Loading...    
   


2 से अधिक बच्चों वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी / EMPLOYEE NEWS

भोपाल। सुप्रीम कोर्ट ने मध्यप्रदेश शासन को 2 से अधिक बच्चों वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए स्वतंत्र कर दिया है। न्यायालय के कर्मचारियों द्वारा सेवा नियम 2016 के तहत लगाए गए जुर्माने के खिलाफ अपील की थी। सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया कि न्यायालय के कर्मचारी सिविल सेवा नियम 2016 के अंतर्गत आते हैं और मध्यप्रदेश शासन एवं मध्य प्रदेश के न्यायालयों के जज नियम का उल्लंघन करने वाले सभी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है। 

आपको बता दें कि चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अगुवाई वाली पीठ ने 7 अगस्त 2019 को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के उस आदेश में संशोधन किया था, जिसमें जिला जजों के वेतन वृद्धि को वापस नहीं लेने का निर्देश दिया गया था। इस मामले में दो से अधिक बच्चों वाले कर्मचारियों के वेतन रोकने के साथ ही दो इंक्रीमेंट (वेतन बढोतरी) रोकने के आदेश दिये गये थे। जिसके खिलाफ कई कर्मचारियों ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। इसके बाद हाईकोर्ट ने कर्मचारियों की वेतन वृद्धि रोकने की सजा को बरकरार रखा था।

मामले में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा था कि दो या तीन वेतन बढ़ोतरी (इंक्रीमेंट) रोकने का जुर्माना गैर-आनुपातिक है और आपराधिक आचरण के आनुपातिकता सिद्धांत के खिलाफ है। यह फैसला हाईकोर्ट ने कर्मचारियों द्वारा दायर 9 याचिकाओं पर सुनाया था, जिनमें कर्मचारियों पर लगाए गए जुर्माने को ग़लत बताया गया था। 

आपको बता दें कि सिविल सर्विसेज अधिनियम 1965 के नियम 22 के उपखंड (4) के अनुसार यदि किसी कर्मचारी के दो से अधिक बच्चे होते हैं और यदि उनमें से किसी एक बच्चे का जन्म 26 जनवरी 2001 के बाद हुआ हो तो उसे सेवा में बुरे आचरण वाला माना जाएगा। 

मध्य प्रदेश जिला अदालत प्रतिष्ठान 2016 के नियम के अनुसार उपरोक्त प्रावधान राज्य के सभी सरकारी कर्मचारियों पर लागू होगा। क्योंकि राज्य न्यायपालिका के कर्मचारी 2016 के सेवा नियमों द्वारा शासित होते हैं, वैधानिक प्रावधानों के अनुसार 26 जनवरी 2001 के बाद पैदा हुए दो से अधिक बच्चों वाला कर्मचारी नियमों का उल्लंघन करेगा और इसे सर्विस में अपराध माना जाएगा।

28 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

1 सितंबर से स्कूल/कॉलेज खुलेंगे या नहीं, भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया
सऊदी अरब में बारिश क्यों नहीं होती है 
BF ने शादी से मना किया, रेप केस दर्ज / लड़का बोला ब्लैकमेल कर रही है
मध्य प्रदेश के 6 जिलों में वज्रपात की संभावना, नागरिक सावधान रहें
ज्योतिरादित्य सिंधिया के नागपुर प्रवास के बाद कमलनाथ और शिवराज सिंह मिले
दूध को दही बनाने वाले चमत्कारी पत्थर में क्या खास है, कहां मिलता है, नाम क्या है
सिंधिया के मोदी कैबिनेट में शामिल होने के आसार
स्कूल फीस मामले में CBSE ने मध्यप्रदेश हाईकोर्ट में जवाब पेश किया
क्या आप एक शब्द में भारत की सभी विश्व सुंदरियों के नाम बता सकते हैं, यहां पढ़िए
MPPEB द्वारा स्थगित प्रवेश परीक्षाएं कब से आयोजित की जाएंगी, यहां पढ़िए
पेट में गुटर गुटर क्यों होती है ?
मोबाइल फोन में नंबर डायल करने का सुपर फास्ट तरीका कौन सा है, यहां पढ़िए
भोपाल में ऑनलाइन गेम में हारने पर नाबालिग ने सुसाइड कर लिया
MP IAS TRANSFER LIST / मप्र आईएएस अफसरों के तबादले
इंदौर के 37 कॉलेजों में 50 करोड़ का स्कॉलरशिप फ्रॉड


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here