Loading...    
   


लॉक डाउन में मध्य प्रदेश के मजदूर की महाराष्ट्र में भूख से मौत / MP NEWS

भोपाल। 24 मार्च 2020 को भारत में लोक डाउन होने के बाद मध्य प्रदेश एवं भारत सरकार द्वारा आश्वस्त किया गया था कि यदि कोई व्यक्ति अपने घर के बाहर फस गया है तो उसके भोजन का प्रबंध सरकार करेगी परंतु महाराष्ट्र में ऐसा नहीं हुआ। मध्य प्रदेश के सीधी जिले के रहने वाले मजदूर मोतीलाल साहू की महाराष्ट्र के ठाणे में भूख से तड़प-तड़प कर मौत हो गई।

किसी भी सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिली

38 वर्षीय मोतीलाल साहू के परिवार में उनकी पत्नी और 3 बेटियां हैं। मोतीलाल साहू नवी मुंबई में हाउस पेंटर का काम करते थे, वह लॉकडाउन की वजह से वहां फंस गए थे।पैसा और खाना खत्म होने के बाद जब तमाम कोशिशों के बाद भी कोई सरकारी मदद नहीं मिली तो मोतीलाल साहू 50 मजदूरों की टोली के साथ मुंबई से मध्य प्रदेश की तरफ पैदल ही चल दिए। प्रवासी मजदूरों की इस टोली में 9 मध्यप्रदेश के थे। 

लॉकडाउन-2 जानलेवा साबित हुआ

ये लोग पहले लॉकडाउन तक मुंबई में ही रुके रहे, लेकिन दूसरे की घोषणा के बाद इनकी मुश्किलें बढ़ गई थी। साहू के चचेरे भाई संजय ने कहा कि वह जानते थे कि अब उनके पास कपड़े के सिवा कुछ नहीं बचा है और न ही कोई विकल्प है। कल्याण पुलिस स्टेशन के एसआई कमलाकर मुंबई ने कहा कि 22 अप्रैल को 2:30 बजे ये लोग नेरुल से निकले थे। कुछ मजदूरों के पास मोबाइल फोन थे, जीपीएस के सहारे ये लोग आगे बढ़ रहे थे। 

साथी बेहोश हुआ लेकिन कोई नहीं रुका, सब आगे बढ़ गए

पुलिस ने बताया कि सुबह 8 बजे के करीब ये लोग खदावली गांव पहुंचे, जहां ये लोग घंटों रुके रहे। शाम 5 बजे मोतीलाल साहू गिर गए। इसके बाद उनके साथियों ने 108 एंबुलेंस को फोन किया। मोतीलाल के गिरने के बाद साथ चल रहे लोग आगे बढ़ बढ़ गए सिर्फ सुरेश साहू वहां रुके रहे, जो उनके पड़ोसी गांव से हैं।

24 घंटे से भूखे-प्यासे पैदल चल रहे थे

मोतीलाल साहू के चचेरे भाई संजय ने बताया कि 24 घंटे से खाना-पानी नहीं मिला था। ठाणे के करीब जंगल में पानी में दिखा। मेरे चचेरे भाई ने उसको पी लिया और बेहोश हो गए। अस्पताल ढूंढने में 3 घंटे लगे, तब तक उनकी मौत हो गई। मोतीलाल के चचेरे भाई ने कहा कि परिवार बहुत गरीब है, वह अकेले कमाने वाले थे। 

26 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रहीं खबरें

कार की स्टीयरिंग बीच सेंटर में क्यों नहीं होती, साइड क्यों होती है 
रेलवे स्टेशन और रेलवे जंक्शन में क्या अंतर है, एक स्टेशन कब जंक्शन बन जाता है 
ब्रेकिंग! भिड़े की बेटी सोनू का अफेयर टप्पू से नहीं गोली से चल रहा है!
सार्वजनिक स्थान पर आपत्तिजनक बयान, किसी धारा के तहत FIR दर्ज होगी 
SC-ST के धनाढ्य लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलना चाहिए: सुप्रीम कोर्ट 
जीवन शक्ति योजना: मध्य प्रदेश की महिलाओं के लिए घर बैठे रोजगार 
दुकान खोलने की अनुमति पर गृह मंत्रालय का स्पष्टीकरण 
SLAP KINGS बना दुनिया का सबसे लोकप्रिय मोबाइल गेम, PUBG और Call Of Duty को पीछे छोड़ा
ग्वालियर 10 मंजिला एमके सिटी में आग, लोग चौथी मंजिल से कूदे, बिल्डर गिरफ्तार, मामला दर्ज
ज्योतिरादित्य सिंधिया: बीजेपी ज्वाइन करने के बाद भी कांग्रेस के कनेक्शन में क्यों हैं 
मध्य प्रदेश: 99 नए मामले, टोटल 1945, भारत में पांचवें नंबर पर 
मध्यप्रदेश में लॉकडाउन से सशर्त राहत, पढ़िए क्या खुलेगा, क्या बंद रहेगा 
क्या LAPTOP को बिस्तर पर रखकर चलाने से वह जल्दी खराब हो जाता है, यहां पढ़िए
डांगरी ड्रेस पहनने वाले पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी: PHQ 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here