Loading...    
   


100 कमलनाथ की एक महाराज की: BJP की वर्चुअल रैली में नड्डा के साथ नजर आए सिंधिया / MP NEWS

भोपाल। ज्योतिरादित्य सिंधिया जब से कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं तब से लेकर अब तक कमलनाथ कैंप के लोगों ने जनहित के मुद्दों से ज्यादा एक सवाल बार-बार दोहराया और वह यह था कि 'ज्योतिरादित्य सिंधिया को भारतीय जनता पार्टी में जाकर क्या सम्मान मिला।' कमलनाथ कैंप के इस सवाल का जवाब आज उस समय मिला है जब भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा की वर्चुअल रैली में श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया मंच पर नजर आए।

मध्य प्रदेश जन संवाद (वर्चुअल) रैली बड़े पैमाने पर प्रचार प्रसार हुआ था

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रसाद नड्डा ने आज मध्य प्रदेश जन संवाद (वर्चुअल) रैली संबोधित किया। इसको लेकर बड़े पैमाने पर तैयारी की गई थी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर भारतीय जनता पार्टी के सभी पदाधिकारी एवं विधायक इत्यादि ने अपने समर्थकों एवं कार्यकर्ताओं से ही रैली में शामिल होने की अपील की थी। सोशल मीडिया पर इस रैली को लेकर एक बड़ा कैंपेन आयोजित किया गया था। स्वाभाविक था कि राजनीति में रुचि रखने वाले सभी लोगों की नजर इस रैली पर आकर टिक गई थी। लोक समझना चाहते थे कि आखिर श्री जेपी नड्डा इस रैली में ऐसा क्या बोलने वाले हैं।

राजनीति में बोल्ड फैसला लेने के लिए हिम्मत चाहिए होती है: जेपी नड्डा 


मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी से उतार दिए गए श्री कमलनाथ और उनके समर्थक श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा में सम्मान को लेकर जितने भी सवाल कर रहे थे उसका जवाब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा ने 3 लाइनों में दिया। राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा ने कहा कि राजनीति में बोल्ड फैसला लेना और सही के साथ खड़े रहने के लिए हिम्मत चाहिए होती है और वो हिम्मत ज्योतिरादित्य सिंधिया जी ने दिखाई। उन्होंने स्पष्ट कहा कि कमलनाथ जी और राहुल गांधी ने जिस एंजेंडे को लेकर सरकार बनाई थी, उसे छोड़कर भ्रष्टाचार का एजेंडा पकड़ लिया। 

ज्योतिरादित्य सिंधिया: पार्टी बदली लेकिन जलवा कायम है

मध्य प्रदेश जन संवाद (वर्चुअल) रैली के साथ ही यह बात साबित हो गई कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भले ही पार्टी बदल ली है लेकिन उनका जलवा कायम है। इस एक आयोजन में कई सवालों का जवाब दे दिया है। भारतीय जनता पार्टी के उन नेताओं को भी जवाब मिल गया जो गुना शिवपुरी की सीमा पर एक बंद कमरे में मंत्रणा कर रहे थे। राधौगढ़ के राजा साहब श्री दिग्विजय सिंह के लिए निश्चित रूप से ही है व्यक्तिगत झटका देने वाली खबर है।

25 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

CBSE 10th BOARD EXAM रद्द, अब कोई परीक्षा नहीं होगी: सुप्रीम कोर्ट का फैसला
इंदौर में डॉक्टर के पिता की कोरोना से मौत, डॉक्टर सहित परिवार पॉजिटिव


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here