Loading...    
   


जबलपुर में 600 से अधिक कैदियों को बिना जाँच के सेंट्रल जेल भेजा, 40 कैदी पॉजिटिव / JABALPUR NEWS

जबलपुर। मध्य प्रदेश जबलपुर के नेताजी सुभाषचंद्र बोस केंद्रीय जेल में 600 से अधिक कैदियों को प्रदेश की दूसरी जेलों से ट्रांसफर कर भेज दिया गया था। इस दौरान इन कैदियों में कोरोना के लक्षणों की जाँच भी की गई थी, लेकिन बंदी स्वस्थ दिखाई दे रहे थे। बीते दिनों जब छोटी गोल में बंद कुछ कैदियों को सर्दी-खाँसी के लक्षण दिखाई दिये तो जाँच हुई तो हंगामा मच गया। एक के बाद एक रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। 

40 से अधिक कैदी संक्रमित हो गए हैं, जिनको आनन-फानन में अन्य कैदियों से अलग किया गया, लेकिन जैसे ही यह बात जेल की अन्य बैरकों में बंद कैदियों के बीच पहुँची तो वे सहम गए। 10 हजार व्यक्तियों का हुआ आना-जाना- जेल में पिछले 6 महीनों के अंदर कोरोना काल में तकरीबन 10 हजार से अधिक व्यक्तिओं का आना-जाना हुआ, क्योंकि जेल प्रबंधन ने हर दिन आने-जाने वाले लोगों का डाटा जुटाया तो पता चला कि 10 हजार से अधिक व्यक्तियों का जेल में आना-जाना हुआ था तब कोरोना नहीं था, लेकिन अगस्त माह में कोरोना का मरीज पाया गया।

एक तरफ कैदी कोरोना पॉजिटिव हैं दूसरी तरफ एक डिप्टी जेलर और 3 जेल प्रहरियों को भी कोरोना संक्रमित पाया गया है। एक सप्ताह में 40 से अधिक व्यक्तियों को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद जेल में हर कोई अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हो गया है, जबकि जेल के अंदर 50 अस्थायी बैरक तक बनाई गई थीं, ताकि जिनको लक्षण दिखे उनको अलग रखा जा सके, लेकिन सारी कवायद एक सप्ताह के अंदर हुए कोरोना विस्फोट में पंगु साबित हो गई है। वहीं रिपोर्ट आने में हो रही देरी के कारण भी जेल के अंदर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

सेंट्रल जेल में कोरोना संक्रमण के मामले को लेकर पूरी रिपोर्ट अधिकारियों से मँगवाई गई है। संक्रमण कैसे फैला जाँच करवा रहे हैं।
-कर्मवीर शर्मा, कलेक्टर, जबलपुर

जिन कैदियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई उनमें से तकरीबन 90 प्रतिशत मामलों में लक्षण तक नजर नहीं आ रहे हैं। प्राथमिकता के आधार पर जाँच चल रही है। पहले भी हमने रैंडम सैंपलिंग करवाई थी।
गोपाल ताम्रकार, जेल अधीक्षक, जबलपुर जेल

27 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ज्योतिरादित्य सिंधिया के नागपुर प्रवास के बाद कमलनाथ और शिवराज सिंह मिले
सिंधिया के मोदी कैबिनेट में शामिल होने के आसार
किन परिस्थितियों में की गई हत्या पर सजा नहीं मिलती, यहां पढ़िए
कर्मचारियों की वेतनवृद्धि रोककर नया एयरक्रॉफ्ट खरीद लाए शिवराज: कर्मचारी संघ
मुख्यमंत्री जी, मध्यप्रदेश के नौजवान बहुत परेशान है, उन्हें दुत्कारिये मत!


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here