Loading...    
   


AICTE NEWS: इंजीनियरिंग स्टूडेंट जब चाहे एडमिशन रद्द करवा सकते हैं, पढ़िए गाइडलाइन

Engineering students can cancel admission at any time

AICTE- (अंग्रेजी: All India Council for Technical Education, हिंदी: अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने अपने students के लिए एक बड़ा decision लिया है। students जब चाहे तब अपना admission cancel करवा सकते हैं। यदि admission fees जमा करवाने के तत्काल बाद admission withdrawal/ cancellation करवाना चाहते हैं तो 100% fees refund की जाएगी। ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन ने गाइडलाइन जारी कर दी है एवं सर्कुलर सभी affiliated college/ institute को भेज दिए हैं।

टेक्निकल डिग्री/ डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेने के बाद रद्द करवा सकते हैं

ऐसे स्टूडेंट्स, जिन्होंने AICTE से मान्यता प्राप्त देश के किसी तकनीकी संस्थान में प्रवेश लिया है, लेकिन अब वे किसी कारणवश अपना दाखिला रद्द करना चाहते हैं तथा अब एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स भी इसका लाभ उठा सकते हैं। 

इंजीनियरिंग कॉलेज से एडमिशन रद्द करवाया तो कितनी फीस वापस होगी

एआईसीटीई ने सभी संबद्घ कॉलेजों व संस्थानों को निर्देश दिया है कि वे ऐसे स्टूडेंट्स की पूरी फीस वापस करें। हालांकि पूरी फीस सिर्फ उन्हीं स्टूडेंट्स को वापस मिलेगी जो 10 नवंबर 2020 तक एडमिशन वापस ले लेंगे। उसके बाद एडमिशन रद्द करने वाले स्टूडेंट्स को कटौती के साथ फीस वापस मिलेगी।

इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लेने के बाद नाम कटवाने का नियम

एआईसीटीई ने कहा है कि जो स्टूडेंट्स 10 नवंबर 2020 तक एडमिशन वापस ले लेंगे, उन्हें अधिकतम एक हजार रुपए प्रोसेसिंग फीस काटकर बाकी पूरी रकम वापस मिल जाएगी। 
जो स्टूडेंट्स 10 नवंबर के बाद एडमिशन वापस लेते हैं और उनकी सीट 15 नवंबर तक किसी और स्टूडेंट के एडमिशन से भर जाती है, उन्हें एक हजार रुपए प्रोसेसिंग फीस के अलावा ट्यूशन व हॉस्टल फीस में निश्चित हिस्से की कटौती करके बाकी रकम वापस मिलेगी, लेकिन अगर 10 नवंबर के बाद एडमिशन वापस लेने वालों की सीट 15 नवंबर तक नहीं भरती है, तो उन्हें सिर्फ सिक्योरिटी डिपॉजिट की रकम और जमा किए गए मूल दस्तावेज ही वापस मिलेंगे। 
इसके अलावा काउंसिल ने संस्थानों से कहा है कि वे स्टूडेंट्स के वास्तविक दस्तावेज और इंस्टीट्यूट लीविंग सर्टिफिकेट भी अपने पास नहीं रख सकते।

इंजीनियरिंग स्टूडेंट यदि एक सेमेस्टर क्लियर करने के बाद एडमिशन रद्द करवाना चाहे तो क्या होगा

काउंसिल ने उन स्टूडेंट्स को भी राहत दी है, जो पढ़ाई करते हुए किसी भी समय किसी कारण से एडमिशन रद्द करना चाहते हैं। संस्थान ऐसे स्टूडेंट्स से अगले सेमेस्टर की फीस नहीं ले सकते। साथ ही, संस्थानों को निर्देश दिया गया है कि वे ऐसे स्टूडेंट्स को सभी तरह वापसी योग्य रकम और दस्तावेज प्रवेश रद्द होने के सात दिन के अंदर दे दें।

03 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्यप्रदेश में 10+2 स्कूल खुलेंगे, प्राइमरी और मिडिल बंद रहेंगे, आदेश जारी
IGNOU EXAM: फाइनल ईयर/ सेमेस्टर के लिए नोटिफिकेशन
कमलनाथ का कबीला ग्वालियर में ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी बड़ा धमाका करने की तैयारी में
ज्योतिरादित्य सिंधिया मुश्किल में: हाईकोर्ट ने निर्वाचन रद्द करने का नोटिस भेजा
गर्मी के पसीने और और व्यायाम के पसीने में क्या अंतर है
चीटियां क्या सचमुच अनुशासन में चलतीं है या फिर एक दूसरे के पीछे चलना उनकी मजबूरी है
रोऊंगा नहीं; कहीं से भी लाना पड़े, पैसा ले आऊंगा: सीएम शिवराज सिंह
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
खनिज अधिकारी की वाइफ के बंगले में मिनी बार, बाथरूम में AC
जौहरी होटल भोपाल में नाबालिग लड़के-लड़कियों की हुक्का पार्टी
मध्य प्रदेश मौसम का पूर्वानुमान जारी, वीकेंड की प्लानिंग कर लें
INDORE में वेब सीरीज के नाम पर लड़कियों से न्यूड वीडियो मंगवाए जाते थे
भारतीय ट्रेनों में एसी कोच बीच में क्यों होता है
MP BY-ELECTION: ग्वालियर-चंबल में दिग्विजय सिंह की सक्रियता
कोरोना के कारण 8वीें तक का पाठ्यक्रम संक्षिप्त किया
भोपाल में डॉक्टर ब्लैकमेलिंग के मामले में चैनल के ऑफिस पहुंची क्राइम ब्रांच
इंदौर में BF संग लिव इन में रह रही लड़की ने सुसाइड किया
यदि रेल की पटरी में करंट का तार लगा दें तो क्या होगा
IAS जोशी दंपति की 100 से ज्यादा संपत्तियां कुर्क करने का आदेश जारी
BHOPAL NEWS: महिला ग्राहक को पुरुष ट्रायल रूम में भेज दिया फिर ताक-झांक करने लगा
CM ने चुनाव से पहले ब्यूरोक्रेट्स को खुश करने CPF बढ़ाया, कर्मचारियों का अटकाया
भोपाल में शर्तों के साथ चली लो-फ्लोर बसें, ड्राइवरों ने किया हंगामा
मप्र के वित्त मंत्री की तबियत बिगड़ी, दिल्ली में भर्ती
ग्वालियर से माहेश्वरी दंपत्ति फरार, 52 लाख की ठगी का आरोप
सामान्य कर्मचारियों के प्रमोशन में सुप्रीम कोर्ट का आरक्षण वाला स्टे लागू नहीं: हाई कोर्ट
रस्सी के झूले पर खड़े होकर झूलने से पैरों में झनझनाहट क्यों होती है


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here