रसोई गैस सिलेंडर पर लिखा कोड पढ़ना क्यों जरूरी, समझिए - GK IN HINDI

रसोई गैस सिलेंडर:
हर घर में गैस सिलेंडर को देखा जा सकता है। हम आपको सिलेंडर से जुड़ी कुछ ऐसी रोचक जानकारी बताने जा रहे हैं जिसे जानना आपके और आपके परिवार के लिए आवश्यक है। इस एक जानकारी से आप अपने परिवार को बड़े खतरे से बचा सकते है। गैस सिलेंडर को लेकर शायद आप इस बात से अंजान होंगे कि यह एक्सपायर भी हो सकता है? 

जी हां जैसे कि आप खाने-पीने की चीजों में एक्सपायरी डेट देख सकते हैं, दवाई-गोलियों में एक्सपायरी डेट होती है तो ठीक वैसे ही सिलेंडर पर भी एक्सपायरी डेट होती है। अगर सिलेंडर को समय पर चेक न किया जाए तो यह आपके लिए बड़ा ही खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा के लिहाज से इस खबर को पूरा जरूर पढ़ें। गैस सिलेंडर पर हम कुछ नम्बर लिखे हुए देखते हैं। क्या कभी आपने सोचा है कि उन नम्बरों या फिर एक तरह के कोड के क्या मायने हो सकते हैं? अगर अब तक आपका ध्यान इस ओर नहीं गया तो आप बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी से अंजान है। 

अब आप जानना चाहते होंगे  आखिर एक गैस सिलेंडर की उम्र कितने साल की होती है? हालांकि जानकारी के लिए आपको बतादें कि जब सिलेंडर का निर्माण होता है तो प्रत्येक सिलेंडर पर उसकी एक्सपायरी डेट डाल दी जाती है जैसा की हर तरह की खाने-पीने की चीजों में एक्सपायरी डेट होती है ठीक वैसे ही डेट सिलेंडर पर डाल दी जाती है। तो यहां पर हम आपको बतादें कि प्रत्येक सिलेंडर की उम्र 15 साल की होती है। यानी जब गैस सिलेंडर का निर्माण होता है तो वह उस तारीख से 15 साल तक वैलिड होता है उसके बाद यह खतरे की घंटी बन जाता है।

गैस सिलेंडर की एक्सपायरी डेट ऐसे चेक करें: 

अब आपके भी मन में कुछ इसी तरह का सवाल दौड़ता होगा कि आखिर हम कैसे चेक कर सकते हैं अपने घर में लगे सिलेंडर की एक्सपायरी डेट को? दरअसल रसोई गैस सिलेंडर की एक्सपायरी की पहचान के लिए इसकी साइड पट्टियों पर एक स्पेशल कोड लिखा जाता है। प्रत्येक सिलेंडर का कोड अलग होता है। A, B, C और D से इन कोड की पहचान की जाती है। इनके आगे दो अंको का एक नंबर लिखा होता है। कुछ ऐसा- A 24, B 25, C 26, D 22. यहाँ A, B, C और D का मतलब महीने से है। A का इस्तेमाल जनवरी, फरवरी और मार्च के लिए किया जाता है। B का इस्तेमाल अप्रैल, मई और जून के लिए किया जाता है। C का इस्तेमाल जुलाई, अगस्त और सितम्बर के लिए किया जाता है। वहीं D का इस्तेमाल अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर के लिए किया जाता है। इसके अलावा दो अंकों वाले नंबर जिस साल में सिलेंडर की टेस्टिंग होनी है, उसके आखिरी दो अंक होते हैं।

कोड्स का इस्तेमाल सिलेंडर की टेस्टिंग डेट के लिए किया जाता है। मान लीजिए किसी सिलेंडर पर बी 25 कोड लिखा है, इसका अर्थ यही है कि उस सिलेंडर को साल 2025 के अप्रैल, मई और जून महीने में चेक किया जाएगा या उसकी टेस्टिंग की जाएगी। आपको बस इस बात का ध्यान रखना है कि जो सिलेंडर आपके घर आए उस पर आप सिर्फ साल का कोड देखें।

कई टेस्टिंग के बाद ही एलपीजी गैस सिलेंडर BIS 3196 मानक को ध्यान में रखकर बनाया जाता है। आपके घर में डिलीवरी से पहले सिलेंडर की टेस्टिंग होती है। 15 साल में दो बार हर सिलेंडर की क्वालिटी चेक होती है। पहला टेस्ट 10 साल बाद होता है फिर उसके बाद 5 साल बाद दोबारा टेस्ट किया जाता है। बता दें कि ऐसे सिलेंडर जिनकी डेट निकल चुकी है उनका इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है।

मजेदार जानकारियों से भरे कुछ लेख जो पसंद किए जा रहे हैं

(current affairs in hindi, gk question in hindi, current affairs 2019 in hindi, current affairs 2018 in hindi, today current affairs in hindi, general knowledge in hindi, gk ke question, gktoday in hindi, gk question answer in hindi,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here