Loading...    
   


BIG BREAKING: चीन का हमला, एक कर्नल दो सैनिक शहीद, 40 साल से स्थापित शांति भंग

नई दिल्ली। लद्दाख क्षेत्र भारत और चीन की सीमा से बड़ी खबर आ रही है। 40 साल की स्थापित शांति को भंगकरते हुए चीन की सेना की एक टुकड़ी ने भारतीय सेना की एक टीम पर हमला कर दिया। इस हमले में भारतीय सेना का एक कर्नल और 2 जवान शहीद हो गए। इस घटना के बाद केवल भारत और चीन ही नहीं बल्कि दुनिया के तमाम देशों के बीच चिंता की लकीरें उभर आई हैं। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए दोनों सैनाओं के अधिकारियों की बैठक शुरू हो गई है।

प्राथमिक सूचना मिली है कि भारत और चीन (India-China Faceoff) के बीच लद्दाख सीमा (Ladakh Border) पर दोनों सेनाओं के बीच सोमवार देर रात झड़प हो गई, जिसमें भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए। सेना की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि, 'गैलवान घाटी में डि-एस्केलेशन प्रक्रिया के दौरान बीती रात दोनों सेनाओं का आमना-सामना हो गया, जिसमें हमारे जवान शहीद हुए। इनमें भारतीय सेना का एक अधिकारी और दो सैनिक शामिल हैं। 

तनाव कम करने सेना के अधिकारियों की मीटिंग 

याद दिला दें कि भारत और चीन के बीच पिछले 40 साल से शांति स्थापित थी। 40 साल बाद गोली चली और उसमें भारत को एक अधिकारी व 2 जवानों को खोना पड़ा। दोनों पक्षों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी मौजूदा तनाव कम करने के लिए बैठक कर रहे हैं।पिछले महीने की शुरुआत में गतिरोध शुरू होने के बाद भारतीय सैन्य नेतृत्व ने फैसला किया था कि भारतीय सैनिक पैंगोंग सो, गलवान घाटी, डेमचोक तथा दौलत बेग ओल्डी के सभी विवादित क्षेत्रों में चीनी सैनिकों के आक्रामक अंदाज से निपटने के लिए कड़ा रुख अपनाएंगे।

पूरी तैयारियों के साथ खड़ी है चीन की सेना

चीनी सेना एलएसी के पास धीरे-धीरे अपना रणनीतिक भंडार बढ़ाती रही है और उसने वहां तोपें एवं अन्य भारी सैन्य उपकरण पहुंचाए हैं। मौजूदा गतिरोध के शुरू होने की वजह पैंगोंग सो झील के आसपास फिंगर क्षेत्र में भारत के एक महत्वपूर्ण सड़क निर्माण का चीन द्वारा किया जा रहा तीखा विरोध है। इसके अलावा गलवान घाटी में दारबुक-शयोक-दौलत बेग ओल्डी को जोड़ने वाली एक और सड़क के निर्माण पर भी चीन विरोध जता रहा है।

भारत ने फैसला किया है: चीन के कारण अपनी परियोजना नहीं रोकेगा

पैंगोंग सो में फिंगर क्षेत्र में सड़क को भारतीय जवानों के गश्त करने के लिहाज से अहम माना जाता है। भारत ने पहले ही तय कर लिया है कि चीनी विरोध की वजह से वह पूर्वी लद्दाख में अपनी किसी सीमावर्ती आधारभूत परियोजना को नहीं रोकेगा। दोनों देशों के सैनिक गत पांच और छह मई को पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग सो क्षेत्र में आपस में भिड़ गए थे। इस घटना में दोनों पक्षों के सैनिक घायल हुए थे। इस झड़प में भारत और चीन के करीब 250 सैनिक शामिल थे। 

इसी तरह की एक अन्य घटना में नौ मई को उत्तरी सिक्किम सेक्टर में नाकू ला दर्रे के पास लगभग 150 भारतीय और चीनी सैनिक आपस में भिड़ गए थे।

16 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

एक स्वस्थ इंसान को कितने वोल्ट तक बिजली का करंट नहीं लगता
MP PEB EXAM CALENDAR 2020 में होने वाली भर्ती/प्रवेश परीक्षाओं का डेट चार्ट जारी
GWALIOR में महिला ने कार जला डाली क्योंकि उससे रास्ता जाम होता था
घर के निर्माण में नदी की रेत क्यों यूज़ करते हैं, समुद्र या रेगिस्तान की क्यों नहीं
SUSHANT SINGH: कोई फांसी लगाकर सुसाइड करने से पहले जूस क्यों पिएगा
TATA SKY का नया प्लान, 2 महीने के लिए फ्री, टूटते ग्राहकों को रोकने वाला ऑफर
MADHYA PRADESH में SCHOOL जुलाई के महीने में भी बंद रहेंगे: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान
एक व्यक्ति अपराध करे और दूसरा सिर्फ साथ रहे तो दूसरा अपराधी माना जाएगा या नहीं, पढ़िए
AC खराब हो जाए तो क्या फ्रिज का डोर ओपन करके रूम ठंडा कर सकते हैं
BREAKING: कॉलेज (UG-PG और इंजीनियरिंग) परीक्षाएं अनिश्चित काल तक के लिए स्थगित
INDORE में कांग्रेस विधायकों के सामने घुटने पर बैठे SDM
SC-ST EMPLOYEE को प्रमोशन में आरक्षण: केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एप्लीकेशन फाइल की
ICSE EXAM: सीएस की परीक्षाएं स्थगित, नई तारीख घोषित
मध्यप्रदेश कोरोना: 133 पॉजिटिव में से 40 भोपाल में, 6 मौतों में से 4 इंदौर में
क्या शासकीय कर्मचारी के खिलाफ पुलिस इन्वेस्टिगेशन और डिपार्टमेंटल इंक्वायरी एक साथ कर सकते हैं
BIG BREAKING: चीन का हमला, एक कर्नल दो सैनिक शहीद, 40 साल से स्थापित शांति भंग
BHOPAL में राजनीति का दंगल 17 जून से, भाजपा-कांग्रेस के सभी पहलवान हाथ आजमाएंगे
MADHYA PRADESH में सभी स्कूल/कॉलेज/कोचिंग, अंतर्राज्यीय बस बंद करने के आदेश


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here