस्था रखने और अमीरों को देश के लिए ख़तरनाक साबित करने में केंद्रित थी।

वहीं जनसंघ से भाजपा में परिवर्तित दल कश्मीर और राममंदिर के मुद्दे को लेकर राजनीति में दाखिल होना चाह रहे थे। हालांकि भाजपा ने कभी ये नहीं बताया कि उन्हें जनसंघ से भाजपा में परिवर्तन क्यों करना पड़ा?ना ही उन्होंने बताया कि भाजपा बनाते ही उनका मूलभूत सिद्धांत "नेहरु का धर्मनिरपेक्षता" ही था।यही कारण रहा होगा कि भाजपा के नये  नवेले ध्वज में हिंदू के भगवा और मुस्लिम के हरे रंग को जगह दी गयी थी।

कांग्रेस अब धीरे-धीरे कमजोर होती जा रही है क्योंकि उसके पास अब पाने के लिए कोई लक्ष्य नहीं बचा है। कम्युनिस्ट लगभग खत्म होने पर है क्योंकि गणतंत्र राष्ट्र में उनके विचारों का कोई स्थान नहीं है। भाजपा भी जिस तरह से सबको समाहित करती जा रही और असल भाजपाई साइड लाइन होते जा रहे हैं तथा अनुच्छेद 370 और राममंदिर के मुद्दे का समाधान लगभग हो गया है उससे लगता है कि भाजपा भी अपने "लक्ष्य" की प्राप्ति कर चुकी है और अब वह लक्ष्यविहीन होकर कांग्रेस की श्रेणी में आती जा रही है जिसके लिए सत्ता महत्वपूर्ण है।

काल के गाल में क्या है ये कोई नहीं जानता। हो सकता है भाजपा की तरह ही कोई पुराना दल नया चोगा ओढ़कर नये लक्ष्य के साथ भविष्य में दिखाई दे।

29 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार 

क्या आप एक शब्द में भारत की सभी विश्व सुंदरियों के नाम बता सकते हैं
BF ने शादी से मना किया, रेप केस दर्ज / लड़का बोला ब्लैकमेल कर रही है
सऊदी अरब में बारिश क्यों नहीं होती है
ग्वालियर में बिजली कंपनी ने ऊर्जा मंत्री की भाभी को एक करोड़ का फायदा पहुंचाया
मध्य प्रदेश के 6 जिलों में वज्रपात की संभावना, नागरिक सावधान रहें
2 से अधिक बच्चों वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी
जब यह इमारत जमीन पर खड़ी है तो इसे 'हवामहल' क्यों कहते हैं
ज्योतिरादित्य सिंधिया के नागपुर प्रवास के बाद कमलनाथ और शिवराज सिंह मिले
इंदौर में पति-पत्नी ने मिलकर किसान को हनीट्रैप का शिकार बनाया
1 सितंबर से स्कूल/कॉलेज खुलेंगे या नहीं, भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया
दूध को दही बनाने वाले चमत्कारी पत्थर में क्या खास है, कहां मिलता है, नाम क्या है
सोयाबीन की फसल को पीली पड़ने से बचाने क्या करें, वैज्ञानिकों की सलाह
जबलपुर मेडिकल हॉस्पिटल में आज दूसरे मरीज ने आत्महत्या की कोशिश की
इंदौर से पटना, भोपाल सहित चार ट्रेनें चलाने की तैयारी
सिंधिया के मोदी कैबिनेट में शामिल होने के आसार
मध्य प्रदेश के 6 जिलों में रेड अलर्ट, 14 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here