Loading...    
   


RGPV: परीक्षा हो ना हो, फीस वसूली पूरी / BHOPAL NEWS

भोपाल। शैक्षणिक संस्थान ना लाभ, ना हानि के सिद्धांत पर काम करते हैं। परीक्षा फीस इसलिए ली जाती है ताकि प्रश्न पत्र की प्रिंटिंग और दूसरे अतिरिक्त खर्चों को वहन किया जा सके। यूनिवर्सिटी का कुलपति, कारोबारी नहीं हो सकता परंतु राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में दुकानदारी होती नजर आ रही है।

20 करोड़ की एक्स्ट्रा कमाई क्यों करना चाहता है यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट

राजधानी के राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (आरजपीवी) में सत्र 2019-20 में वर्तमान सेमेस्टर की परीक्षा नहीं होनी है। इसके बाद भी सभी छात्र-छात्राओं से पूरी फीस के साथ परीक्षा फॉर्म जमा कराए जा रहे हैं। ऐसे में विवि के इस सेमेस्टर में आने वाली फीस से करीब 20 करोड़ अनुमानित आमदनी होगी। 

जनता के टैक्स से सरकारी बजट मिलता है फिर स्टूडेंट से बेतुकी वसूली क्यों

आरजीपीवी को सत्र 2018-19 में 54 करोड़ की आमदनी परीक्षा फीस से हुई थी। सत्र 2019-20 में वर्तमान सेमेस्टर की परीक्षा नहीं होनी है। उत्तर पुस्तिकाओं का उपयोग भी अब अगले सत्र में होगा। खास यह भी है कि विवि नाॅन प्रोफिटेबल होने के साथ शासकीय संस्थान है। वहीं इसके पास करोड़ों रुपए का कॉर्पस फंड है, फिर भी इस महामारी में विवि फीस जमा कराने के लिए छात्रों को मजबूर कर रहा है। 

रिजल्ट में ₹12 प्रति छात्र खर्चा आएगा, ₹1300 क्यों मांग रहे हैं

यूजी में प्रति छात्र सेमेस्टर फीस 1300 रुपए है। अब परीक्षा नहीं होनी तो रिजल्ट तैयार करने में कई खर्चे कम होंगे। विवि के पास पिछली परीक्षाओं के रिजल्ट का रिकॉर्ड है। ऐसे में रिजल्ट को प्रोसेस करने में प्रति छात्र 12 रुपए ही खर्च आएगा।

दो माह से जमा हो रहे फॉर्म

आरजीपीवी में परीक्षा फॉर्म पिछले दो महीनों से जमा हो रहे हैं। अभी आनॅलाइन लिंक ओपन है। परीक्षा नहीं कराने की सरकार की घोषणा के बाद भी परीक्षा फॉर्म भरवाए जाने से छात्र व अभिभावक असमंजस में हैं।

04 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP BOARD 10th TOPPERS LIST 2020 / जिला स्तरीय टॉपर्स की सूची 
MP BOARD 10th TOPPERS LIST 2020 / राज्य स्तरीय टॉपर्स की पूरी लिस्ट
MP BOARD 10th HIGH SCHOOL RESULT 2020 यहां देखें, SMS पर भी मिलेगा 
कर्मचारी, कोर्ट से बरी हो जाए तो क्या उसी मामले में विभागीय जांच चल सकती है 
प्राचीन काल में क्या राजा-महाराजा भी खुले में शौच के लिए जाते थे
बहती नदी पर इंजीनियर पुल कैसे बनाते हैं, लोग बरसात में घर नहीं बना पाते
इंदौर हाईकोर्ट में ब्लास्ट, 5 गंभीर रूप से घायल 
हत्यारे को बचाने की किसी भी प्रकार की कोशिश अपराध है, पढ़िए FIR में कौन सी धारा दर्ज होगी
मध्य प्रदेश के 33 मंत्रियो में से 14 विधायक ही नहीं है: कमलनाथ
MPPSC: सहायक प्राध्यापक आरक्षण से संबंधित याचिका खारिज
जो थर्माकोल गर्म पानी में से नहीं पिघलता, माचिस की तीली से क्यों सिकुड़ जाता है
इस लड़की को ध्यान से देखिए, कहीं किसी से शादी की बात तो नहीं चल रही
देवास के बाद सागर में शिवराज सरकार मंत्रिमंडल विस्तार का विरोध
मध्य प्रदेश में 22 नगर परिषदों का गठन, अधिसूचना जारी
जबलपुर भाजपा विधायक अजय विश्नोई का बगावती बयान
झूठी गवाही के लिए धमकाना या लालच देना कितना गंभीर अपराध है, यहां पढ़िए
मध्य प्रदेश कोरोना: 32 जिलों में 10 से ज्यादा एक्टिव केस, 4 जिलों में 100 से ज्यादा


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here