Loading...    
   


जबलपुर में 36 हजार राशन कार्ड धारकों के नाम पात्रता सूची से हटे / JABALPUR NEWS

जबलपुर। मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में पिछले छह महीनों से राशन दुकान तक नहीं आने वाले जिले के करीब 36 हजार लोगों के नाम पात्रता सूची से अलग कर दिए गए हैं। ऐसे करीब 93 हजार 470 से अधिक परिवार हैं, जिनकी सूची इस कार्रवाई लिए बनाई गई है। शासन ने जिले के खाद्य एवं आपूर्ति कार्यालय को यह इन परिवारों के नाम भेजे हैं। इसी आधार पर जिले की शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित 995 से अधिक राशन दुकानों के संचालक यह कार्रवाई कर रहे हैं।    

कई ऐसे परिवार हैं जो कि अब राशन दुकानों से गरीबी रेखा कार्ड के माध्यम से खाद्यान्न लेने नहीं पहुंचते। इन परिवारों की सूची नगर निगम की समग्र आईडी के आधार पर तैयार की गई है। ज्ञात हो कि न केवल आधार कार्ड बल्कि समग्र आईडी से राशन कार्ड को जोड़ा गया है। जिन राशन कार्ड में आधार सीडिंग नहीं हुआ, उनमें भी यह काम तेजी से चल रहा है। कलेक्टर भरत यादव ने इस कार्य के लिए खाद्य एवं आपूर्ति कार्यालय को 30 जुलाई तक का समय दिया है। 

पात्रता सूची से परिवारों के विलोपन का काम 35 फीसदी पूरा हो चुका है। बताया जा रहा है कि इनमें ऐसे परिवार भी हैं जो कि जबलपुर में नहीं रह रहे हैं। वे किसी दूसरे काम से यहां से चले गए हैं। इसी तरह कुछ ऐसे भी लोग हैं जो कि पात्रता सूची से अलग हो गए है, वे भी अब राशन लेने के लिए नहीं आते हैं। क्योंकि अब यह आधार से भी जुड़ चुका है, ऐसे में उनकी पात्रता भी इसमें पकड़ में आ जाती है। इसलिए वे शासन की योजना के तहत नाममात्र की राशि में मिलने वाला खाद्यान्न नहीं लेते हैं।

27 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ग्वालियर में लड़की ने ब्लैकमेलर को मां का ATM और गहने तक दे दिए फिर भी नहीं माना 
मध्य प्रदेश के 38 जिलों में 5 दिन लगातार बारिश की संभावना 
ट्रैक्टर का साइलेंसर ऊपर की ओर क्यों होता है, कार की तरह पीछे, ट्रक की तरह साइड में क्यों नहीं 
जानिए, रत्ती में ऐसा क्या है जो हीरे-जवाहरात के लिए डिजिटल तराजु के बजाए उस पर भरोसा करते हैं 
दुनिया का पहला पिगी बैंक कहां बना, क्या सूअर बचत का प्रतीक होता है 
AIRTEL 52.6 लाख और VODAFONE-IDEA को 45.1 लाख यूजर्स का घाटा, JIO मुनाफे में
मिस्र देश की रानियां कभी बूढ़ी क्यों नहीं होती थी, क्या उनके पास कोई फार्मूला था
एमपी बोर्ड 12वीं: लड़कियां और सरकारी स्कूल, लड़कों और प्राइवेट स्कूल से आगे
एमपी बोर्ड जिला स्तरीय मेरिट लिस्ट
एमपी बोर्ड 12वीं प्रदेश स्तरीय मेरिट लिस्ट 
टीवी-फ्रिज की पैकिंग में थर्माकोल ही क्यों यूज करते हैं, जबकि ट्रांसपोर्टेशन के झटके सहने के लिए कई अच्छे विकल्प हैं 
किस सिक्के में मिलावट पर 3 साल और किसमें 7 साल की सजा होती है, पढ़िए मजेदार जानकारी 
कर्मचारी को वेतनवृद्धि मामले में लोकशिक्षण संचालनालय के स्पष्टीकरण का विश्लेषण
ग्वालियर में सरेआम लड़की को किडनैप कर चलते ऑटो में रेप की कोशिश
हमारा घर हमारा विद्यालय के कारण संक्रमित हुए शिक्षक की मौत


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here