Loading...    
   


कोरोना पीड़ित की दो रिपोर्ट नेगेटिव आई, मौत के साथ तीसरी रिपोर्ट पॉजिटिव / JABALPUR CORONA NEWS

जबलपुर। करीब 71 साल के एक वृद्ध की कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण मौत हो गई। संक्रमण के बावजूद उनकी दो रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। डॉक्टरों को उनमें कोविड-19 के लक्षण दिखाई दे रहे थे परंतु रिपोर्ट नेगेटिव आ रही थी। इसी के चलते विवाद की स्थिति बनी और परिवार के लोग उन्हें अच्छे इलाज के लिए नागपुर ले गए। जबलपुर से रवानगी के बाद उनकी तीसरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई और नागपुर पहुंचने से पहले उनकी मृत्यु हो गई।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस चिकित्सा महाविद्यालय जबलपुर की ओर से बताया गया है कि 'एक बुजुर्ग मरीज, 71 वर्ष पुरुष जोकि पहले से मधुमेह, बीपी और हृदय रोग के मरीज थे उन्हे तेज बुखार, खाँसी और साँस लेने की तकलीफ से मेडिकल मे 13/07/20 को 11.30 pm बजे अस्पताल लाया गया। मरीज के पास विक्टोरिया अस्पताल का रेफेरल पर्ची थी जिसमे कोविड रिपोर्ट(12/07/20)  नेगेटिव होने  के बारे मे लिखा हुआ था।  
मरीज को आगे के इलाज के लिए मेडिसिन जेनेरल वार्ड मे भर्ती किया गया। इलाज के दौरान मरीज की तकलीफ मे सुधार न आने पर, मरीज का दुबारा कोविड सेम्पल 14/7/20 को भेजा गया जिसकी रिपोर्ट 15/7/20 को नेगेटिव आई।

कोविड का पीक वायरस लोड बीमारी के पाँचवें सातवे दिन आता है और 30 प्रतिशत आर टी पी सी आर रिपोर्ट फाल्स नेगेटिव हो सकता है और दो नेगेटिव रिपोर्ट के बाद भी मरीज के बीमारी के लक्षण कोविड जैसे ही लग रहे थे, उनका  कोविड जाँच फिर से  15/07/20 को भेजा गया । जिसकी रिपोर्ट बाद मे पॉजिटिव आई। 

परंतु पहली रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद मरीज के परिजनों ने अस्पताल के वर्जित  छेत्र मे आकर काम और इलाज मे बाधा डालने लगे और छुट्टी के लिए दबाव डालने लगे। इस कारण मरीज को 16/07/20  दोपहर को डिस्चार्ज अगेंस्ट मेडिकल अडवाईस दिया गया। क्योंकि मरीज  डॉक्टरों की सलाह के विरुद्ध जाकर अपनी इच्छा से छुट्टी लेकर गया और उनकी दूसरी रिपोर्ट बाद में देरी से आई जोकि पॉजिटिव थी। 

मरीज और उनके संपर्क मे आये व्यक्ति का जल्द पता लगाना और उचित क्वारेंटिन व आइसोलेट  करना अति आवश्यक है जिससे कोविड को फैलने से रोका जा सकता है। नागपुर ले जाते समय रास्ते मे नही रहे।

19 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मांसाहारी जानवर हमेशा शाकाहारी जानवरों का शिकार क्यों करते हैं
रेलवे स्टेशन का नाम बताने वाले बोर्ड पर समुद्र तल से ऊंचाई क्यों लिखी रहती है
न्यूनतम अंतर को दर्शाने 19-20 का फर्क क्यों कहते हैं, 4-5 या 9-10 का फर्क क्यों नहीं कहते
बड़ी संख्या में प्राइवेट स्कूल छोड़कर सरकारी स्कूलों में शिफ्ट हो रहे हैं स्टूडेंट्स
मध्य प्रदेश: रेत माफिया ने ASI को चांटा मारा (वीडियो देखें), ट्रैक्टर-ट्रॉली छुड़ा ले गया
मध्यप्रदेश में 24वें विधायक ने कमलनाथ का नेतृत्व अस्वीकारा, इस्तीफा दिया
प्रकृति में सिर्फ मनुष्यों की आइब्रो क्यों होती हैं, जानवरों की क्यों नहीं होती ?
कथन या वचन पर हस्ताक्षर करने से मना करने पर भी क्या FIR दर्ज हो सकती है, पढ़िए
चांद में ऐसा क्या होता है कि उससे टकराकर सूर्य की गर्म किरणें ठंडी चांदनी में बदल जातीं हैं


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here