Loading...    
   


दिग्विजय सिंह के झूठे विश्वास के कारण हमारी सरकार गिरी: कमलनाथ (बयान वायरल होते ही यू-टर्न लिया) / MP NEWS

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष श्री कमलनाथ ने बड़ा बयान दे डाला। अपने घर पर कुछ पत्रकारों के साथ अनौपचारिक चर्चा करते हुए कमलनाथ ने कहा कि दिग्विजय सिंह के झूठे विश्वास के कारण हमारी सरकार गिरी। यह खबर टीवी न्यूज चैनल आजतक ने प्रसारित की। बयान के वायरल होते ही यू-टर्न लिया गया। (कहा कि दिग्विजय सिंह नहीं बल्कि कुछ विधायकों के झूठे विश्वास के कारण सरकार गिरी है।) यू-टर्न कमलनाथ ने लिया या आजतक ने या फिर दोनों ने, लेकिन इसका लाभ नहीं हुआ क्योंकि जंगल में आग भड़क चुकी है। बयान सुर्खियों में आ चुका है। 

मुझे पता था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा के संपर्क में है: कमलनाथ

टीवी न्यूज़ चैनल आज तक ने दावा किया कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने घर पर एक खास बातचीत में उनसे कहा कि दिन में कई बार फोन पर बात करने वाले विधायकों ने भी पाला बदल लिया। मार्च में कांग्रेस का हाथ छोड़कर अपने समर्थक विधायकों के साथ बीजेपी का दामन थामने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कमलनाथ ने कहा, “जहां तक ​​ज्योतिरादित्य सिंधिया का सवाल है, मुझे पता था कि लोकसभा चुनाव हारने के बाद वह जुलाई से बीजेपी के संपर्क में हैं। 

ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी शर्मनाक हार को पचा नहीं पाए: कमलनाथ

कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री कमलनाथ ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया इस तथ्य को कभी पचा नहीं पाए कि वह एक लाख से अधिक वोटों से लोकसभा चुनाव हार गए और वो भी उस उम्मीदवार से जो कांग्रेस का साधारण कार्यकर्ता था और जिसे बीजेपी ने अपने पाले में लेकर उनके खिलाफ चुनाव में उतारा था।

सिर्फ राज्य सभा की दूसरी सीट के लिए बीजेपी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को शामिल किया: कमलनाथ

कमलनाथ ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी हार के बाद बीजेपी के संपर्क में थे, लेकिन बीजेपी की राज्य इकाई ने उन्हें कभी नहीं चाहा लेकिन बीजेपी अंततः उन्हें ले गई क्योंकि बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व किसी भी कीमत पर मध्य प्रदेश से दूसरी राज्यसभा सीट चाहता था।”

मध्य प्रदेश उपचुनाव में 24 में से 15 सीटें हम जीतेंगे: कमलनाथ का दावा

मध्य प्रदेश उपचुनावों में कांग्रेस की वापसी की संभावनाओं पर कमलनाथ ने कहा, "यह आंकड़ों का खेल है। अभी हमारे पास 92 विधायक और उनके पास 107 हैं। 24 सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं, इसलिए हमें उनमें से कम से कम 15 सीटें बीजेपी के बराबर आने के लिए जीतनी होंगी। फिर बाकी 7 विधायक पिक्चर में आते हैं, जिनमें 4 निर्दलीय, दो BSP और एक SP से हैं और अभी स्थितियां ऐसी हैं कि हम 15 से ज्यादा सीटें जीतेंगे। सिंधिया और शिवराज प्रचार करने में समर्थ नहीं हो पाएंगे।”

दिग्विजय सिंह समर्थक भड़के तो यह स्पष्टीकरण आया

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने स्पष्ट किया कि आज उनसे कुछ प्रमुख चैनल के पत्रकार अनौपचारिक मुलाकात के लिए उनके निवास आए थे।इस मुलाक़ात के दौरान उनसे वर्तमान राजनीतिक घटनाक्रम पर व विभिन्न मुद्दों पर अनौपचारिक चर्चा चल रही थी।

उस अनौपचारिक चर्चा में मेरी सरकार गिरने के मुद्दे पर बात आने पर पर मैंने उन्हें कहा कि स्वयं मुझको और दिग्विजय सिंह जी को कुछ विधायकों ने झूठा विश्वास दिलाया था कि वह वापस लौट आएंगे , उनके झूठे विश्वास पर हम दोनों ने भरोसा किया और हम अपनी सरकार नहीं बचा पाए।

