Loading...    
   


MP BOARD 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा का फैसला कब होगा, यहां पढ़िए - EDUCATION NEWS

भोपाल
। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर स्कूल शिक्षा विभाग के राज्यमंत्री इंदर सिंह परमार तक कई बार बयान दे चुके हैं कि माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्य प्रदेश द्वारा 10वीं हाई स्कूल की परीक्षा का आयोजन नहीं किया जाएगा लेकिन सरकार अब तक यह घोषित नहीं कर पाई है कि दसवीं के विद्यार्थियों का मूल्यांकन किस पद्धति के आधार पर किया जाएगा। यह फैसला 15 मई से पहले हो सकता है क्योंकि एमपी बोर्ड के सचिव पश्चिम बंगाल चुनाव की ड्यूटी पर थे, अब वापस लौट आए हैं। 

पश्चिम बंगाल चुनाव ड्यूटी पर गए थे एमपी बोर्ड के सचिव

माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्य प्रदेश के सचिव उमेश कुमार सिंह की ड्यूटी बंगाल चुनाव में लगाई गई थी। यही कारण था कि अब तक परीक्षाओं के बारे में कोई फैसला नहीं हो पा रहा था। बताया जा रहा है कि उमेश कुमार सिंह अब पश्चिम बंगाल से वापस मध्यप्रदेश में आ गए हैं और कामकाज संभाल लिया है। उम्मीद की जा रही है कि 15 मई से पहले फाइनल हो जाएगा कि 10वीं हाई स्कूल के विद्यार्थियों का मूल्यांकन किस पद्धति के आधार पर किया जाएगा। कहा जा रहा है कि बारहवीं हायर सेकेंडरी स्कूल के बारे में भी फैसला उमेश कुमार सिंह ही करेंगे। 

परीक्षा से जरूरी चुनाव है क्या 

एक बार फिर प्रश्न उपस्थित हो गया है। क्या चुनाव लोगों के जीवन और परीक्षाओं से ज्यादा महत्वपूर्ण है। माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्य प्रदेश के सचिव की चुनाव में ड्यूटी उस समय लगाई गई जबकि मध्य प्रदेश में बोर्ड की परीक्षाओं का आयोजन होना था। किसी को नहीं पता था कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर आएगी और इतनी भयानक होगी कि परीक्षाओं को स्थगित करना पड़े। सवाल यह है कि परीक्षा जैसे महत्वपूर्ण कार्य को छोड़कर उमेश कुमार सिंह की ड्यूटी पश्चिम बंगाल के चुनाव में क्यों लगाई गई थी। 

08 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here