Loading...    
   


7वें वेतनमान की अंतिम किस्त को तरस रहे हैं कोरोना योद्धा

जबलपुर
। मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने जारी विज्ञप्ति में बताया कि कोविड-19 कोरोना वायरस की आड़ में प्रदेश शासन द्वारा मई 2020 में मिलने वाली 7वें वेतनमान की तृतीय किस्त पर रोक लगा दी गई थी। शासन द्वारा जैसे-तैसे माह फरवरी 2021 में आदेश जारी कर भुगतान पर लगी रोक हटाते हुए तत्काल भुगतान करने के निर्देश दिये गये थे, किन्तु स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों की तानाशाही हठधर्मिता एवं स्वेच्छाचारित के चलते कोरोना योद्धाओं स्टाफ नर्स, एएनएम, एमपीडब्ल्यू, सुपरवाइजरों का आज दिनांक तक सातवें वेतनमान की तृतीय किस्त का भुगतान नहीं किया गया है। 

अधिकारियों द्वारा भुगतान न होने का कारण यह दिया जा रहा है कि सेवा पुस्तिकओं में कोष एवं लेखा का सत्यापन नहीं हुए है जबकि सातवां वेतनमान लागू हुए लगभग पांच वर्ष पूर्ण हो चुके है, इन पांच वर्षों में सेवा पुस्तिकाओं में सत्यापन कराया जा सकता था, किन्तु लापरवाह अधिकारियों द्वारा ऐसा नहीं किया गया। महामारी के इस दौर में कोरोना योद्धाओं के साथ हो रहे अन्याय को उचित नहीं ठहराया जा सकता है।

संघ के अर्वेन्द्र राजपूत, अवधेश तिवारी, आलोक अग्निहोत्री, नरेन्द्र दुबे, अटल उपाध्याय, मुकेश सिंह, परशुराम तिवारी, दुर्गेश पाण्डे, आशुतोष तिवारी, गोविन्द विल्थरे, रजनीश तिवारी, डी.डी.गुप्ता, पवन श्रीवास्तव, मुन्ना लाल पटैल, विश्वास शर्मा, राकेश राव, सत्येन्द्र ठाकर विवके तिवारी, श्यामनारायण तिवारी, नितिन अग्रवाल, गगन चौबे, संजय श्रीवास्तव, राकेश उपाध्याय, मो0 तारिख, धीरेन्द्र सोनी, संतोष तिवारी, अब्दुल्ला चिश्तिी, राकेश दुबे, गणेश उपाध्याय, महेश कोरी. आदि कलेक्टर जबलपुर से मांग की है कि स्वास्थ्य विभाग के फंट लाईन वर्कर कोरोना योद्धाओं को सातवें वेतनमान की तृतीय किश्त का शीध्र भुगतान कराया जावे तथा भुगतान में हो रहे विलंब के दोषी अधिकारियों पर कार्यवाही की जावे।

01 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here