Loading...    
   


अकेले बुजुर्ग को क्वारैंटाइन कर दिया, ध्यान नहीं दिया, लाश में कीड़े पड़ गए, दुर्गंध आई तब पता चला | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। लोगों की जान बचाने के नाम पर हाय तौबा मचाते प्रशासन के तरीके जानलेवा साबित हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में 82 साल के एक बुजुर्ग को होम क्वॉरेंटाइन कर दिया जबकि वह घर में अकेला था। कुछ दिनों बाद आशा कार्यकर्ता और DO NOT VISIT का नोटिस चस्पा करके चली गई। अपने ही घर में कैद हो गए बुजुर्ग ने पता नहीं कब दम तोड़ दिया। पता तो तब चला जब लोगों को दुर्गंध आई। लाश पूरी तरह सड़ चुकी थी। जब दरवाजा तोड़कर देखा तो शव में कीड़े रेंग रहे थे।

घर में अकेला था बुजुर्ग फिर भी होम क्वारैंटाइन कर दिया

बुजुर्ग मार्च में गुजरात से अपने गांव बढ़नापुर लौटा था। इसके बाद 22 मार्च को प्रशासन ने उसे होम क्वारैंटाइन कर दिया था। फिर आशा कार्यकर्ता ने 4 अप्रैल को घर के बाहर दूसरा नोटिस चस्पा कर दिया। जिसमें लिखा था कि कोई भी इस घर में प्रवेश न करे। यह कोरोना संदिग्ध का घर है। इसके बाद प्रशासन की ओर से किसी ने उसकी सुध नहीं ली। बुजुर्ग व्यक्ति अपने घर में अकेला था। ऐसी स्थिति में उसे होम क्वॉरेंटाइन नहीं किया जाना चाहिए था बल्कि क्वॉरेंटाइन सेंटर में ले जाना चाहिए था। यदि सेंटर उपलब्ध नहीं था तो फिर उसकी नियमित रूप से देख रखी जानी चाहिए थी। लेकिन प्रशासन ने ऐसा नहीं किया।

22 मार्च के बाद 4 अप्रैल को गई थी: आशा वर्कर ने बताया

आशा वर्कर का कहना है कि 22 मार्च को क्वारैंटाइन किए जाने के वक्त वह बुजुर्ग के घर आई थी। उसके बाद 4 अप्रैल को नोटिस चस्पा करने आई थी। इस दौरान उन्हें किसी अनहोनी की भनक भी नहीं लगी। 

काम में उलझा था, ध्यान नहीं दे पाया: ग्राम प्रधान के पति ने कहा

ग्राम प्रधान के पति महेन्द्र वर्मा ने कहा- मृतक अपने पोते के साथ गुजरात से गांव आया था, जो बाराबंकी शहर में रहता है। 1 अप्रैल को बुजुर्ग राशन और 4 अप्रैल को डॉक्टर से दवा भी लेकर आया था। वह अस्थमा का मरीज भी था। मौत कब हुई किसी को इसकी जानकारी नहीं है। वर्मा ने अपनी लापरवाही मानते हुए कहा कि मैं कई दिनों से दूसरे कामों में उलझा था, इसलिए बुजुर्ग पर ध्यान नहीं दे पाया।

CMHO की दर्द बढ़ाने वाली दलील

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर रमेश चन्द्रा ने कहा- शायद आशा वर्कर बुजुर्ग के घर के बाहर से लौटकर आ जाती होगी। कीड़े पड़ने के लक्षणों के बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। बुजुर्ग में कोरोना के लक्षण नहीं थे, फिर भी हमने सैम्पल लेकर भेज दिया है। जिसकी रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कह पाना संभव होगा। होम क्वारैंटाइन का अर्थ यह नहीं है कि हम रोज देखने जाएं। इसमें हमें सिर्फ इतना देखना होता है कि संदिग्ध 14 दिनों तक किसी से मिले न और घर से बाहर न निकले।

12 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रहीं खबरें

कीबोर्ड के बटन ABCD (अल्फाबेटिकल) क्यों नहीं होते, क्या कोई रीजन है या गलती 
चेन पुलिंग करने पर बोगी का नंबर रेल पुलिस को कैसे पता चल जाता है 
इंदौर में मुसलमानों ने एडवांस में कब्रें खुदवा लीं, कब्रिस्तान में वेटिंग चल रही थी 
ग्वालियर बाजार अब 3 पार्ट में खोलने की तैयारी 
24 घंटे खुलेगी सब्जी की दुकान, किसानों के लिए भी नया प्लान: शिवराज सिंह चौहान 
पत्नी को धर्मपत्नी क्यों कहते हैं, क्या कोई लॉजिक है या बस मान-सम्मान के लिए 
शिक्षकों को कोरोना ड्यूटी पर लगाया, PPE और INSURANCE की मांग 
मध्य प्रदेश: 78 नए पॉजिटिव, कुल 529, 22 जिले, 14 गंभीर, 437 स्थिर | कोरोना बुलेटिन
रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर बनेगी एक विशेष सुरंग 
लॉक डाउन के बीच मंत्री नरोत्तम मिश्रा के भाई कुलसचिव नियुक्त 
मध्य प्रदेश में राष्ट्रपति शासन की मांग, सांसद विवेक तन्खा ने पत्र लिखा 
छिंदवाड़ा में पहचान छुपा कर रह रहे थे चार जमाती
पंचायत सचिवों ने भी 50 लाख का बीमा और PPE KIT मांगे 
मध्य प्रदेश: 12वीं की परीक्षा नहीं हुई फिर भी कॉलेज में एडमिशन मिलेगा 
कोरोना फाइटर वंदना तिवारी की दर्दनाक मौत, DM से लेकर CM तक किसी ने मदद नहीं की 
मध्यप्रदेश: हे! सरकार, प्रसिद्धि के अवसर बाद में भी आयेंगे 
आरक्षक आनंद कोरोना ड्यूटी करने 450km पैदल चलकर जबलपुर पहुंचे 
भिंड में जनधन के 5-5 सौ लेने गई महिलाएं 10-10 हजार का मुचलका भरके छूटीं (वीडियो देखें) 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here