Loading...    
   


रेलवे में होंगे बड़े बदलाव, लॉकडाउन हटने के बाद का प्रोटोकॉल तैयार | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। कोरोना वायरल महामारी के चलते फिलहाल पूरे देश में लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन की स्थिति फिलहाल 14 अप्रैल 2020 तक रहेगी। लेकिन लॉकडाउन हटने के बाद लोगों को हर सेक्टर में काफी बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। फिलहाल भारतीय रेल सेवा भी पूरी तरह बंद है, लेकिन बाद की स्थिति के लिए के रेलवे ने प्रोटोकॉल तैयार किया है ताकि यात्रियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाया जा सके। 

सबसे बड़ा बदलाव सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए कोच में मिडिल बर्थ को खाली रखने और थर्मल चेकिंग जैसी ऐहतियात बरती जाएगी। फिलहाल बता दें केंद्र सरकार की ओर से फिलहाल लॉकडाउन हटाने और रेल सेवा शुरू करने संबंधी कोई इशारा नहीं मिला है। लेकिन अधिकारी लॉकडाउन हटने और रेल सेवा शुरू होने के दौरान के लिए ये प्रोटोकॉल तैयार कर रहे हैं।

यह बदलाव हो सकते है 

भारतीय रेल ने यात्रियों के लिए एयरपोर्ट की तर्ज पर प्रोटोकॉल तैयार किया है। जो नए नियम बनाए जा रहे हैं वो इस प्रकार हैं । यात्रियों को करी ब 4 घंटे पहले स्टेशन पहुंचना होगा ताकि उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की जा सके।केवल आरक्षित टिकट वाले यात्रियों को ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी और सभी वेटिंग टिकट को कैंसिल कर दिया जाएगा। रेलवे की ओर से यात्रियों को रेलवे परिसर में प्रवेश करने के दौरान मास्क और दस्ताने दिए जाएंगे। इसे यात्रा के समय और सभी स्टेशन परिसरों में लगाए रखना यात्रियों के लिए अनिवार्य होगा।

रेलवे के रनिंग स्टाफ के लिए भी मास्क-दस्तानों की अनिवार्यता रहेगी। ट्रेन तक जाने के लिए यात्रियों को विशेष टनल से गुजरना होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए मिडिल बर्थ को खाली रखा जाएगा। इसके अलावा ट्रेन की साइड बर्थ भी खाली रहेगी। यात्रा से 12 घंटे पहले यात्री को अपनी सेहत की जानकारी रेलवे को देना अनिवार्य होगा। रेलवे सिर्फ नॉन एसी ट्रेन चलाएगा। कोई एसी कोच नहीं होगा। ट्रेन नॉन स्टाप (एक स्टेशन व दूसरे स्टेशन) चलेगी। जरुरत के मुताबिक एक अथवा दो स्टेशनों पर रोका जाएगा। सफर के दौरान कोच में कोई यात्री खांसी, जुकाम और बुखार से पीड़ित मिलता है तो उसे तुरंत रास्ते में उतार दिया जाएगा। ऐसे यात्री को 100 फीसदी पैसा रिफंड होगा।

एक केबिन में केवल 2 यात्री ही सफर कर सकेंगे। सफर के दौरान हर दो घंटे में कोच व टायलेट की सफाई। साथ ही उनके दरवाजों के हैंडल, रेलिंग, खिड़कियां आदि को सेनेटाइज किया जाएगा। रेलवे के रनिंग स्टाफ सहायक ड्राइवर, ड्राइवर, गार्ड, टीटीई, कोच सहायक व इलेक्ट्रिकल-मैकेनिकल कर्मचारियों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य होगी। यात्रा से 12 घंटे पहले यात्री को अपनी सेहत की जानकारी रेलवे को देना अनिवार्य होगा।

10 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रहीं खबरें

पत्नी को धर्मपत्नी क्यों कहते हैं, क्या कोई लॉजिक है या बस मान-सम्मान के लिए 
यदि एस्ट्रोनॉट अंतरिक्ष में अपने साथी पर गोली चलाए तो क्या होगा, पढ़िए 
जबलपुर में कोकिला रिसोर्ट सहित तीन होटल डॉक्टर्स और नर्सों के लिए अधिग्रहित 
छिंदवाड़ा में पहचान छुपा कर रह रहे थे चार जमाती
भोपाल में AIIMS के 2 डॉक्टरों को पुलिस ने पीटा, एक आरक्षक लाइन अटैच 
मध्य प्रदेश के 15 जिलों में 46 इलाके हॉटस्पॉट: जहां आना-जाना प्रतिबंध
कोर्ट में गीता पर हाथ रखकर कसम क्यों खिलाते थे, रामायण पर क्यों नहीं है
सांसदों की तरह मध्य प्रदेश में विधायकों की विधायक निधि बंद होगी: सीएम शिवराज सिंह
शिवराज के लिए सिरदर्द कम नहीं: COVID-19 के बाद CABINET-26
मध्यप्रदेश में ESMA लागू, पढ़िए आम जनता को इससे क्या फायदा होगा
लॉकडाउन के संदर्भ CM शिवराज की टेबल पर सुलेमान कमेटी की रिपोर्ट
भोपाल में टोटल लॉकडाउन की अवधि बढ़ी 
भाजपा नेता को धक्का देने वाले ADM सस्पेंड, संकट प्रबंधन समूह मीटिंग में हुआ था विवाद
समग्र पोर्टल में दर्ज सभी हितग्राहियों को निशुल्क राशन मिलेगा 
युवक की मौत के बाद आई रिपोर्ट, पॉजिटिव था
ग्वालियर बाजार अब 3 पार्ट में खोलने की तैयारी 
वेंटिलेटर क्या होता है, क्या इससे कोरोना वायरस मर जाता है
हाई कोर्ट में वकील ने जज को कोरोना संक्रमित होने का श्राप दे डाला
लॉकडाउन के बावजूद छिंदवाड़ा में मस्जिद में नमाज पढ़ते सरपंच सहित 40 गिरफ्तार
सीएम शिवराज सिंह ने IIFA-2020 की राशि कोरोना कंट्रोल के लिए मांगी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here