EOW JABALPUR- असिस्टेंट कमिश्नर आबकारी एवं क्लर्क के खिलाफ केस दर्ज

जबलपुर
। आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (EOW) ने मध्य प्रदेश शासन को तीन करोड़ राजस्व की चपत लगाने के आरोप में आबकारी विभाग के सहायक आयुक्त और लिपिक के खिलाफ मंगलवार 27 जुलाई को एफआईआर दर्ज की है। प्रकरण की जांच जबलपुर शाखा करेगी। मामला वर्ष 2018-2019 में एमपी और छत्तीसगढ़ के 8 आर्मी डिपो को जारी होने वाले एफएल-7 लाइसेंस से संबंधित है। 31 मार्च को लाइसेंस रिन्यू कराने की बजाए 1 मई को किया गया। एक महीने तक बिना लाइसेंस के आर्मी डिपो में शराब बेची गई।

सत्यनारायण दुबे और विवेक उपाध्याय के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम का केस

ईओडब्ल्यू एसपी देवेंद्र सिंह राजपूत के मुताबिक जांच के घेरे में आए आरोपियों ने अकेले जबलपुर में 90 लाख रुपए के राजस्व का नुकसान पहुंचाया है। सभी 8 आर्मी डिपो में कुल 3 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ और इतनी ही रकम का लाभ ठेकेदार को हुआ। इसमें ठेकेदार सहित अधिकारियों ने बंदरबांट किए। इस मामले में EOWने जबलपुर में पदस्थ सहायक आयुक्त आबकारी सत्यनारायण दुबे और लिपिक विवेक उपाध्याय के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत एफआइआर दर्ज कर ली है।

साल 2018-19 का मामला

आबकारी विभाग सेना की कैंटीन से शराब की बिक्री के लिए एफएल-7 लाइसेंस जारी करता है। यह लाइसेंस एक साल के लिए वैध रहता है। हर साल 31 मार्च को लाइसेंस का नवीनीकरण कराना पड़ता है। वर्ष 2018-19 में आबकारी अधिकारियों ने ठेकेदार को लाभ पहुंचाने के लिए मिलीभगत करते हुए एक महीने देरी से लाइसेंस रिन्यू किया।

सेना ने 13 मार्च 2018 को ही लाइसेंस नवीनीकरण का आवेदन दिया था। नियमानुसार 31 मार्च को लाइसेंस रिन्यू कर देना चाहिए था। पर इसे 1 मई 2018 को रिन्यू किया गया। आर्मी डिपो की कैंटीन में एक महीने बिना लाइसेंस के शराब बिकती रही। इससे राजस्व के तौर पर जबलपुर में जहां 90 लाख रुपए की चपत लगी है। वहीं सभी 8 डिपो में तीन करोड़ के राजस्व नुकसान का आंकलन हुआ है।

ठेकेदार को फायदा कैसे हुआ

अधिकारियों का कहना है कि आबकारी अधिकारियों व कर्मचारियों ने सेना की कैंटीन में शराब का विक्रय रोककर परोक्ष रूप से शराब ठेकेदारों को लाभ पहुंचाया। सेना के जवानों को कैंटीन की कम कीमत वाली शराब की जगह बाजार से ज्यादा कीमत पर शराब खरीदनी पड़ी। इससे ठेकेदार मुनाफे में रहे और सरकार को घाटा हुआ। अब एफआईआर के बाद ईओडब्ल्यू मामले की जांच आगे बढ़ाएगी। इस मामले में कुछ और लोगों पर शिकंजा कस सकता है।

28 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

BHOPAL NEWS- वैक्सीन नहीं लगवाने वाले शिक्षकों का 1 महीने का वेतन कटेगा
EMPLOYEE NEWSकमलनाथ ने पंचायतकर्मियों की हड़ताल का समर्थन किया
MPPSC ANSWER KEY जारी, यहां देखें डाउनलोड करें
MP ELECTION NEWSमध्यप्रदेश नगरीय निकाय चुनाव- कब होंगे, आयोग ने हाईकोर्ट में बताया
मध्य प्रदेश मानसून- ग्वालियर-चंबल संभाग में मूसलाधार, 10 जिलों में भारी वर्षा की चेतावनी 
MP EMPLOYEE NEWSमध्यप्रदेश में कर्मचारियों की ट्रांसफर की लास्ट डेट बढ़ाई
MP NEWS- शिक्षा मंत्री ने चयनित शिक्षकों को परमानेंट धरने के लिए भेजा
MP EMPLOYEE NEWS- वित्त मंत्रालय का स्पष्टीकरण भी बेअसर, कर्मचारी हड़ताल पर अड़े
MP NEWS- प्रतीक्षा की मां की प्रतीक्षा अब कभी खत्म नहीं होगी, हिमाचल में मौत
MPPSC EXAM- टाइम से पहले कॉपियां छीन लीं, सेंटर पर घड़ी ही नहीं थी
MP NEWS- देवास का युवक, झांसी की युवती, मंदसौर के होटल में लाशें मिली
 

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiत्रिपुंड का वैज्ञानिक महत्व क्या है, दिखावे के लिए तो नहीं लगाते, यहां पढ़िए 
GK in Hindiहार्ड डिस्क की क्षमता, GB और TB के बाद क्या आता है
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
GK in Hindi₹1 के नोट पर गवर्नर के हस्ताक्षर क्यों नहीं होते हैं 
GK in Hindiइंसान को शेर कहना शान और गधा कहना अपमान क्यों माना जाता है 
GK in Hindi- खतरे का रंग लाल क्यों होता है काला क्यों नहीं
GK in Hindiपुष्पक विमान किस ईंधन से चलता था, पेट्रोल और बैटरी तो उस समय होते नहीं थे
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here