Loading...    
   


कोरोना के नाम पर कर्मचारियों को ही क्यों रोक रहे हैं, IAS अफसरों को क्यों नहीं: कर्मचारी संघ / EMPLOYEE NEWS

भोपाल। मप्र तृतीय वर्ग शास कर्म संघ" के प्रांताध्यक्ष श्री प्रमोद तिवारी एवं प्रांतीय उपाध्यक्ष कन्हैयालाल लक्षकार ने कहा कि- प्रदेश में जुलाई माह में मिलने वाली वार्षिक वेतनवृद्धि को बड़ी सफाई से रोका गया है। इससे कर्मचारियों में भारी नाराजगी व आक्रोश व्याप्त हैं। कुपित कर्मचारियों को अब यह हजम नहीं हो रहा है कि कोरोना के बहाने जुलाई 2019 से मिलने वाले 4 फीसदी डीए डीआर आदेश बावजूद रोका गया। दूसरे चरण में सातवें वेतनमान की तृतीय किश्त का भुगतान रोका गया। अब वार्षिक वेतनवृद्धि रोककर कहा गया है कि "तय समय पर ही" इसका भुगतान किया जाएगा, लेकिन समय "टाला जा" रहा है। 

यह कर्मचारियों को जानबूझकर आर्थिक बदहाली की ओर धकेलने का सरकार का आसान व कर्मचारियों के लिए नुकसानदायक रास्ता है। इधर प्रदेश में भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के लिए पृथक मापदंड अपनाते हुए उक्त डीए डीआर जुलाई 2019 से अक्तूबर 2019 में जारी आदेशानुसार एरियर सहित भुगतान कर दिया व प्रतिमाह भुगतान बदस्तूर जारी है, आश्चर्य है इसे वापस नहीं लिया गया है। अभी प्रदेश में कर्मचारियों को 12% व भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को 17% डीए डीआर प्राप्त हो रहा है। इस वर्ग के कोई स्वत्व लंबित नहीं है। यह कहाँ तक न्यायोचित है कि छोटे कर्मचारियों को नुकसान पहुंचा कर भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को उपकृत किया जावे? 

विडम्बना है कि कोरोना काल में छोटे कर्मचारियों को आर्थिक अनुशासन का पाठ पढ़ाया जा रहा है।  सामान्य स्थिति बहाल होने तक छोटे कर्मचारियों को निशाना बनाते वक्त यह भी स्पष्ट किया जाना चाहिए कि "किन परिस्थितियों को सामान्य" माना जाएगा व कब तक इंतजार करना होगा? मप्र तृतीय वर्ग शास कर्म संघ "कर्मचारियों की भावनाओं से अवगत होकर निवेदन करता है कि लगातार छोटे कर्मचारियों की नाराजगी निकटस्थ विधानसभा उपचुनावों में राजनितिक रूप से कहीं घाटे का सौदा न हो जाए, इस पर पुनर्विचार कर समीक्षा की दरकार है।" 

देश व प्रदेश की बदस्तूर सभी गतिविधियां यहाँ तक की राजनीतिक गतिविधियों को व खर्चों को देख नहीं लगता कि कोरोना का प्रकोप बरकरार है। यह केवल छोटे कर्मचारियों पर परिलक्षित होना शासन की दौहरी नीति सिध्द करता है, जो लोक कल्याणकारी सरकार के लिए सुखद नहीं हो सकती है। 

28 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ग्वालियर में लड़की ने ब्लैकमेलर को मां का ATM और गहने तक दे दिए फिर भी नहीं माना 
मध्य प्रदेश के 38 जिलों में 5 दिन लगातार बारिश की संभावना 
ट्रैक्टर का साइलेंसर ऊपर की ओर क्यों होता है, कार की तरह पीछे, ट्रक की तरह साइड में क्यों नहीं 
जानिए, रत्ती में ऐसा क्या है जो हीरे-जवाहरात के लिए डिजिटल तराजु के बजाए उस पर भरोसा करते हैं 
दुनिया का पहला पिगी बैंक कहां बना, क्या सूअर बचत का प्रतीक होता है 
AIRTEL 52.6 लाख और VODAFONE-IDEA को 45.1 लाख यूजर्स का घाटा, JIO मुनाफे में
मिस्र देश की रानियां कभी बूढ़ी क्यों नहीं होती थी, क्या उनके पास कोई फार्मूला था
एमपी बोर्ड 12वीं: लड़कियां और सरकारी स्कूल, लड़कों और प्राइवेट स्कूल से आगे
एमपी बोर्ड जिला स्तरीय मेरिट लिस्ट
एमपी बोर्ड 12वीं प्रदेश स्तरीय मेरिट लिस्ट 
टीवी-फ्रिज की पैकिंग में थर्माकोल ही क्यों यूज करते हैं, जबकि ट्रांसपोर्टेशन के झटके सहने के लिए कई अच्छे विकल्प हैं 
किस सिक्के में मिलावट पर 3 साल और किसमें 7 साल की सजा होती है, पढ़िए मजेदार जानकारी 
कर्मचारी को वेतनवृद्धि मामले में लोकशिक्षण संचालनालय के स्पष्टीकरण का विश्लेषण
ग्वालियर में सरेआम लड़की को किडनैप कर चलते ऑटो में रेप की कोशिश
हमारा घर हमारा विद्यालय के कारण संक्रमित हुए शिक्षक की मौत


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here