Loading...    
   


ग्वालियर मुस्कुराया: शहर में निर्माण कार्य शुरू, मजदूर खुश हुए

ग्वालियर। लॉकडाउन थ्री में मिली रियायतों ने लोगों को फिर से खड़े होने की दम दे दी है। निर्माण कार्य शुरू होने से उन मजदूरों के चेहरे पर भी खुशी आ गई है जो रोज कमाते और खाते हैं। अब इन्हें अपने परिवार के लिए दूसरों के सामने हाथ नहीं फैलाने पड़ेंगे। इसके साथ ही प्रतिबंध के साथ बाजार खुलने से व्यवस्था पटरी पर आती दिख रही है।

हालांकि अभी भी खतरा है कि लोग मिलने वाली छूट का नाजायज फायदा उठाया तो संक्रमण फैलना शुरू हो जाएगा और इसके बाद फिर से लोगों को प्रतिबंध का सामान करना पड़ेगा। लॉकडाउन वन और टू के चलते शहर में रहने वाले मजदूरों की आर्थिक स्थिति खराब चल रही थी। लॉकडाउन के चलते निर्माण कार्यों पर रोक लगी थी और लोग घरों में कैद थे। समय के साथ अब प्रशासन ने निर्माण कार्य में छूट दी है, जिससे आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को काम मिल सके और वे परेशान ना हों। ग्वालियर अभी भी रेड जोन में है, इसके चलते अभी चुनिंदा कामों की छूट मिली है।

सरिया और सीमेंट की खरीद शुरू

लॉकडाउन थ्री में मिली निर्माण कार्य में छूट से अब ग्राहक सरिया और सीमेंट की दुकानों पर पहुंच रहे हैं और इन दुकानों पर डिमांड बढऩे लगी है। हालांकि अभी सरकारी कामों में ज्यादा माल की खपत हो रही है और निजी ठेकेदार तथा अन्य निर्माण कराने वाले असमंजस में हंै कि उन्हें अनुमति लेकर काम शुरू करना है या फिर बगैर अनुमति के काम शुरू कर सकते हैं। हालांकि निजी निर्माण कराने वालों ने भी अपने आर्डर सीमेंट तथा सरिया के लिए बुक कर दिए है और उम्मीद है कि निजी कार्य भी जल्द शुरू हो जाएंगे।

पंचायत में शुरू हुए 1017 काम

लॉकडाउन थ्री में सबसे ज्यादा काम अभी पंचायत में चल रहे हैं। पंचायत में मनरेगा के कुल 1017 काम चल रहे हैं। जहां पर 9 हजार 795 मजदूरों को रोजगार मिल रहा है। पंचायत सीईओ शिवम वर्मा का कहना है कि मनरेगा के कामों से स्थानीय मजदूरों को काफी काम मिल रहा है और वे शेष कार्य जो लॉकडाउन के चलते बंद किए गए थे, उन्हें भी एक-दो दिन में शुरू करा देंगे। जिससे ज्यादा से ज्यादा मजदूरों को काम मिल सके। प्रतिदिन मनरेगा में काम करने के लिए मजदूरों की संख्या बढ़ती जा रही है और अफसरों को निर्देश है कि ज्यादा से ज्यादा मजदूरों को रोजगार दें, जिससे काम भी समय से पहले पूर्ण हो और मजदूरों को भी रोजगार मिले, जिनसे उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो।

काम मिलते ही जागी उम्मीद

लॉकडाउन के चलते बंद चल रहे निर्माण कार्यों से स्थिति बदहाल हो गई थी और लग रहा था कि कारोबार पूरी तरह से चौपट हो जाएगा। लेकिन अभी निर्माण कार्य के साथ ही अन्य अनुमति मिलने से उम्मीद जागी है कि अब फिर से हालात सामान्य हो जाएंगे। वहीं मजदूरों के चेहरे पर भी खुशी की चमक आने लगी है कि अब उन्हें किसी से भी मदद लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 

