Loading...    
   


कोरोना संदिग्ध पति की देह लेकर अकेली विश्राम घाट पहुंची पत्नी, मुखाग्नि दी / BHOPAL SAMACHAR

भोपाल। रायसेन के कोरोना संदिग्ध अमित अग्रवाल की शुक्रवार को हमीदिया अस्पताल में मौत हो गई। पिता के साथ रायसेन में टिफिन सेंटर चलाने वाले अमित की बुधवार को तबीयत खराब हुई थी। उन्हें सांस लेने में दिक्कत के बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। गुरुवार को जब हालत और खराब होने लगी तो डॉक्टरों ने हमीदिया अस्पताल रेफर कर दिया। यहां उन्हें कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था। शुक्रवार को अमित की मौत हो गई। सहकारी बैंक रायसेन में कार्यरत वर्षा उस समय अकेली थीे। देवर हैं, लेकिन वे भी हमीदिया में ही भर्ती हैं। लॉक डाउन के कारण बाकी परिजन के साथ पांच और आठ साल के बच्चे भी यहां नहीं आ पाए। मासूम आखिरी बार पिता के दर्शन भी नहीं कर पाए।  

बच्चे भोपाल से 45 किमी दूर रायसेन में थे और देवर उसी अस्पताल में भर्ती, जहां पति ने प्राण त्यागे। ऐसे वक्त में भी टूटकर बिखरने के बजाय उसने अपने सिंदूर का फर्ज निभाया। चार कांधे भी न मिल सके तो एक सहेली को साथ लेकर एम्बुलेंस से ही पॉलिथिन में लिपटी पति की निष्प्राण देह को विश्राम घाट लेकर पहुंची। आखिरी सांस तक साथ निभाने की कसम खाई थी, लेकिन बीमारी के कारण पति बीच में साथ छोड़ गए। वह भी ऐसे वक्त जब ढांढस बंधाने कांधे पर हाथ रखने वाला भी कोई नहीं था। हाथों में जिसके नाम की मेहंदी रचाती आई थी, उन्हीं हाथों से उसे मुखाग्नि दी। 

वर्षा ने पति की देह को घर ले जाने की इच्छा जताई तो इजाजत नहीं मिली। क्योंकि कोरोना की जांच लंबित है। कोई और रास्ता नहीं देख वर्षा ने खुद ही पति को अंतिम विदाई देने का फैसला लिया। दोपहर 2 बजे एम्बुलेंस में पति की देह को लेकर अकेली ही सुभाषनगर विश्राम घाट पहुंची। ड्राइवर के अलावा कोई भी साथ नहीं था। विश्राम घाट के तीन और कर्मचारी मदद के लिए आगे आए। इस बीच वर्षा की एक सहेली अपने पिता के साथ वहां आ गई। वर्षा ने लड़खड़ाते कदमों से पति को अंतिम विदाई दी। इसके बाद ही रायसेन के लिए रवाना हुई।

सुभाष नगर विश्राम घाट के प्रबंधक शाेभराज ने बताया कि दाेपहर करीब 2 बजे हमीदिया अस्पताल की एंबुलेंस से एक महिला अपने पति के शव काे लेकर आई। देह पॉलिथीन की थैली में पैक थी। रोज कितनी ही शवयात्राएं आती हैं, लेकिन किसी महिला को इस तरह अकेले पति का शव लाते देख हमारा भी कलेजा फट गया। पूछने पर महिला ने हमीदिया अस्पताल में निमाेनिया के इलाज के दाैरान उनकी माैत हाेना बताया। विश्राम घाट के तीन कर्मचारियाें और महिला काे एंबुलेंस के ड्राइवर ने पीपीई किट दी। इसे पहनकर कर्मचारियाें ने अमित का शव एंबुलेंस से उतारा। मुखाग्नि पत्नी ने ही दी।

पुलिसकर्मियों को भोजन उपलब्ध करा रहा था पति 

अमित पिता सुखलाल अग्रवाल रायसेन में टिफिन सेंटर चलाते थे। लॉकडाउन में उन्हें नपा के सहयोग से जरूरतमंदों और पुलिसकर्मियों को भोजन उपलब्ध कराने का काम मिला था। वे कुछ दिनों से यही कर रहे थे। हालांकि बीमारी की बात सामने आने पर उनसे ठेका वापस ले लिया गया है। पत्नी वर्षा के साथ काम करने वाले 6 सहयोगियों को क्वारैंटाइन कर दिया गया है। जिला अस्पताल में अमित के संपर्क में आई चार नर्स, एक वार्डबॉय, ड्रेसर और सुरक्षाकर्मियों को क्वारैंटाइन किया गया है।


25 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रहीं खबरें

रेलवे स्टेशन और रेलवे जंक्शन में क्या अंतर है, एक स्टेशन कब जंक्शन बन जाता है 
E-GRAM SWARAJ App Download यहां से करें, पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा ग्राम पंचायतों के लिए लांच
ज्योतिरादित्य सिंधिया: बीजेपी ज्वाइन करने के बाद भी कांग्रेस के कनेक्शन में क्यों हैं 
स्वामित्व योजना क्या है, इससे क्या फायदा होगा, यहां पढ़िए 
कार की स्टीयरिंग बीच सेंटर में क्यों नहीं होती, साइड क्यों होती है 
लॉकडाउन: सभी प्रकार की दुकानें खोलने के आदेश जारी, शर्तें लागू 
सहकारी समितियां किसानों से कर्जवसूली कर रहीं हैं, रोकिए शिवराज
ज्योतिरादित्य सिंधिया को उनके गढ़ में धूल चटाने कमलनाथ की कोर टीम तैयार 
लॉक डाउन में अमूल ने दाम घटाए, बिक्री बढ़ी, आइसक्रीम नहीं पनीर खा रहे हैं लोग 
मध्य प्रदेश: 159 नए मामले, टोटल 1846, संक्रमित जिलों की लिस्ट से 3 नाम घटे 
SLAP KINGS बना दुनिया का सबसे लोकप्रिय मोबाइल गेम, PUBG और Call Of Duty को पीछे छोड़ा
बेईमान राशन विक्रेता का वीडियो बनाकर भेजें: कलेक्टर 
ग्वालियर 10 मंजिला एमके सिटी में आग, लोग चौथी मंजिल से कूदे 
लॉकडाउन ने उजाड़ा पूरा परिवार, बेटी की हत्या कर माँ ने सुसाइड किया 
SC-ST के धनाढ्य लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलना चाहिए: सुप्रीम कोर्ट 
जबलपुर में आर्मी ऑफिसर और उसकी पत्नी ने आत्महत्या की 
भोपाल में 8 माह के बच्चे सहित 1 ही परिवार 4 लोग कोरोना पॉजिटिव 
शिवराज सरकार ने घुटने टेके, पेरेंट्स को स्कूल संचालकों के सामने लावारिस छोड़ दिया


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here