Loading...    
   


प्राचार्य की प्रताड़ना से परेशान अतिथि व्याख्याता ने आत्महत्या की, जांच कराएं: संघ / EMPLOYEE NEWS

भोपाल। पॉलिटेक्निक अतिथि व्याख्याता संघ, मध्यप्रदेश ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को एक ज्ञापन भेजकर मांग की है कि शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय पवई में कार्यरत अतिथि व्याख्याता श्री वृंदावन प्यासी की आत्महत्या के मामले में उच्च स्तरीय निष्पक्ष जांच के आदेश जारी करें। मृतक के पिता ने आरोप लगाया है कि अतिथि व्याख्याता को प्राचार्य द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा था।

पॉलिटेक्निक अतिथि व्याख्याता संघ मध्य प्रदेश के सचिव देवीदीन अहिरवार ने बताया  की शासकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज पवई में कार्यरत अतिथि व्याख्याता श्री वृंदावन प्यासी ने 13 जुलाई 2020 को अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी। इस संबंध में संगठन ने  माननीय मुख्यमंत्री महोदय को पत्र लिखकर निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। 

अतिथि व्याख्याता संघ का कहना है कि आत्महत्या करने वाले श्री वृंदावन प्यासी मानसिक तनाव में थे, बीते रोज शासकीय पॉलिटेक्निक महाविद्यालय पवई में अतिथि व्याख्याताओं को पुनः नियुक्ति हेतु प्राचार्य द्वारा आदेश निकाल कर पीपीटी प्रेजेंटेशन करने को बोला गया था जो कि अनुचित था जबकि पूर्व में शासन ने सहमति के आधार पर पुनः नियुक्ति देने का आदेश जारी किया था। 

अतिथि व्याख्याता को डर था कि टेस्ट की आड़ में कहीं संस्था से बाहर नहीं कर दिया जाए क्योंकि अतिथि व्याख्याता ने पूर्व में न्यायालय एवं शासन के सामने कॉलेज प्रशासन की शिकायत की थी। ऐसा प्रतीत होता है कि अतिथि व्याख्याता कहीं ना कहीं अपनी पुनः नियुक्ति को लेकर मानसिक तनाव में था। इस संबंध में संगठन ने माननीय मुख्यमंत्री महोदय को पत्र लिखकर निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है।

19 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मांसाहारी जानवर हमेशा शाकाहारी जानवरों का शिकार क्यों करते हैं
रेलवे स्टेशन का नाम बताने वाले बोर्ड पर समुद्र तल से ऊंचाई क्यों लिखी रहती है
न्यूनतम अंतर को दर्शाने 19-20 का फर्क क्यों कहते हैं, 4-5 या 9-10 का फर्क क्यों नहीं कहते
बड़ी संख्या में प्राइवेट स्कूल छोड़कर सरकारी स्कूलों में शिफ्ट हो रहे हैं स्टूडेंट्स
मध्य प्रदेश: रेत माफिया ने ASI को चांटा मारा (वीडियो देखें), ट्रैक्टर-ट्रॉली छुड़ा ले गया
मध्यप्रदेश में 24वें विधायक ने कमलनाथ का नेतृत्व अस्वीकारा, इस्तीफा दिया
प्रकृति में सिर्फ मनुष्यों की आइब्रो क्यों होती हैं, जानवरों की क्यों नहीं होती ?
कथन या वचन पर हस्ताक्षर करने से मना करने पर भी क्या FIR दर्ज हो सकती है, पढ़िए
चांद में ऐसा क्या होता है कि उससे टकराकर सूर्य की गर्म किरणें ठंडी चांदनी में बदल जातीं हैं


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here