Loading...    
   


मजदूर और किसानों को कोरोना क्यों नहीं होता- अमेरिका की रिसर्च रिपोर्ट में खुलासा - Why labor and farmers do not have corona

कोविड-19 के 500 से ज्यादा स्ट्रेन पता किए जा चुके हो और इनमें से कुछ तो बेहद जानलेवा है। यह इतनी खतरनाक है कि जांच रिपोर्ट आने से पहले संक्रमित व्यक्ति की मौत हो जाती है। एक बात सब ने ध्यान दी है कि कोरोनावायरस सबसे ज्यादा उन लोगों को शिकार बना रहा है जो एयर कंडीशनर में रहते हैं और फास्ट फूड खाते हैं। उच्च मध्यमवर्गीय और मिडिल क्लास में वायरस का शिकार हुआ है लेकिन गरीब मजदूर और किसान वायरस से मरते हुए नहीं दिखाई दिए। हर कोई यह सवाल करता है कि मजदूरों को कोरोना नहीं होता क्या। अमेरिका में हुई एक रिसर्च में इसका खुलासा हुआ है।

शरीर से मेहनत करने वालों को कोरोनावायरस नुकसान नहीं पहुंचाता

अमेरिका की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कोरोना पर की अपनी एक रिसर्च में बताया है कि जो लोग शारीरिक श्रम नहीं करते हैं या बेहद कम करते हैं, उनमें कोरोना का संक्रमण घातक साबित हो सकता है। ऐसे लोगों को संक्रमित होने पर अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता है। साथ ही ऐसे मरीजों में मौतों का आंकड़ा भी ज्यादा है। वहीं शारीरिक श्रम करने वाले लोग अगर संक्रमित हो भी गए तो कोरोना उन्हें ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा पाता है। कई बार तो उन्हें पता ही नहीं चलता कि वह संक्रमित हुए थे।

शारीरिक रूप से सक्रिय ना रहने वाले लोगों में संक्रमण का खतरा

ब्रिटिश जर्नल ऑफ सपोर्ट मेडिसिन में प्रकाशित इस रिसर्च में बताया गया है कि धूम्रपान, मोटापा, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हृदय रोग और कैंसर जैसी बीमारी से पीड़ित लोगों में भी कोरोना संक्रमण गंभीर होने का खतरा है लेकिन शारीरिक रूप से सक्रिय ना रहने वाले लोगों में संक्रमण का खतरा उक्त बीमारियों से पीड़ित मरीजों से भी ज्यादा है।

शरीर से निकलने वाला पसीना कोरोनावायरस को कमजोर करता है

रिसर्च से ये बात भी साफ हो गई है कि गांवों में क्यों कोरोना संक्रमण उतना घातक नहीं है, जितना वह शहरों में है। दरअसल गांव के लोगों की जीवनशैली शारीरिक श्रम वाली रही है। जिसके चलते कोरोना ग्रामीण इलाकों में ज्यादा नुकसान नहीं कर पाया। शायद शरीर से निकलने वाला पसीना कोरोनावायरस के संक्रमण को प्रभावी होने से रोकता है।

कोरोनावायरस का शिकार वही हो रहे हैं जिनके शरीर से पसीना नहीं निकलता

माना जा रहा है कि यही वजह है कि अमेरिका समेत विकसित देशों में कोरोना का संक्रमण बेकाबू होने की प्रमुख वजह यही हो सकती है क्योंकि जीवन शैली और तकनीक के चलते यूरोपीय, अमेरिका आदि देशों में लोग ज्यादा शारीरिक श्रम नहीं करते हैं। जिसके कारण वहां संक्रमण बेकाबू भी हुआ।

16 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here