Loading...    
   


खनिज अधिकारी की वाइफ के बंगले में मिनी बार, बाथरूम में AC, ऐसो आराम की हर चीज / INDORE NEWS

इंदौर। लोकायुक्त पुलिस ने बुधवार को आय से अधिक संपत्ति के आरोपी जिला खनिज अधिकारी प्रदीप खन्ना के माउंटवर्ग कॉलोनी स्थित आलीशान बंगले के ताले खुलवाए। पत्नी ज्योति खन्ना के नाम से लिए गए इस मकान की भव्यता देख पुलिस भी दंंग रह गई। घर की साज-सज्जा के साथ ही लाखों रुपए के आलीशान फर्नीचर में चमचमाती मंहगी डाइनिंग टेबल, सोफे, झूमर घर की रौनक को चार चांद लगा रहे थे। मकान का हर कोना एयर कंडिशनर है, इसमें बाथरूम तक शामिल है। घर से मिनी बार भी मिला है। अभी इस मकान का उद्घाटन होना बाकी था, इसलिए सभी सामान चमचमा रहा था। जानकारी के अनुसार करीब एक करोड़ 40 लाख कीमत के बंगले में भव्यता की कोई कमी नहीं है। इंटीरियर पर भी एक करोड़ से ज्यादा खर्च किए गए हैं। ऑन डाक्यूमेंट्स इस बंगले की मालकिन खनिज अधिकारी की पत्नी है।

आलीशान बंगला 3 साल में बनकर तैयार हुआ, ऐशो आराम की हर सुविधा

डीएसपी प्रवीण सिंह बघेल ने बताया कि तीन मंजिला यह मकान करीब 3200 स्क्वायर फीट में यह बना है, जिसका अभी उद्घाटन नहीं हुआ था। प्रदीप खन्ना को बुधवार को यहां लेकर पहुंचे और घर को खुलवाया। मकान लग्जरी है। 2017 से इसे बनाना शुरू किया था, जब अब बनकर तैयार हुआ है। इसमें उन्होंने ऐशो आराम की सारी सुविधाएं जुटाई थी। 

एक बेटा और बेटी विदेश में, घर खर्च के लिए 900000 रुपए नगद मिले

खन्ना की दो बेटी और एक बेटा है। छोटी बेटी विदेश भी रही है। बता दें कि मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस ने इंदौर में जिला खनिज अधिकारी रहे प्रदीप खन्ना के इंदौर और भोपाल स्थित ठिकानों पर छापा मारकर करोड़ों रुपए की चल-अचल संपत्ति का खुलासा किया था। प्रारंभिक जांच में ही भोपाल स्थित घर से नौ लाख रुपए कैश, बायपास स्थित टाउनशिप में दो करोड़ से अधिक कीमत का बंगला, प्लाॅट, पटेल नगर में फ्लैट का खुलासा हुआ था।

शिकायत में अकूत संपत्ति का विवरण, काला कुबेर बताया है

मंगलवार सुबह छह बजे गौतम नगर स्थित मकान का दरवाजा डीएसपी प्रवीण सिंह बघेल ने खटखटाया तो दरवाजा खन्ना ने ही खोला। मास्क लगाए लोकायुक्त अफसरों की टीम को देखकर पसीने में तर हो गया। सोफे पर बैठते ही कांपने लगा। जांच शुरू होती गई और काली कमाई का खुलासा होता चला गया। लोकायुक्त सव्यसाची सराफ के निर्देशन में दोनों शहरों में एक ही समय कार्रवाई की गई। लाॅकडाउन के पहले खन्ना की काली कमाई की शिकायत की गई थी।

अब तक कितनी संपत्ति मिली

नायता मुंडला स्थित माउंटबर्ग कॉलोनी में नवनिर्मित तीन मंजिल भवन।
इसी बंगले के बाजू में एक 1500 वर्ग फीट का प्लाॅट।
पटेल नगर स्थित पटेल-टावर में एक फ्लैट जिसका उपयोग प्रदीप खन्ना के परिजन द्वारा किया जा रहा है।
भोपाल में गौतम नगर में एक मकान जिसका उपयोग प्रदीप खन्ना द्वारा स्वयं के निवास के रूप में किया जा रहा है।
2 फोर-व्हीलर तथा 2-टू-व्हीलर वाहन के अलावा 09 लाख से अधिक की नकदी
13 लाख के स्वर्ण आभूषण तथा एक लाख के रजत आभूषण।
06 बैंक अकाउंट संबंधी दस्तावेज। बैंक से लॉकर की जानकारी निकालना शेष है।

बेटी को पढ़ाई के लिए हांगकांग भेजा, फीस ₹4000000

खन्ना ने बेटी को हायर एजुकेशन के लिए हांगकांग भेजा था। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि पढ़ाई का खर्च करीब 40 लाख रुपए आया था। वहीं, भोपाल में बेटी की शादी भी चर्चा में थी। 150 से ज्यादा तरह के पकवान, महंगा डेकोरेशन अधिकारियों में चर्चा का विषय बना था।

तृतीय श्रेणी कर्मचारी से नौकरी शुरू हुई थी, अब तक कुल वेतन ₹7500000

निरीक्षक विजय चौधरी के मुताबिक खन्ना की नियुक्ति 1986 में तृतीय श्रेणी कर्मचारी के रूप में हुई थी। 2001 में इसे प्रमोशन मिला। फिर यह खनिज अधिकारी बना। तभी से पद का दुरुपयोग कर काली कमाई खड़ी करना शुरू की। 34 साल की नौकरी में वेतन से कमाई 75 लाख रुपए बनती है, लेकिन प्रारंभिक जांच में ही आंकड़ा करोड़ों रुपए में जा रहा है।

