Loading...    
   


CAR के इंजन की क्षमता को लीटर में क्यों बताते हैं, क्विंटल या हॉर्स पावर में क्यों नहीं - GK IN HINDI

जब भी हम किसी वाहन के इंजन की बात करते हैं तो हमेशा उसकी क्षमता लीटर या सीसी (क्यूबिक सैंटीमीटर) में बताई जाती है। जबकि वाहन की क्षमता से आम आदमी का तात्पर्य होता है वजन उठाने की क्षमता। वजन का नाम क्विंटल या टन में बताई जानी चाहिए और यदि ऐसा नहीं है तो फिर मोटर की क्षमता हॉर्स पावर में बताई जाती है, वाहन की इंजन की क्षमता भी हॉर्स पावर (घोड़ों की ताकत) में ही बताई जानी चाहिए। सवाल यह है कि वाहनों की इंजन की क्षमता लीटर में क्यों बताई जाती है। इसका क्या मतलब होता है। आइए किसी विशेषज्ञ से पता करते हैं:-

अजय कुमार निगम (जीबी पंत इंजीनियरिंग कॉलेज दिल्ली से इलेक्ट्रिक इंजीनियर) ने बताया कि इंजन के संदर्भ में लीटर का प्रयोग इंजन की क्षमता को मापने के लिए किया जाता है, जोकि दरअसल उसके सिलेंडरों में लगे पिस्टनों का संयुक्त विस्थापन आयतन अर्थात डिस्प्लेसमेंट वॉल्यूम है। जिसका अर्थ है - इंजन के सिलेंडर के अंदर एक पूरी साइकिल के दौरान टॉप डेड सेंटर से बॉटम डेड सेंटर तक (पिस्टन के विस्थापन को विस्थापन आयतन या डिस्प्लेसमेंट वॉल्यूम या इंजिन वॉल्यूम भी कहा जाता है।)

इंजन के आयतन को नापने के लिए आप इस फार्मूले का उपयोग कर सकते हैं:
V = π/4 x (D)² x H x N
Where, V = Volume, D = Bore Diameter, H = Stroke Length, N = No. of Cylinders

वाहन के इंजन की 1 लीटर क्षमता में कितनी सीसी होती है

आयतन को घन सेंटीमीटर अर्थात क्यूबिक सैंटीमीटर (cc) के अनुरूप लीटर में भी मापा जाता है। उदाहरण के लिए यदि किसी इंजन की क्षमता 1000cc या 1000 घन सेंटीमीटर है तो उसे 1 लीटर क्षमता वाला इंजन कहेंगे।
1000 cc = 1000 cubic centimetres = 1 litre = 1.0 L

कुछ वाहनों के इंजन को सीसी में और कुछ को लीटर में क्यों बताते हैं

बुलेट 350 में उसके इंजन का विस्थापन आयतन लगभग 350cc होता है। इसी तरह यामाहा RX100, मारुति 800, पल्सर 220, Maruti 1000, Honda CD110 और हेरोहोंडा CD 100SS इत्यादि वाहनों के मॉडलों में में दर्शाए गए अंक दरअसल उनके इंजन के विस्थापन आयतन अर्थात क्यूबिक सैंटीमीटर (cc) की तरफ इशारा करते हैं।
इसी क्रम में कुछ कार निर्माता अपने वाहनों के इंजन की क्षमता को cc की जगह लीटर में दर्शाते हैं।

यह इंजन की एक साइकल के दौरान सभी सिलेंडरों की संयुक्त क्षमता है। उदाहरण के लिए, यदि चार सिलेंडर इंजन में 1000cc या 1.0L की क्षमता है, तो इसका मतलब है कि सभी चार सिलेंडर मिलकर अधिकतम 1000 घन सेंटीमीटर या 1.0L हवा की मात्रा (या वायु-ईंधन मिश्रण) को समायोजित कर सकते हैं। वहीं, यदि इंजन में केवल एक सिलेंडर है, तो वह अकेला सिलेंडर 1000cc या 1.0L की पूरी हवा को अपने अंदर समा लेगा। Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article 

सामान्य ज्ञानः कुछ मजेदार जानकारियां

(general knowledge questions answers, gk questions in hindi, general knowledge quiz, gk questions for kids, samanya gyan, general knowledge in hindi,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here