Loading...    
   


भोपाल में कोरोना पीड़ित मरीजों के नाश्ते में इल्लियां, खुशीलाल आयुर्वेदिक अस्पताल का मामला / BHOPAL NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया COVID-19 से संक्रमित होकर प्राइवेट अस्पताल में भर्ती हैं। सीएम शिवराज सिंह चौहान का तर्क था कि वह सरकारी अस्पताल में इसलिए भर्ती नहीं हुए क्योंकि ऐसा करने से वहां भर्ती अन्य मरीजों को परेशानी होती। रविवार को भोपाल के सरकारी खुशीलाल आयुर्वेदिक अस्पताल का एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें कोविड-19 से पीड़ित मरीजों ने बताया है कि उनके नाश्ते में इल्लियां निकली है। 

मरीजों को दूध, फल और पौष्टिक भोजन बंद

बीते 15 दिनों से राजधानी के कोविड-केयर सेंटर में भर्ती एसिम्टोमेटिक मरीजों को प्रशासन की ओर से दूध और फल नहीं दिए जा रहे हैं। वहीं प्रशासन की ओर से सप्लाई किए जाने वाले खाने की क्वालिटी भी दिनों दिन खराब होती जा रही है। रविवार सुबह पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेदिक अस्पताल के कोविड केयर सेंटर में मरीजों को दिए गए नाश्ते के पैकेट में इल्लियां निकलीं। खबर फैलते ही हड़कंप मच गया। कोरोना संक्रमित दो महिला मरीजों ने इसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर किया है।

अस्पताल ने कहा कि यह हमारा नहीं जिला प्रशासन का मामला है

सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुए इस वीडियो के बारे में जब पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेदिक अस्पताल के अधिकारियों से पूछा गया तो उनका कहना था कि खाने और नाश्ते की व्यवस्था जिला प्रशासन, सीएमएचओ के जरिए एक होटल से की जा रही है। मरीजों के खाने के लिए पैकेट बंद फूड आते हैं। जो पैकेट सप्लाई किए जाते हैं, वही मरीजों को दिए जा रहे हैं। ये अस्पताल की व्यवस्था नहीं है, बल्कि विभागीय स्तर का मामला है।

27 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ग्वालियर में लड़की ने ब्लैकमेलर को मां का ATM और गहने तक दे दिए फिर भी नहीं माना 
मध्य प्रदेश के 38 जिलों में 5 दिन लगातार बारिश की संभावना 
ट्रैक्टर का साइलेंसर ऊपर की ओर क्यों होता है, कार की तरह पीछे, ट्रक की तरह साइड में क्यों नहीं 
जानिए, रत्ती में ऐसा क्या है जो हीरे-जवाहरात के लिए डिजिटल तराजु के बजाए उस पर भरोसा करते हैं 
दुनिया का पहला पिगी बैंक कहां बना, क्या सूअर बचत का प्रतीक होता है 
AIRTEL 52.6 लाख और VODAFONE-IDEA को 45.1 लाख यूजर्स का घाटा, JIO मुनाफे में
मिस्र देश की रानियां कभी बूढ़ी क्यों नहीं होती थी, क्या उनके पास कोई फार्मूला था


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here