प्रदीप खन्ना को प्रमुख सचिव का संरक्षण: कमिश्नर का निलंबन आदेश रद्द कर दिया था

प्रदीप खन्ना करीब पांच साल तक इंदौर में जिला खनिज अधिकारी रहा। अक्टूबर 2019 में कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव ने अपर कलेक्टर कैलाश वानखेड़े से खनन की शिकायतों को लेकर जांच कराई, जिसमें सरकारी जमीन पर अवैध खनन होने, गलत पट्टे बंटने तक की कई गंभीर गड़बड़ी मिली, इस पर कमिश्नर आकाश त्रिपाठी ने उसे सस्पेंड कर दिया। दो माह बाद ही प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई ने यह कहकर खन्ना को बहाल कर दिया कि वित्तीय वर्ष का अंतिम माह है अभी राजस्व देखना है, इसलिए विभाग को खन्ना की जरूरत है। कुछ माह पहले फिर एक पहाड़ी पर खनन मामले में खन्ना की कार्य शैली को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह ने शासन को पत्र भेजा, जिसके बाद उसका इंदौर से ट्रांसफर हुआ।

खनिज माफिया ने कार गिफ्ट की थी, अवैध खनन में पार्टनरशिप

खनन कारोबार से जुड़े कुछ कई कारोबारी खन्ना के साथ मिल गए थे। बताया जाता है कि वह बिना कागज के ही हिस्सेदार हो गए थे। अवैध खनन कराने पर उसे बड़ी राशि मिलती थी। कुछ कारोबारियों ने घर में आयोजित एक आयोजन में लाल कार भी गिफ्ट की थी, जो कारोबारियों के बीच चर्चा का विषय रही। प्रदीप खन्ना के कारण रेवती रेंज की पहाड़ी बुरी तरह खोद दी गई। बीएसएफ के अफसरों ने कई बार शिकायतें की, लेकिन किसी ने उसके खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया। इस तरह उसके हौसले बढ़ते गए। जब आम शिकायतें बढ़ीं तब दिन के बजाए रात में जेसीबी चलने लगी। इसी तरह धनखेड़ी की पहाड़ी पर जमकर अवैध खनन हुआ।

प्रदीप खन्ना कहीं भी रहे, अवैध खनन का काम उनके इशारों पर होता था

बताया जाता है कि कय्युम खान नामक बिल्डर से प्रदीप खन्ना की अच्छी खासी सांठगांठ थी। उसने ही नायता मुंडला में माउंटवर्ग कॉलोनी काटी थी। वहीं पर खन्ना ने तीन मंजिला आलीशान मकान बनाया। इसी कॉलोनी के पीछे अवैध खनन हुआ। देवगुराड़िया की पहाड़ी पर भी अवैध खनन कराया गया। सूत्रों का कहना है कि दफ्तर में काम करने वाले डामोर से लेकर अन्य कर्मचारी खन्ना काे गुरु मानते थे। खन्ना कहीं भी रहे, लेकिन उसके इशारे पर अवैध खनन का काम कभी रुकता नहीं था।

02 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्यप्रदेश में 10+2 स्कूल खुलेंगे, प्राइमरी और मिडिल बंद रहेंगे, आदेश जारी
ज्योतिरादित्य सिंधिया मुश्किल में: हाईकोर्ट ने निर्वाचन रद्द करने का नोटिस भेजा
गर्मी के पसीने और और व्यायाम के पसीने में क्या अंतर है
भारतीय ट्रेनों में एसी कोच बीच में क्यों होता है
IGNOU EXAM: फाइनल ईयर/ सेमेस्टर के लिए नोटिफिकेशन
ज्योतिरादित्य सिंधिया को पता ही नहीं मुख्यमंत्री ने बिजली बिल मामले में क्या किया
9 वोल्ट की बैटरी से 9 वाट का LED बल्ब कितनी देर तक जलेगा
भोपाल में मोती महल भरभरा के गिरा, 30 से ज्यादा कारें दबी
रोऊंगा नहीं; कहीं से भी लाना पड़े, पैसा ले आऊंगा: सीएम शिवराज सिंह
चीटियां क्या सचमुच अनुशासन में चलतीं है या फिर एक दूसरे के पीछे चलना उनकी मजबूरी है
बच्चा चोरी का मामला अपहरण की धारा में दर्ज होगा या चोरी की
कर्मचारियों के थोकबंद रिटायरमेंट का प्लान, सर्कुलर जारी
BF ने शादी से मना किया, रेप केस दर्ज / लड़का बोला ब्लैकमेल कर रही है 
MP BY-ELECTION: ग्वालियर-चंबल में दिग्विजय सिंह की सक्रियता, प्रत्याशियों का चयन
इंदौर में जीतू पटवारी को सपोर्ट करने वाले खनिज अधिकारी के यहां लोकायुक्त का छापा
INDORE में वेब सीरीज के नाम पर लड़कियों से न्यूड वीडियो मंगवाए जाते थे
IAS जोशी दंपति की 100 से ज्यादा संपत्तियां कुर्क करने का आदेश जारी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here