HC की महत्वपूर्ण टिप्पणी: संतान नाजायज नहीं हो सकती, माता-पिता के संबंध नाजायज हो सकते हैं - High court Hindi News

नई दिल्ली।
कर्नाटक हाईकोर्ट की जस्टिस बीवी नागरत्ना और जस्टिस एच. संजीव कुमार की खंडपीठ ने बेहद महत्वपूर्ण टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने कहा कि संतान किसी भी स्थिति में नाजायज नहीं हो सकती। बल्कि माता-पिता नाजायज हो सकते हैं। क्योंकि अपने जन्म में संतान की कोई भूमिका नहीं होती।

जस्टिस बीवी नागरत्ना और जस्टिस एच. संजीव कुमार की खंडपीठ ने उक्त टिप्पणी एकल पीठ के आदेश को खारिज करते हुए की। हाई कोर्ट की एकल पीठ ने के. संतोष नामक व्यक्ति की याचिका खारिज कर दी थी जिसने अपने पिता की 2014 में मृत्यु के बाद अनुकंपा के आधार पर सरकारी बैंगलोर इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कंपनी (बीईएससीओएम) में नौकरी के लिए आवेदन किया था। उसके पिता कंपनी में लाइनमैन ग्रेड-2 के पद पर कार्यरत थे। चूंकि याचिकाकर्ता का जन्म पिता की पहली शादी के रहते हुए दूसरी शादी से हुआ था, लिहाजा कंपनी ने इसे अपनी नीति के विरुद्ध बताते हुए उसके आवेदन को खारिज कर दिया था। इसके बाद याचिकाकर्ता ने हाई कोर्ट में अपील की थी, जिसे कोर्ट की एकल पीठ ने खारिज कर दिया था। 

कोई भी बच्चा एक पिता और एक मां के बिना दुनिया में नहीं आ सकता

एकल पीठ के आदेश को खारिज करते हुए खंडपीठ ने कहा कि कोई भी बच्चा एक पिता और एक मां के बिना दुनिया में नहीं आ सकता। लिहाजा, कानून को इस तथ्य को मान्यता प्रदान करनी चाहिए कि माता-पिता नाजायज हो सकते हैं, लेकिन बच्चे नहीं। यह संसद का काम है कि वह बच्चों के वैध होने को लेकर कानून में एकरूपता लाए। इस प्रकार, यह संसद को निर्धारित करना है कि वैध विवाह से बाहर पैदा हुए बच्चों को किस तरह सुरक्षा प्रदान की जा सकती है। 

कंपनी ने अनुकंपा नियुक्ति का आवेदन रिजेक्ट कर दिया था

कोर्ट ने याचिकाकर्ता की तरफ से दायर अपील पर अनुमति देते हुए बचावपक्ष से उचित कदम उठाने को कहा। मामले में कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (केपीटीसीएल) की तरफ से 2011 के एक सर्कुलर के आधार पर अनुकंपा पर नियुक्ति के लिए पात्रता से वंचित कर दिया गया था। सर्कुलर में कहा गया था कि 2011 केपीटीसीएल सर्कुलर के एक क्लॉज में कहा गया है कि दूसरी पत्नी या उसके बच्चे अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति के लिए पात्र नहीं हैं, जहां तक यह दूसरी पत्नी के बच्चों से संबंधित है, अगर शादी पहली शादी के दौरान हुई है।

सात साल पहले हो गई थी पिता की मौत

याचिकाकर्ता के. संतोष की पिताकर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (KPTCL) में लाइनमैन के रूप में काम करते थे। साल 2014 में नौकरी के दौरान ही उनकी मौत हो गई थी। इसके बाद याचिकर्ता ने कंपनी में अनुकंपा के आधार पर नौकरी के लिए अनुरोध किया। इस पर कंपनी ने उपरोक्त सर्कुलर का हवाला देते हुए उनके अनुरोध को खारिज कर दिया। इसके बाद उसने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

दो महीने के भीतर करनी होगी कार्रवाई

कोर्ट ने मामले की सुनवाई के बाद कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड को दो महीने के भीतर उचित कदम उठाने को कहा। कोर्ट ने बचाव पक्ष को निर्देश दिया गया है कि वे याचिकाकर्ता द्वारा किए गए आवेदन पर कानून के अनुसार विचार करें। अदालत ने कहा कि आदेश की प्रमाणित प्रति प्राप्त होने की तारीख से दो महीने की अवधि के भीतर विचार किया जाएगा, क्योंकि कर्मचारी की मृत्यु लगभग सात साल पहले हुई थी।

15 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

EMPLOYEE NEWS- कैबिनेट में महंगाई भत्ता एवं राहत 28% की मंजूरी
EMPLOYEE NEWS- 18 महीने का एरियर नहीं मिलेगा, कर्मचारियों को नफा हुआ या नुकसान
MP NEWS- मोहल्ले के लड़कों को बिजली बिल वसूली की नौकरी मिलेगी
MP NEWS- मंत्री: होशियार मत बन नहीं तो दूंगा, युवक: प्रचार करने आना तब बताऊंगा
MP CORONA NEWS- कर्फ्यू के संबंध में नई गाइडलाइन जारी
MP HED NEWS- ट्रांसफर, भर्ती और अतिथि विद्वानों के मुद्दे पर समीक्षा बैठक में बात होगी
CORONA BREAKING- केंद्र ने राज्यों में प्रतिबंध लगाने के लिए एडवाइजरी जारी की
MP NEWS- कमलनाथ को फिर दिल्ली से बुलावा, सोनिया के साथ काम करें
MP NEWS- मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने विवेक तन्खा की मांग तत्काल स्वीकार की
MP NEWS- पुलिस से पंगा के बाद महिला SDO मुरैना से उमरिया के जंगल में ट्रांसफर
RASHIFAL- सूर्य की कर्क संक्रांति आपकी राशि को कितना प्रभावित करेगी, यहां पढ़िए

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindi9PM के बाद पत्नी से झगड़ा करना किस देश में अपराध 
famous temples in Madhya Pradeshमांढरेवाली माता के कारण सिंधिया राजवंश का कभी पतन नहीं हुआ
GK in Hindiगाय को माता क्यों मानते हैं, दूध तो भैंस भी देती है 
GK in HindiDISC BRAKE बाइक के अगले पहिए में क्यों लगाते हैं, पिछले में क्यों नहीं
GK in Hindiकैसे पता करें TV-AC फ्रिज ने 1 महीने में कितनी यूनिट बिजली खर्च की 
GK in Hindiउपहार के लिफाफे में एक रुपया क्यों जोड़ा जाता है, लॉजिक क्या है
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiभारत के किस रेलवे स्टेशन का नाम, सबसे बड़ा है, इसमें अंग्रेजी के कुल कितने अक्षर आते हैं 
GK in Hindiसड़क किनारे वृक्षों पर सफेद पेंट क्यों किया जाता है, वैज्ञानिक कारण 
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here