Loading...    
   


MP NEWS- स्कूल शिक्षा की ट्रांसफर पॉलिसी से शिक्षक नाराज

भोपाल
। मध्य प्रदेश शासन के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी की गई टीचर्स ट्रांसफर पॉलिसी से मध्य प्रदेश के शिक्षक एवं संगठन नाराज हैं। कर्मचारी नेताओं ने शिक्षक तबादला नीति को विसंगति पूर्ण बताते हुए संशोधन की मांग की है। शिक्षकों ने तबादला नीति में पारदर्शिता का अभाव बताया है। जिससे पक्षपात की गुंजाइश बन रही है।

मध्य प्रदेश शिक्षक कांग्रेस के प्रांतीय प्रवक्ता सुभाष सक्सेना ने इस संदर्भ में तर्क दिया कि मप्र शासन के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा 1 जुलाई से 31 जुलाई तक स्थानांतरण पर लगी रोक हटा ली गई और निर्देश में यह कहा था कि स्कूल शिक्षा विभाग चाहे तो अपनी पॉलिसी अलग से बना सकता है। इसी क्रम में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा तबादलों को लेकर सोमवार को दिशा-निर्देश जारी किए, जिसके अनुसार जिले के भीतर स्थानांतरण जिला शिक्षा अधिकारी प्रभारी मंत्री के अनुमोदन से कर सकेंगे और अंतर जिला स्थानांतरण विभागीय मंत्री के अनुमोदन से डीपीआई आयुक्त करेंगे।

प्रांतीय प्रवक्‍ता के मुताबिक इसमें एक तकनीकी समस्या यह है कि समस्त रिक्त पदों की जानकारी पूरे प्रदेश से डीपीआइ द्वारा मांगी गई है। डीपीआई अंतर जिला स्थानांतरण पर उन रिक्त पदों पर स्थानांतरण करेंगे। साथ ही स्‍कूल शिक्षा विभाग ने अपने निर्देश में यह भी कहा है कि 25 जुलाई से 31 जुलाई तक जिला शिक्षा अधिकारी जिले के भीतर ट्रांसफर करेंगे। यदि एक ही स्कूल में डीपीआइ और जिला शिक्षा अधिकारी किसी शिक्षक का स्थानांतरण कर देते हैं तो डीपीआइ का आदेश मान्य किया जाएगा। 

ऐसी स्थिति में जिले से जिले में शिक्षक ट्रांसफर नहीं करवा पाएंगे और अंतर जिला के स्थानांतरण हो पाएंगे। विभाग के दिशा-निर्देशों से शिक्षकों और अधिकारियों में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। अत: संगठन का कहना है कि 2019 में जिस प्रकार डीपीआइ द्वारा ही जिले के भीतर और अंतर जिला स्थानांतरण किए गए थे, उसी प्रकार किए जाएं, ताकि उक्त तकनीकी समस्या नहीं आए।

2 साल पहले ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षकों की कमी हो गई थी

शिक्षक कांग्रेस का कहना है कि दो साल पहले तात्कालीन स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी के कार्यकाल में करीब 35 हजार शिक्षकों के स्थानांतरण ऑनलाइन किए गए थे, जबकि प्रदेश भर से 70 हजार शिक्षकों ने आवेदन किए थे। इससे हालात यह हो गए थे कि ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षकों की कमी हो गई थी, जबकि अधिकांश शिक्षक शहरों में ज्यादा हो गए थे। विभाग के ऑनलाइन आदेश निकाले जाने से मैदानी स्तर पर यह पता नहीं चल पाता है कि शिक्षकों के नियम अनुसार ट्रांसफर हुए है या नहीं। ऑनलाइन आदेश निकलने से अन्य शिक्षक विरोध नहीं कर पाते हैं।

13 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

IAS TRANSFER- MP IAS और SAS अधिकारियों की ट्रांसफर लिस्ट जारी
MP NEWS- चयनित शिक्षकों का भोपाल में प्रदर्शन, पहले शिक्षा मंत्री फिर डीपीआई
BHOPAL NEWS- 77 साल के राज्यपाल को सीढ़ियां चढ़ना पड़ा, SDO और सब इंजीनियर सस्पेंड
MP POLICE NEWS- 150 इंस्पेक्टरों को कार्यवाहक डीएसपी बनाया, लिस्ट जारी
MP NEWS- मध्य प्रदेश में पटवारियों का आंदोलन: आधे से ज्यादा काम बंद किए, कलम बंद हड़ताल का ऐलान
MP NEWS- बैतूल की जानलेवा लव स्टोरी में पांचवी मौत, बॉयफ्रेंड के भाई की लाश फांसी पर मिली
MP NEWS- त्रुटिपूर्ण वेतन निर्धारण विवाद, हाईकोर्ट ने ब्याज वसूली को अवैध माना, वापस करने के आदेश
MP NEWS- बिजली के बिल जमा मत करना, वसूली वालों को यह दिखा देना: दिग्विजय सिंह
MP BOARD 10th RESULT तारीख की आधिकारिक घोषणा
MP NEWS- विधानसभा के मानसून सत्र की घोषणा
MP SCHOOL EDUCATION TEACHER TRANSFER POLICY - मध्य प्रदेश शिक्षक स्थानांतरण नीति

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in HindiDISC BRAKE बाइक के अगले पहिए में क्यों लगाते हैं, पिछले में क्यों नहीं
GK in Hindiकैसे पता करें TV-AC फ्रिज ने 1 महीने में कितनी यूनिट बिजली खर्च की 
GK in Hindiउपहार के लिफाफे में एक रुपया क्यों जोड़ा जाता है, लॉजिक क्या है
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiभारत के किस रेलवे स्टेशन का नाम, सबसे बड़ा है, इसमें अंग्रेजी के कुल कितने अक्षर आते हैं 
GK in Hindiसड़क किनारे वृक्षों पर सफेद पेंट क्यों किया जाता है, वैज्ञानिक कारण 
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
GK in Hindiमुर्गा सूर्योदय से पहले बांग क्यों देता है, कभी लेट क्यों नहीं होता
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here