Loading...    
   


अस्पतालों को डॉक्टर और स्टाफ को वापस लाने की चेतावनी जारी | INDORE NEWS

इंदौर। मरीजों की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद रविवार को कलेक्टर मनीष सिंह ने एक बार फिर को छोड़कर अन्य मरीजों को इलाज आसानी से मिल सके लेकिन अस्पतालों से मरीजों को यह कहकर लौटाया जा रहा है कि काम करने के लिए स्टाफ नहीं है। बेड नहीं है। इसके बाद कलेक्टर ने स्पष्ट कर दिया कि ऐसे मौके पर भी यदि कोई नहीं आएगा तो उस पर एस्मा के तहत कार्रवाई की जाएगी।  

अस्पताल संचालकों का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से स्टाफ काम पर नहीं आ रहा है। इस पर कलेक्टर का कहना है कि कोई भी चिकित्सकीय स्टाफ काम से इनकार नहीं कर सकता। यदि डॉक्टर और स्टाफ काम पर नहीं आ रहा है तो सभी के नाम, नंबर और पते हमें उपलब्ध करवाइए। ऐसे लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। अस्पतालों की ओर से बैठक में आए प्रतिनिधियों ने भी कहा कि ग्रीन कैटेगरी अस्पतालों में कोई सुविधा नहीं है। डॉक्टरों व स्टाफ के पास कोई सुविधा नहीं है। यदि एक भी कोरोना संक्रमण का मरीज मिला तो सभी लोगों के संक्रमित होने का ग्रीन जोन के अस्पताल संचालकों की बैठक बुलवाई। इन श्रेणी में अस्पतालों को इसलिए रखा गया कि ताकि फ्लू पीड़ित मरीजों खतरा रहेगा।

डॉक्टरों और नर्सों ने यह मुद्दा भी उठाया कि यदि उन्हें कुछ हो जाए तो उनका इलाज कहां किया जाएगा। इस पर बताया गया कि इसके चोइथराम अस्पताल में व्यवस्था की गई है। शैल्बी अस्पताल में दो डॉक्टरों में संक्रमण मिलने के बाद से यह अस्पताल बंद था। इसे फिर से शुरू करने के निर्देश दिए गए। इस अस्पताल को भी यलो जोन अस्पताल की श्रेणी में रखा जाएगा।


13 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ीं जा रहीं खबरें

कीबोर्ड के बटन ABCD (अल्फाबेटिकल) क्यों नहीं होते, क्या कोई रीजन है या गलती
पुरानी बाइक का पिकअप कम क्यों हो जाता है 
चेन पुलिंग करने पर बोगी का नंबर रेल पुलिस को कैसे पता चल जाता है 
इंदौर में मुसलमानों ने एडवांस में कब्रें खुदवा लीं, कब्रिस्तान में वेटिंग चल रही थी 
1.35 करोड़ कर्मचारी NPS अकाउंट से निकासी कर सकते हैं
किसान सावधान! पश्चिम से काली घटाएं उठ रही हैं, बारिश होगी
IIFA के बाद IPL 2020 की भी उम्मीद खत्म, दादा ने कहा भूल जाइए 
मध्य प्रदेश में राष्ट्रपति शासन की मांग, सांसद विवेक तन्खा ने पत्र लिखा 
बंदूक की गोली में यदि माचिस से आग लगाएं तो क्या होगा 
ऑनलाइन के नाम पर खुला है दाल बाजार 
SDOP ने सिंधिया भक्त पूर्व विधायक को ऐसी धूल चटाई, कोरोना से ज्यादा वायरल हो गई (आडियो सुनें) 
पत्नी को धर्मपत्नी क्यों कहते हैं, क्या कोई लॉजिक है या बस मान-सम्मान के लिए 
कोरोना से जीता मरीज सिस्टम से हार गया, डिस्चार्ज के बाद भी सामाजिक बहिष्कार जारी 
24 घंटे खुलेगी सब्जी की दुकान, किसानों के लिए भी नया प्लान: शिवराज सिंह चौहान 
कामवाली बाई, सब्जी वाला सहित 15 उद्योगों को सशर्त मंजूरी देने वाली है सरकार: IANS Report 
इंदौर के कोरोना संक्रमित मरीजों को सतना क्यों भेजा: अजय सिंह राहुल 
शिवराज सिंह के लाड़ले रिलायंस पावर के खिलाफ मजिस्ट्रियल जांच के आदेश
मई के लास्ट वीक में खुल सकते हैं स्कूल-कॉलेज 
भोपाल में कोरोना संदिग्ध मरीजों के अंतिम संस्कार पर रोक
कमलनाथ की दलीलें खारिज, सुप्रीम कोर्ट में केस हार गए, योग्यता पर सवाल 
जबलपुर में 11वां कोरोना पॉजिटिव मिला 
GOOD NEWS: मध्यप्रदेश में सभी किराना दुकान खोलने के निर्देश जारी हो सकते हैं 
एंबुलेंस लेने नहीं आयी तो कोरोना पॉजिटिव बाइक चलाकर हॉस्पिटल पहुंचा 
बंदूक की गोली में यदि माचिस से आग लगाएं तो क्या होगा 
क्या गुजारा भत्ता में भी वेतन की तरह DA बढ़ाया जा सकता है
कामवाली बाई, सब्जी वाला सहित 15 उद्योगों को सशर्त मंजूरी देने वाली है सरकार: IANS Report 
SDOP ने सिंधिया भक्त पूर्व विधायक को ऐसी धूल चटाई, कोरोना से ज्यादा वायरल हो गई (आडियो सुनें) 
मध्यप्रदेश में शवयात्रा/ जनाजा/ शमशान/ कब्रिस्तान के लिए गाइडलाइन जारी 
भोपाल में सब्जियों की रेट लिस्ट कलेक्टर द्वारा निर्धारित, यहां पढ़ें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here