Loading...    
   


10 किलो चावल के लिए गरीबों को कितने चक्कर लगवा रही है सरकार, पढ़िए / GWALIOR NEWS

ग्वालियर। मात्र दस किलो चावल के लिए गरीबों को फुटबॉल बनाकर रख दिया गया है। बिना तैयारी के ही यह घोषणा कर दी गई कि सभी राशनकार्डों पर चावल मिलेगा, जब लोग सुबह से मुफ्त चावल के लिए खाली थैला लेकर कंट्रोल पहुंचे, जैसे तैसे उनका नंबर आया तो कंट्रोल वालों ने उन्हे नगर निगम से स्लिप लेकर आने को कहा यहां पहुंचे तो नगर निगम वालों ने उन्हे कलेक्ट्रेट का रास्ता दिखा दिया। यहां से भी उन्हे गार्डों ने धकिया दिया, तमाम संघर्ष के बाद भी उनका काम नहीं हुआ और लौटकर कंट्रोल पहुंचे तो वहां ताले लटके हुए थे।

कलेक्ट्रेट में गार्ड ने भीतर ही नहीं जाने दिया

जब यह परेशान तेज धूपमें पसीना बहाते हुए जैसे-तैसे कलेक्ट्रेट पहुंचे तो यहां उन्हे गार्ड ने उन्हे दस नंबर कमरे तक ही नहीं जाने दिया, बल्कि बाहर से ही धकिया दिया। लॉकडाउन के चलते गरीबों को राहत प्रदान करने की सोच से प्रशासन द्वारा पिछले दिनों यह घोषणा की गई थी कि सफेद राशकार्ड पर भी कंट्रोलों से मुफ्त में दस किलों चावल दिए जाएंगे।

इस मुफलिसी में यह दस किलों चावल भी लोगों को बड़ा सहारा दिखा, जिसके चलते वह सबसे पहले अपने जनप्रतिनिधियों जिसमें पूर्व विधायक, वर्तमान विधायक, पूर्व पार्षद हैं, इनके यहां राशन कार्ड पर सील लगवाने पहुंच गए, यहां कुछ का काम बना अधिकांश चलता कर दिए गए।

इसके बाद गुरुवार सुबह जब परेशान जरूरतमंद कंट्रोल पहुंचे तो इनसे कहा गया कि पहले राशनकार्ड को दिखाकर निगम के क्षेत्रीय कार्यालय से पर्ची बनवाकर लाओ, यह परेशान निगम दफ्तर पहुंचे तो क्षेत्र क्रमांक तीन पर केवल चपरासी मिला, बाकी स्टाफ गायब था, काफी इंतजार के बाद एक बाबू पहुंचे तो परेशानों को आस बंधी, लेकिन उसने भी हाथ खड़े करते हुए कहा कि यह निगम का काम नहीं कलेक्ट्रेट जाओ और दस नंबर से पर्ची तैयार कराओ।


15 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

चक्रवाती तूफान आने वाला है, 7 राज्यों के सैकड़ों शहरों को प्रभावित करेगा
नए टू व्हीलर्स की हेडलाइट हमेशा ऑन क्यों रहती है 
MPPEB EXAM DATE: प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ने 11 परीक्षाओं की तारीख घोषित की
महिलाएं आटा गूंथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती हैं, जानिए रहस्य की बात 
इंदौर के MTH हॉस्पिटल में भर्ती मरीज चौथी मंजिल से कूदा, मौत
टॉयलेट के तुरंत बाद पानी पीना चाहिए या नहीं, पढ़िए
भारत में नर्सों को सिस्टर क्यों कहते हैं, परंपरा या कुछ और
दरिंदा शिक्षक अपनी ही नाबालिग बेटी का रेप करने लगा, कपड़े उतार कर पीटता था 
अनुच्छेद 21 जीवन का अधिकार देता है तो फिर मृत्यु का अधिकार क्यों नहीं, पढ़िए
दमोह में पहला कोरोना केस मिला, कलेक्टर/एसपी रवाना, महाराष्ट्र से आया था युवक
ग्वालियर में दुकानदारों को लॉकडाउन नामंजूर, बाजार खोल दिया
इंदौर में डॉक्टर ने बीमार युवती का रेप कर डाला, लॉकडाउन के कारण मौका मिला
25 साल बाद बदला लिया: माथे पर रायफल अड़ाकर गोली मारी
शिवलिंग की वेदी का मुख उत्तर दिशा की तरफ ही क्यों होता है 
मध्य प्रदेश: 4543 में से 253 पॉजिटिव, 4226 में से 2171 डिस्चार्ज
दिमाग से निकाल दीजिए UPSC क्लियर करने 20 घंटे पढ़ना जरूरी है: पूनम दहिया
लाॅकडाउन 4.0 में भोपाल के व्यापारियों को राहत मिलेगी, 6 सेक्टर में खुलेंगी दुकानें
कानून में संशोधन के बाद गर्भपात कब-कब अपराध की श्रेणी में आता है, जानिए
30 जून को रिटायर्ड शिक्षकों को वेतन वृद्धि नहीं लगाई जाएगी: लोक शिक्षण संचालनालय


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here