Loading...    
   


मंत्रालय में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण कर्मचारियों में आक्रोश, अब तक 11 पॉजिटिव / BHOPAL NEWS

भोपाल। गृह व परिवहन विभाग के उप सचिव आशीष भार्गव के पास काम करने वाले दो कर्मचारी संक्रमित मिले हैं। इनमें से एक कर्मचारी की रिपोर्ट शनिवार को आई थी। पूर्व में इस कर्मचारी का सैंपल लिया था, वह नेगेटिव आया। उसकी तबीयत बिगड़ गई तो परिजन हमीदिया लेकर गए थे। जहां से उसे एम्स भेजा था। दोबारा सैंपल लेने पर रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।   

मंत्रालय में अभी तक 11 कर्मचारी कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमें से 11वां कर्मचारी शनिवार को मिला है। इसके बाद से कर्मचारी नाराज हैं। इनका आरोप है कि वे लॉकडाउन खुलने के बाद से मंत्रालय के अधिकारियों को ज्ञापन सौंप रहे हैं, बता रहे हैं कि संक्रमण का खतरा है। यह तभी कम होगा जब मंत्रालय में नियमित साफ-सफाई हो, शौचालयों में साबुन, प्रत्येक दफ्तरों में सैनिटाइजेशन हो, निशुल्क मास्क उपलब्ध कराए जाएं। साथ ही 50 फीसद कर्मचारियों को ही बुलाएं, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। हमारी नहीं सुनी, इसलिए मंत्रालय में कोरोना संक्रमण फैल रहा है। । 

मुख्यमंत्री के अतिरिक्त सचिव ओपी श्रीवास्तव के पास पदस्थ एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी पांच दिन पहले संक्रमित मिला था। उक्त कर्मचारी के संपर्क में आने वाले अन्य कर्मचारियों की जांच के लिए शनिवार को सामान्य प्राशसन विभाग के उप सचिव डीके नागेंद्र ने पत्र लिखा है। ऊर्जा विभाग में पदस्थ तीन कर्मचारी व एक अधिकारी संक्रमित मिले हैं। इनमें से एक आयुक्त बनकर खंडवा चले गए थे, जहां उन्हें कोरोना संक्रमण निकला था।

नगरीय प्रशासन में तीन कर्मचारी संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से एक की मौत हो चुकी है। मंत्रालय के वल्लभ भवन क्रमांक 1 के वाणिज्यकर विभाग में सबसे पहले एक कर्मचारी संक्रमित मिला था। वह सहायक ग्रेड दो के पद पर पदस्थ है। वह जबलपुर चला गया था, जहां उसकी जांच हुई थी। वह ठीक हो गया है।

मंत्रालय में कर्मचारी लगातार संक्रमित मिल रहे हैं। हम शुरू से जांच, छिड़काव, साफ-सफाई की बात कह रहे हैं, लेकिन हमारी बात ही नहीं सुन रहे हैं। संक्रमण फैलता जा रहा है।
-सुधीर नायक, अध्यक्ष मंत्रालयीन कर्मचारी संघ


06 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

जनता बताइए, मेरी और शिवराज की जोड़ी चाहिए या दिग्विजय और कमलनाथ की: ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूछा
ग्वालियर में 'महाराज' के महल के सामने कमलनाथ कैंप लगाएंगे, उपचुनाव तक वहीं रहेंगे 
रीवा को मंत्री पद नहीं मिला तो क्या एशिया की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा परियोजना मिल गई 
एसिड अटैक की कोशिश भी गंभीर अपराध है, पढ़िए और सबको बताइए 
सावन के महीने में 300 साल बाद चमत्कारी दुर्लभ संयोग 
मुख्यमंत्री की कुर्सी में एक पाया थोड़ा बड़ा लगा दिया है 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here