Loading...    
   


APPLE HOSPITAL ने बकाया फीस के लिए शव को बंधक बनाया - INDORE NEWS

इंदौर।
 मध्य प्रदेश के इंदौर शहर के एप्पल हॉस्पिटल में युवक की कोरोना से मौत के बाद प्रबंधन में उसके शव को बंधक बना लिया जिस पर परिवार वालों ने हंगामा कर दिया। हॉस्पिटल प्रबंधन 4.5 लाख रुपए जमा करने पर अड़ा था। परिवार वालों का आरोप है कि बाहर से 6 रेमडेसिविर इंजेक्शन भी वही लाए थे। परिजन ने अस्पताल प्रबंधन पर दवा और इंजेक्शन की कालाबाजारी का आरोप लगाया है। काफी विवाद के बाद अस्पताल प्रबंधन ने शव सौंपा। 

6 अप्रैल से नरेश सिंह निवासी चित्रकूट को जो वर्तमान में संगम नगर में रहते थे संक्रमित होने के बाद एप्पल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां शनिवार सुबह मौत हो गई। परिजनों ने शव को लेने की बात की, तो अस्पताल प्रबंधन ने इलाज के रुपए मांगे। परिजन ने बताया, मरीज पॉजिटिव होने के बाद दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इसके बाद उन्हें आईसीयू में रखा था, लेकिन सही से उपचार नहीं होने के चलते मौत हो गई। साथ ही, उन्होंने अस्पताल प्रबंधक पर दवाई गोली और इंजेक्शन की कालाबाजारी का आरोप लगाया। कहा कि सभी दवाइयां बाहर से मंगाई जाती थीं। नरेश की पत्नी का कहना है कि रेमडेसिविर डॉक्टर द्वारा लिखे गए थे।

परिवार का कहना था, मुश्किल से इंजेक्शन का इंतजाम किया। उन्हें एक भी इंजेक्शन नहीं लगा। सभी इंजेक्शन बेच दिए गए। पति के इलाज के लिए कर्ज लिया है। नरेश को 25 अप्रैल से वेंटीलेटर पर रखा गया था। अस्पताल प्रबंधन ने ₹7 लाख रुपए बिल बना दिया। 3 लाख रुपए पहले जमा कर चुके थे। अब 4.5 लाख रुपए और मांग रहे हैँ। विवाद की स्थिति देखकर हॉस्पिटल के ने शव को परिजनों को सौंपा। बता दें, एप्पल हॉस्पिटल में कुछ दिनों पूर्व प्रशासन द्वारा मेडिकल द्वारा रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते हुए सील करने की कार्रवाई की गई थी ।

कोरोना मरीज के इलाज के लिए छह लाख का बिल दिए जाने के मामले में भंवरकुआं स्थित एप्पल अस्पताल को नोटिस जारी किया गया था। साथ ही, तीन सरकारी डॉक्टर्स को भी नोटिस दिए गए थे। जो अनुमति नहीं होने के बाद भी वहां इलाज के लिए गए। 22 दिन तक कोरोना मरीज को हॉस्पिटल में भर्ती रखा गया। छह लाख रुपये का बिल थमा दिया था । इतने भारी भरकम बिल के बावजूद एक लाख की दवाइयां अलग से मंगवाई थी। पीपीई किट, आइसोलेशन चार्ज और यूनिवर्सल प्रोटेक्शन के नाम पर प्रतिदिन 9,000 रुपये के हिसाब से राशि वसूल की गई थी।

हॉस्पिटल के PRO को 16 अप्रैल को कलेक्टर ने भेजा था जेल
शिकायत के बाद 4 अप्रैल को इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने निजी अस्पतालों की बैठक बुलाई थी, जिसमें एप्पल अस्पताल के पीआरओ द्वारा गलत जानकारी दिए जाने के बाद उन्हें फटकार लगाते हुए भवर कुआं को सूचित करते हुए धारा में मामला दर्ज करने को कहा था।

02 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here