Loading...    
   


पेट में गुटर गुटर क्यों होती है ? / INTERESTING SCIENCE IN HINDI

GURGLING OR DAGGER - DAGGER SOUND IN STOMACH

हमारा पेट जिसे इंग्लिश में (Belly); आयुर्वेद में अमाशय (stomach); विज्ञान में उदर (Abdomen) कहा जाता है। यह अंग्रेजी के अक्षर J के आकार की एक थैली नुमा रचना है जो लगभग 30 सेंटीमीटर लंबी होती है और इसमें हमारा आधापचा भोजन जिसे लुगदी (Chyme)  कहा जाता है, लगभग 2 से 5 घंटे तक रहता है। यहां पर भोजन का यांत्रिक (Mechenical) तथा रासायनिक (Chemical) दोनों प्रकार से पाचन होता है। सामान्य भाषा में इसे शरीर की चक्की कहा जाता है। जिसमें से मंथन गतियां (churning movement) होते रहते हैं। जो दिन- रात, सोते-जागते अपना काम करता रहता है।

आइए जानते हैं पाचन क्या होता है? 

पाचन का अर्थ है भोजन के छोटे-छोटे टुकड़े करना। विज्ञान की भाषा में पाचन का अर्थ होता है कि भोजन के जटिल पदार्थों को सरल पदार्थों में तोड़ना। चूँकि यह कार्य ऑक्सीजन की उपस्थिति में होता है इस कारण इसे दहन या जलना भी कहते है।

हमारी आहार नाल (Alimentary canal) मुख्य रूप से 4 भागों से मिलकर बनी है

1. मुख तथा मुख गुहा (Mouth and Buccal cavity) 
2. ग्रास नली (food pipe/ Oesophagus) 
3. आमाशय (stomach) 
4. आंत (Intestine) 
यह चारों भाग मिलकर भोजन का पाचन करने का कार्य करते हैं।

सरल साइंस में जानते हैं कि पेट में गुटर गुटर की आवाज कैसे आती हैं! 

* कभी-कभी आमाशय में भोजन के अपूर्ण पाचन के कारण गैस बनने लगती है, इस कारण आवाजें उत्पन्न होती हैं।
* कभी-कभी एसिड के अधिक मात्रा में श्रावण के कारण एसिडिटी उत्पन्न होती हैं और आवाजें आती हैं।
* हमारी पूरी आहार नाल में संकुचन और शिथलन (contraction and relaxation/ Peristatalic movement) की क्रिया हमेशा चलती रहती है। तो जब कभी खाली पेट होता है तो दीवारें आपस में चिपकने लगती है उसके कारण भी आवाज आती हैं।

आइए अब आंत विज्ञान ( bowel science) को समझते हैं

हमारी आंत (Intestine)जो कि एक अति कुंडलित (Highly coiled)रचना है। जो दो भागों से बनी होती है। 
छोटी आंत, जो कि 20 फीट तक लंबी होती है तथा बड़ी आंत जो कि 5 फीट तक लंबी होती है।
😇 आश्चर्य की बात है ना कि छोटी आंत बड़ी है और बड़ी आंत छोटी है|😄

आइए अब से रोजमर्रा की जिंदगी से जोड़कर देखते हैं

जब हम लेजम या पाइप से पानी भरते हैं और अचानक नल चले जाएं तो पाइप से जो आवाजें आती हैं, ऐसी ही आवाजें हमारे पेट से भी आती है। जब आंत में खाने का कोई हिस्सा आकर फंस जाता है, या जब नल की पाइप लाइन कहीं से फूट जाए और जब हवा (Air) लेने लगती है तो उसके कारण जो आवाजें और झटके (sounds and jerks) उत्पन्न होते हैं। ऐसे ही झटके और आवाज में हमारे पेट में भी उत्पन्न होते हैं। जिसे गुटर गुटर कहते हैं।

आमतौर पर यह आवाजें सामान्य होती हैं परंतु कभी-कभी किसी बड़ी बीमारी की ओर भी इशारा करती हैं इस कारण इन्हें पूरी तरह नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।
लेखक श्रीमती शैली शर्मा मध्यप्रदेश के विदिशा में साइंस की टीचर हैं एवं यश जैन (एमबीबीएस स्टूडेंट मेडिकल कॉलेज, उज्जैन) ने रिसर्च वर्क में विशेष योगदान दिया। (Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article)

विज्ञान से संबंधित सबसे ज्यादा पढ़ी गईं जानकारियां



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here