GWALIOR NEWS- कांग्रेस नेता के कब्जे से करोड़ों रुपए की सरकारी जमीन मुक्त कराई

ग्वालियर
। बुधवार सुबह जिला प्रशासन ने एक कांग्रेस नेता के कब्जे से सालों से कजाई सरकारी भूमि पर अतिक्रमण हटाकर उसे मुक्त करने की कार्यवाही की। इस दौरान बड़ी सं,या में पुलिस फोर्स और नगर-निगम का मदाखलत दस्ता समेत बड़ी संख्या में प्रशासनिक अधिकारी तैनात रहे। जमीन मुक्त कराने का मामला पूरी तरह से गोपनीय रखा गया था। सूत्र बताते हैं कि एसडीएम को भी ऐन समय पर बताया गया कि उक्त जमीन को मुक्त कराना हैं। इधर कांग्रेस नेता के द्वारा कब्जाई जमीन के आसपास कई लोगों के मकान बने हुए हैं। वे भी सांसत में रहे कि कहीं उनके मकान पर जेसीबी न चल जाए। 

जानकारी के अनुसार इस बार जिला प्रशासन के निशाने पर वीर सिंह तोमर आ गया। प्रशासन की टीम सुबह साढ़े नौ बजे शब्द प्रताप आश्रम पर पहुंच गई। यहां पर पुलिस फोर्स और नगर निगम का तोडू़ मदाखलत दस्ता भी पहुंच गया। एसडीएम को कलेक्टर ने यहां पहुंचने के निर्देश दिए थे। उन्हें भी नहीं मालूम था कि कहां पर एक्शन लेना है। करीब 40 मिनट के बाद निर्देश मिले कि लक्ष्मण तलैया पर वीरसिंह तोमर द्वारा कब्जाई सरकारी जमीन को मुक्त कराना है तो यहां से पूरा अमला व प्रशासन की टीम लक्ष्मण तलैया पहुंची। कुल जमीन 14 हजार वर्ग फीट थी। यह करोड़ों रुपए की बताई जा रही है।

गैरेज संचालित हो रहे थे, किराया वसूल रहा था नेता

प्रशासन ने इस जमीन पर चल रहे दो वाहन गैरेज जिसमें नासिर खान निवासी गोल मोहल्ला और दूसरा छोटा गैरेज बबलू खान निवासी नौगजा रोड को खाली करने के निर्देश दिए। यहां से करीब आधा सैंकड़ा चार पहिया हटाए गए। इसके बाद मौके पर कांग्रेस नेता भी पहुंच गया, लेकिन उसकी एक नहीं चली। प्रशासन ने साफ शदों में कहा कि जमीन सरकारी है। कांग्रेस नेता सरकारी जमीन पर बाउंड्री वॉल बनाकर कार गैरेज किराए पर देकर कई सालों से किराया भी वसूल रहा था। इसी सरकारी जमीन पर एक शासकीय राशन की कंट्रोल भी संचालित हो रही है।

मंदिर की आड़ में किया था अतिक्रमण

बताया गया कि कांग्रेस नेता ने सालों पहले यहां मंदिर की आड़ में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किया था। फिर अपने रसूख के चलते यहां दीवार खड़ी कर ली, और गैरज भी किराए पर दे दिया। हर साल इस मंदिर पर भंडारा भी आयोजित करवाने लगा। सूत्र बताते हैं कि जिला प्रशासन काफी समय से इस पर अपनी निगाह गड़ाए हुए था।

इस जमीन की वसीयत पुजारी ने की है

मौके पर एसडीएम और तहसीलदार से उक्त नेता बोला कि इस जमीन की वसीयत मंदिर के पुजारी ने मेरे नाम की है। वह अधिकारियों को दस्तावेज दिखाने लगा, लेकिन उसकी एक नहीं चली। एसडीएम ने कहा कि यह सरकारी जमीन है और इस पर कब्जा किया गया है। प्रशासन ने जमीन पर पूरा अतिक्रमण हटाकार कुछ कच्चे कमरे बने थे वह इसलिए नहीं तोड़े कि यहां हर साल भंडारा होता है। अमले ने गेट पर ताला लगाकर सील लगा दी। 

11 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- अतिथि शिक्षक भर्ती में डबल स्टैंडर्ड, हाईकोर्ट ने कहा निराकरण करो
MP NEWS- ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ तैयारी कर रहे जयवर्धन सिंह भोपाल में डॉ मिश्रा से मिले
MPMSU NEWS- मंत्री विश्वास सारंग के बंगले पर स्टूडेंट्स का प्रदर्शन, परीक्षा के लिए भी आंदोलन करना पड़ रहा है
MP NEWS- पटवारियों की हड़ताल शुरू, बस्ते जमा कराए
EMPLOYEE NEWS- BHOPAL में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस उठा ले गई 
BHOPAL NEWS- पुलिस पेपर चेक करने किसी वाहन को नहीं रोक सकती
MP COLLEGE ADMISSION- शिक्षा विभाग के इंस्टीट्यूट्स में प्राइवेट स्टूडेंट्स को एडमिशन मिलेगा
MP NEWS- शिवराज सरकार को शायद पता था, कमलनाथ सिर्फ ट्वीट करेंगे
GWALIOR NEWS- लैंड रिकॉर्ड का सिस्टम बदल रहा है, सतर्क रहें
MP NEWS- भवन निर्माण और अवैध कॉलोनी से संबंधित नियम बदले

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiमाचिस की तीली किस लकड़ी से बनती है, माचिस का आविष्कार किसने और कब किया 
GK in Hindiपरिक्रमा को इंग्लिश में क्या कहते हैं और हिंदी में इसका अर्थ क्या है
GK in Hindiघी में आग क्यों लग जाती है, दूध में क्यों नहीं लगती
GK in Hindiदुबई के सभी शेख अमीर क्यों होते हैं, कोई कंगाल क्यों नहीं होता
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com