Loading...    
   


टीम दिग्विजय सिंह के गोविंद गोयल ने कोषाध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, कमलनाथ ने स्वीकार कर लिया / MP NEWS

भोपाल। भले ही कांग्रेस में एकता का प्रदर्शन करने के लिए राज्यसभा चुनाव के बाद कमलनाथ और दिग्विजय सिंह एक दूसरे को लड्डू खिलाते हुए फोटो खींचवाए परंतु पार्टी में दरार और रिश्तो में गठान साफ नजर आती है। लॉकडाउन में कांग्रेस पार्टी का बैनर लगाकर अपनी जेब से हजारों गरीबों को भोजन वितरित करने वाले टीम दिग्विजय सिंह के कॉन्ग्रेस नेता गोविंद गोयल ने कोषाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

कमलनाथ ने इस्तीफा स्वीकार कर प्रकाश जैन को प्रभार सौंपा

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने गोविंद गोयल के आग्रह को स्वीकार करते हुए कांग्रेस कोषाध्यक्ष पद का प्रभार प्रकाश जैन, उपाध्यक्ष प्रदेश कांग्रेस कमेटी को दे दिया है।कमलनाथ को 23 जून, 2020 को पत्र लिखकर कोषाध्यक्ष पद से मुक्त करने हेतु गोविंद गोयल ने आग्रह किया था।

सूत्रों के मुताबिक, इस्तीफे की पेशकश में उन्होंने अपने विरोधी और पार्टी के कुछ नेताओं का नाम लिए बिना उनकी कार्यप्रणाली पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि वे कांग्रेस में 50 साल से पूरी निष्ठा से काम कर रहे हैं मगर जब कोषाध्यक्ष बने तो कुछ नेताओं को इससे असुविधा हुई। कोषाध्यक्ष होने के बाद भी उनकी उपेक्षा की गई है।

बताया जाता है कि गोयल ने पत्र में कांग्रेस में अपने तीन बार के महामंत्रीत्वकाल का हवाला दिया और कहा कि वे संगठन में पूरे समर्पण से काम करते रहे। उनकी लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ने की इच्छा थी लेकिन टिकट नहीं मिला। इसके बाद भी वे पार्टी के लिए जिम्मेदारी से काम करते रहे। सूत्रों ने बताया कि कमल नाथ को लिखे पत्र में उन्होंने कहा है कि पीसीसी के पदाधिकारियों द्वारा उन पर पार्ट टाइम नेता के आरोप भी लगाए जाते रहे,

मध्यप्रदेश में 2 कांग्रेस एक सूचीबद्ध दूसरी सक्रिय 

वर्तमान में मध्यप्रदेश में 2 कांग्रेस पार्टियां साफ नजर आती हैं। एक है दिग्विजय सिंह कांग्रेस और दूसरी कमलनाथ कांग्रेस। कमलनाथ कांग्रेस के ज्यादातर नेता महत्वपूर्ण पदों पर मौजूद है। जो नहीं है वह किसी ऐसी कुर्सी के पीछे खड़े हैं जिस पर टीम दिग्विजय सिंह का व्यक्ति विराजमान है। दिग्विजय सिंह कांग्रेस के ज्यादातर नेता महत्वपूर्ण पदों पर नहीं है लेकिन जमीनी स्तर पर ज्यादा सक्रिय हैं। बिकाऊ और टिकाऊ के अलावा कांग्रेस में कुछ निष्ठावान नेता ऐसे भी हैं जो पार्टी के अंदर मौजूद पार्टीबंदी से तंग आ गए हैं। विचारधारा के कारण भाजपा में जा नहीं सकते परंतु कांग्रेस में काम करने का मन नहीं कर रहा। तीसरे संगठन का इंतजार किया जा रहा है।

26 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

इंदौर में जज के बेटे ने स्ट्रीट डॉग को गोली मार दी, पालतू कुत्ते पर भोंक रहा था
ग्वालियर में मुरैना-भिण्ड से आने वालों पर प्रतिबंध, क्वारेंटाइन किए जाएंगे
सुनिए पीएम मोदी के बारे में कांग्रेस विधायक वो बयान जिसके बाद गोलियां चल गईं
भोपाल के बड़े कपड़ा व्यापारी की कोरोना से मौत, बाजार में दहशत
बीमा प्रीमियम देने के बाद रसीद मिलने से पहले मौत हो जाए तो क्लैम मिलेगा या नहीं
भारत में सभी सामान्य रेल सेवाएं रद्द, पढ़िए रेलवे बोर्ड का नया फैसला
अधिकारी, कोर्ट में गलत जानकारी पेश कर दे तो विभागीय कार्रवाई होगी या FIR दर्ज होगी, पढ़िए
एक पेड़ जिसके फल में इम्यूनिटी, टहनियां टूथब्रश और पत्ते माउथ फ्रेशनर होते हैं, भविष्यवाणी भी करता है


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here