यह कार्य हुए शुरू

शहर में बंद चल रहे शासकीय कार्य भी शुरू हो गए हैं, जिनमें सडक़ निर्माण सहित वह बिल्डिंग भी शामिल है , जो शासकीय कार्य के लिए उपयोग होना है। इसके साथ ही अमृत योजना तथा पीडब्ल्यूडी के कार्यों ने भी गति पकड़ ली है। सडक़ निर्माण के ज्यादातर काम रात में किए जा रहे हैं, जिससे लोगों को परेशानी का सामान ना करना पड़े, साथ ही रात में लोकल डिस्टेंस का पालन भी कराया जा सके।

छूट में हो रही है मॉनीटरिंग

पुलिस और प्रशासन के अफसर लगातार मॉनीटरिंग कर रहे हैं कि मिलने वाली छूट का लोग दुरूपयोग ना करें और जहां पर भी स्थिति बिगड़ते देखते हैं, तुरंत वहां पर पुलिस टीम स्थिति संभाल लेती है, जिससे लोग संक्रमण का शिकार ना हो सकें।

लोग भी रहे सजग

अफसरों का कहना है कि समय के साथ व्यवसायियों तथा निर्माण कार्य में मजदूरों के काम करने पर छूट दी जा रही है, लेकिन उन्हें सजग रहना होगा। क्योंकि लोकल डिस्टेंस के पालन से ही वे सुरक्षित हैं, जरा सी चूक उन्हें भारी पड़ सकती है और उनके संक्रमण की चपेट में आने से कई लोग इस संक्रमण के शिकार हो सकते हैं। साथ ही बाहर से आने वालों की जानकारी भी अफसरों तक भेजें जिससे समय रहते बाहर से आने वालों की जांच हो सके।


09 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

बर्फ कठोर होता है फिर पानी में डूबता क्यों नहीं, यहां पढ़िए
बस 10 दिन और दे दीजिए: इंदौर कलेक्टर की अपील 
जबलपुर कलेक्टर की हेयर कटिंग सोशल मीडिया पर वायरल
मध्य प्रदेश कोरोना 36वें जिले में, 3701 में से 114 पॉजिटिव
इंडक्शन कुकर गर्म क्यों नहीं होता जबकि हीटर गर्म हो जाता है 
मध्यप्रदेश में ई-पास के संबंध में नये निर्देश
ग्वालियर आउट ऑफ कंट्रोल: शराब की दुकानों के साथ पूरा बाजार भी खुल गया
पूरे भारत में आंधी-तूफान और बारिश की चेतावनी, 72 घंटे मौसम खराब रहेगा 
भोपाल के बाद एलजी गैस कांड: अब तक 8 लोगों की मौत 5000 से ज्यादा प्रभावित 
2018 में बंद किए गए शिवराज सिंह के फोटो वाले संबल योजना कार्ड फिर से एक्टिव 
सचिन अतुलकर को उज्जैन एसपी के पद से हटाया, तीन जिलों के एसपी बदले 
अपराधी यदि आपके बच्चे को किडनैप कर आपसे घोटाला या चोरी करवाए, तो दोषी कौन माना जाएगा 
इंदौर के करोड़पति व्यापारी कोरोना से मौत, परिवार के कई सदस्य पॉजिटिव 
इंदौर में गैस सिलेंडर बांटने वाले की कोराेना से मौत 
क्या इंसान के दिमाग में कंप्यूटर जैसे डीलिट और रिसाइकिल बिन फीचर्स होते हैं 
कोरोनावायरस पूरे मध्यप्रदेश में राहत, उज्जैन में आउट ऑफ कंट्रोल 
कोरोना के नाम पर कर्मचारियों का DA रोक लिया लेकिन IAS का क्यों नहीं रोका
लॉक डाउन की लत लग गई, आदेश के बाद भी ऑफिस नहीं खोले
ट्रेन से कटे शहडोल-उमरिया के 16 मजदूरों को कंपनी वाले घर से ले गए थे 
रेल गाड़ी के इंतजार में पटरी पर लेटे थे, मालगाड़ी गुजर गई, 16 मजदूरों की मौत 
यदि कोई बाहरी व्यक्ति धर्मस्थान को अपवित्र करे तो उसके खिलाफ क्या कार्रवाई होगी, पढ़िए


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here