Loading...    
   


BHOPAL AIIMS के सामने वाली कॉलोनी में 10 कोरोना पॉजिटिव / BHOPAL NEWS

भोपाल। राजधानी में 45 संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। राजधानी में संक्रमित मरीजों की संख्या 909 हो गई है। लेकिन चिंता का विषय यह है कि कोरोना का नए हॉट स्पॉट बन रहे साकेत नगर में तीन दिन में 10 मरीज मिले हैं। 
साकेत नगर में बुधवार को एक ही परिवार के चार लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। नई गाइड लाइन के अनुसार पहली बार चार लोगों को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी अस्पताल भेजने के बजाय होम क्वारेंटाइन किया गया है। प्रदेश में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 4097 पर पहुंच चुकी है। इनमें 226 की मौत हो चुकी है। 1935 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं। 2111 एक्टिव मरीजों का अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोरोना की दस्तक

खतरे की बात यह है कि कोरोना का संक्रमण अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी दस्तक दे रहा है। बुधवार को मेंडोरा गांव निवासी 15 वर्षीय किशोर कोरोना पॉजिटिव पाया आया है। वहीं बैरसिया रोड स्थित चौपड़ा कलां निवासी 53 वर्षीय महिला भी पॉजिटिव आई है। दो पुलिसकर्मी भी संक्रमित हुए हैं। इसमें एक नारियल खेड़ा की फिजा कॉलोनी में रहने वाला है तो दूसरा जहांगीराबाद क्षेत्र में रहने वाला। इसी तरह पीएचक्यु में पदस्थ जहांगीराबाद निवासी पुलिसकर्मी की दूसरी सात साल की बेटी और पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई।


14 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

महिलाएं आटा गूंथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती हैं, जानिए रहस्य की बात
दिमाग से निकाल दीजिए UPSC क्लियर करने 20 घंटे पढ़ना जरूरी है: पूनम दहिया
नए टू व्हीलर्स की हेडलाइट हमेशा ऑन क्यों रहती है
चक्रवाती तूफान आने वाला है, 7 राज्यों के सैकड़ों शहरों को प्रभावित करेगा 
ग्वालियर में दुकानदारों को लॉकडाउन नामंजूर, बाजार खोल दिया
भारत में नर्सों को सिस्टर क्यों कहते हैं, परंपरा या कुछ और 
आठ ट्रेनें भोपाल में रुकेंगी, ये रही लिस्ट, आम नागरिकों को यात्रा की अनुमति
MPPEB EXAM DATE: प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ने 11 परीक्षाओं की तारीख घोषित
CBSE EXAM: परीक्षा कक्ष में बैठक व्यवस्था कैसी होगी
13 मई-25 जून शुक्र वक्री रहेंगे, पढ़िए आपका जीवन कितना प्रभावित होगा
इंदौर में डॉक्टर ने बीमार युवती का रेप कर डाला, लॉकडाउन के कारण मौका मिला
ग्वालियर स्टेशन से निकलेंगी 4 स्पेशल ट्रेनें, लेकिन कोई फायदा नहीं
राहत पैकेज में सरकारी और प्राइवेट कर्मचारियों को क्या मिला, यहां पढ़िए
अनुच्छेद 21 जीवन का अधिकार देता है तो फिर मृत्यु का अधिकार क्यों नहीं, पढ़िए


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here