Loading...    
   


10 राज्यों के कारण पूरे भारत में कोरोनावायरस बढ़ने का खतरा / NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। भारत के 10 राज्य ऐसे हैं जहां पर महामारी (कोविड-19 का अत्यधिक संक्रमण) फैली हुई है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस पर बात की। पीएम मोदी ने कहा कि यदि हम इन 10 राज्यों में कोरोनावायरस के संक्रमण को कंट्रोल करने में कामयाब हो जाते हैं तो देश में महामारी का खतरा टल जाएगा।

10 राज्यों में कोरोनावायरस खत्म हुआ तो देश जीत जाएगा: प्रधानमंत्री

पीएम ने कहा कि देश में ऐक्टिव केस 6 लाख से ज्यादा हो चुके हैं। इनमें से ज्यादा मामले हमारे इन 10 राज्यों में ही है। इसीलिए हम समीक्षा के लिए बैठे हैं। आज की चर्चा से हमें एक-दूसरे के अनुभवों से काफी कुछ सीखने को मिला। एक बात निकलकर आया है कि अगर हम मिलकर अपने इन 10 राज्यों में कोरोना को हरा देते हैं, तो देश भी जीत जाएगा। पीएम के साथ बैठक में आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, गुजरात, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश के सीएम शामिल हुए।

भारत में ऐक्टिव केस की संख्या कम हुई है: पीएम नरेंद्र मोदी

मोदी ने कहा कि टेस्टिंग की संख्या बढ़कर हर दिन 7 लाख पहुंच चुकी है। इससे संक्रमण को पहचानने और रोकने में जो मदद मिल रही है, आज हम उसके परिणाम देख रहे हैं। हमारे यहां मौत की दर पहले भी दुनिया के मुकाबले कम था और संतोष की बात है कि यह लगातार और कम हो रहा है। ऐक्टिव केस कम हुआ है, रिकवरी रेट बढ़ता जा रहा है। लोगों के बीच भी आत्मविश्वास बढ़ा है।

भारत में कोविड-19 से मौत की दर 1 फीसदी के नीचे लाना है: प्रधानमंत्री मोदी

पीएम ने कहा कि मृत्यु दर को 1 फीसदी के नीचे लाने का रखा है। अगर हम प्रयास करें तो वो लक्ष्य भी हासिल कर सकते हैं। क्या करना है, कैसे बढ़ना है इसे लेकर भी काफी स्पष्टता निकलकर सामने आई है।

भारत के किन राज्यों में टेस्टिंग रेट कम है

पीएम ने कहा कि बिहार, गुजरात, यूपी, पश्चिम बंगाल, गुजरात और तेलंगाना में टेस्टिंग रेट बढ़ाने की जरूरत है। कोरोना के खिलाफ कंटेनमेंट, कंटैक्ट ट्रेसिंग और सर्विलांस सबसे प्रभावी हथियार है। हम सब कोशिशों से अच्छे परिणाम की ओर आगे बढ़े हैं। शुरुआत के 72 घंटे में केस की पहचान कर लें तो इसका संक्रमण नहीं फैल सकता है।

यूके में भारत से 15 गुना टेस्ट

इन टॉप 20 देशों का संयुक्त औसत प्रति 10 लाख की आबादी पर 62 हजार से थोड़े ज्यादा टेस्ट का है जो भारत के औसत से 3.5 गुना है। अगर भारत टॉप 20 देशों के औसत की बराबरी कर ले तो मौजूदा पॉजिटिविटी रेट (प्रति 100 जांच पर कन्फर्म्ड केस की संख्या) से भी यहां प्रति 10 लाख की आबादी पर 5,600 कोरोना केस आएंगे। वहीं, इन शीर्ष 20 देशों में प्रति 10 लाख की आबादी पर सिर्फ 5 हजार कन्फर्म्ड केस ही आ रहे हैं।

दिल्ली में बिहार के मुकाबले सात गुना टेस्ट
बड़े राज्यों में दिल्ली ने प्रति 10 लाख की आबादी पर औसतन 59 हजार टेस्ट किए जबकि जम्मू-कश्मीर बड़े राज्यों में अकेला ऐसा प्रदेश है जहां प्रति 10 लाख 50 हजार से ज्यादा टेस्ट हुए हैं। बिहार, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश जैसे ज्यादा जनसंख्या वाले राज्यों में राष्ट्रीय औसत से कम जांच हुई है। वहीं, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और पंजाब में राष्ट्रीय औसत से ज्यादा टेस्ट किए गए। हालांकि, इन राज्यों में भी वैश्विक औसत से बहुत कम जांच हुई है। 

इन राज्यों में टेस्टिंग की सुविधा कम है

दरअसल, ओडिशा, बिहार, पश्चिम बंगाल और असम में टेस्टिंग की सुविधा कम है। इससे जांच रिपोर्ट आने में देरी होती है। भारत के पूर्वी राज्यों में जनसंख्या ज्यादा होने के कारण यहां उपलब्ध टेस्टिंग फसिलिटी कम पड़ जा रही है। कई कोविड-19 लैब्स तो सिर्फ स्वाब इकट्ठा करते हैं। नमूनों को जांच के लिए दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों में भेजना पड़ता है। कोलकाता जैसे बड़े शहर की स्थिति भी यही है। वहां भी पर्याप्त संख्या में लैब नहीं हैं।

देश में साढ़े 22 लाख के पार पहुंचा कोरोना

देश में कोरोना के केस साढ़े 22 लाख से ज्यादा हो गए हैं। महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश में नए केस की रफ्तार बुहत तेज है। बिहार और यूपी में रोज कोविड-19 के नए मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। पिछले 10 दिनों से ज्यादा समय से हर रोज देशभर में 50 हजार से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं।

11 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

इंदौर में BF संग लिव इन में रह रही लड़की ने सुसाइड किया
स्पीकर में मैग्नेट क्यों लगाया जाता है, केवल वजन बढ़ाने के लिए या दूसरा कारण है
शिवराज सिंह ने फिर 6000 करोड़ का कर्ज ले लिया, जनता से वसूले जाएंगे
BSNL का फाइबर 499 रुपए में सब कुछ अनलिमिटेड
UGC COLLEGE EXAM: सुप्रीम कोर्ट में आज क्या हुआ, पढ़िए
MP BOARD डीएलएड फर्स्ट एवं सेकंड ईयर का एग्जाम टाइम टेबल जारी
देश का कोई भी ट्रांसपोर्ट मध्यप्रदेश में माल नहीं भेजेगा, दूध-दवाइयां सब बंद
आउटसोर्सिंग कार्पोरेशन बनाकर नौकरियां और आरक्षण खत्म करना चाहती है सरकार
मध्यप्रदेश में बंगाल के बादल, 23 जिलों में बारिश का पूर्वानुमान
क्या दंडस्वरूप किसी अधिकारी का ट्रांसफर किया जा सकता है?
इंदौर के पुलिसवाले ने जिस लड़की को फंसाकर संबंध बनाने बुलाया, वह धर्मपत्नी निकली
श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2020 कब मनाई जाएगी, कंफ्यूज ना हो हम बताते हैं
यदि भारत में नकली विदेशी मुद्रा बनाई जाए तो FIR कहां दर्ज होगी, भारत में या विदेश में
मध्यप्रदेश में सबसे पहले 5000 ग्राम पंचायतों में जन सुविधा केंद्र स्थापित होंगे
मध्यप्रदेश में कोरोना से मौतों का आंकड़ा 1000 के पार
कैलाश विजयवर्गीय समर्थक भाजपा मंडल अध्यक्ष गिरफ्तार


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here