यह सारी चर्चा अनौपचारिक थी और इसमें कहीं भी मैंने यह नहीं कहा कि दिग्विजय सिंह जी ने झूठा विश्वास भरा था , इसके कारण सरकार नहीं बची। इस अनौपचारिक चर्चा को पूरी तरह से ग़लत ढंग से प्रचारित व प्रसारित किया गया है।

धुआं उठा है तो आग भी लगी होगी 


इस तरह की बयानबाजी की सत्यता की जांच जब-जब की जाती है, अंततः सिर्फ एक बात सामने आती है और वह यह कि 'यदि धुआं उठा है तो आग भी लगी होगी।' आज तक भारत का एक विश्वसनीय टीवी न्यूज़ चैनल है। यदि उसके पत्रकार को कमलनाथ ने अपने घर बुलाया था तो निश्चित रूप से वह विश्वास के योग्य रहा होगा। बातचीत अनौपचारिक थी, लेकिन जब पब्लिक डोमेन पर आ रही है तो बात को संभालना पड़ा शायद इसीलिए स्पष्टीकरण जारी किया गया। यह घटनाक्रम भले ही 4 दिन बाद चर्चाओं से दूर हो जाए परंतु एक बात निश्चित हो गई है कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस के दो पुराने धुरंधर दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के दिलों में दरार आ गई है।

01 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने के लिए क्यों होता है, 6 या 12 महीने का क्यों नहीं होता
संसद में उल्टे पंखे किसने और क्यों लगवाए थे, आइए रहस्य की बात जानते हैं 
किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने और ब्याज घटाने की मांग 
ग्वालियर में गोलगप्पे, समोसे और कचौड़ियों की होम डिलिवरी
सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह के बेटे का हाईप्रोफाइल ड्रामा VIDEO वायरल 
रसोई गैस सिलेंडर का रंग लाल क्यों होता है, क्या इससे खाना पकाना खतरनाक है, यहां पढ़िए 
TATA SKY: दो महीने की फ्री सर्विस ऑफर, डिटेल्स और लास्ट डेट के लिए ध्यान से पढ़ें
यदि हत्या के लिए बंदूक का ट्रिगर दबाए लेकिन गोली ना निकले, किस धारा के तहत FIR होगी
छोटे-मोटे विवाद में धमकी देने पर क्या FIR दर्ज हो सकती है, पढ़िए
ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण दीपक बावरिया से इस्तीफा लिया, मुकुल वासनिक नए प्रभारी
30 अप्रैल को रिटायर हो रहे कर्मचारियों को संविदा नियुक्ति के आदेश 
इंदौर-उज्जैन लॉक रहेंगे, भोपाल मे ढील दी जाएगी, खरगोन-रायसेन पर अनिश्चितता 
मध्य प्रदेश में आज मात्र 65 पॉजिटिव, टोटल 2625, मृत्यु 137, स्वस्थ हुए 482 
लॉकडाउन खुलने के बाद कोरोना कंट्रोल के लिए कलेक्टरों को मुख्यमंत्री के निर्देश 
SLAP KINGS बना दुनिया का सबसे लोकप्रिय मोबाइल गेम, PUBG और Call Of Duty को पीछे छोड़ा
लॉकडाउन: भाई को कुएं में फेंककर 7 बदमाशों ने लड़की का गैंगरेप किया 
सीहोर में चार लाशें फांसी पर झूलती हुई मिली 
कोरोना स्क्रीनिंग के दौरान ANM को बाल पकड़कर घसीटा, स्कूटी तोड़ दी
57 साल की महिला कर्मचारी की लव स्टोरी सुर्खियों में, लॉक डाउन में हुआ प्यार का अहसास 
इंदौर, 1500 के पार, 28 नए पॉजिटिव, 10 साल हुए, लॉकडाउन बढ़ाया 
नाई को घर बुलाकर कटिंग/सेविंग कराने वालों के खिलाफ FIR होगी: कलेक्टर 
अपराध या भ्रष्टाचार की झूठी जानकारी देने का मामला IPC की किस धारा के तहत दर्ज होगा, कितनी सजा मिलेगी 
SBI LOAN: 6 महीने EMI FREE, ऑनलाइन लोन अप्रूवल मात्र 45 मिनट में
मध्यप्रदेश में कोरोना कंट्रोल हो रहा है, संक्रमण मात्र 2.4% रह गया है: मुख्यमंत्री


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here